अनुराग ठाकुर के बयान पर बोले चिदंबरम, चुनाव आयोग नींद से कब जागेगा ?

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 28, 2020   18:21
अनुराग ठाकुर के बयान पर बोले चिदंबरम, चुनाव आयोग नींद से कब जागेगा ?

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर के एक विवादित नारा लगाने पर भाजपा पर हमला बोला और दावा किया कि सत्तारूढ़ पार्टी के नेताओं के बयान 1930 के दशक के जर्मनी की याद दिलाते हैं। वित्त राज्यमंत्री ठाकुर ने कहा था, “ देश के गद्दारों को”, जिस पर भीड़ ने कहा था, “गोली मारो सा***को।”

नयी दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर के एक विवादित नारा लगाने पर मंगलवार को भाजपा पर हमला बोला और दावा किया कि सत्तारूढ़ पार्टी के नेताओं के बयान 1930 के दशक के जर्मनी की याद दिलाते हैं। पूर्व गृह मंत्री चिदंबरम ने ट्वीट किया, ‘‘मंत्री लोगों को ‘गोली मारो’ के नारे के साथ उकसा रहे हैं। क्या यह एक तबके के खिलाफ हिंसा के लिए भड़काना नहीं है?’’ उन्होंने सवाल किया, ‘‘चुनाव आयोग नींद से कब जागेगा?’’

इसे भी पढ़ें: शाह पर चिदंबरम का निशाना, कहा- गांधी का तिरस्कार करने वाले चाहेंगे शाहीन बाग से मुक्ति

चिदंबरम ने दावा किया, ‘‘एक-एक दिन बीतने के साथ ही भाजपा की तरफ से जो बयानबाजी हो रही है वह 1930 के दशक के जर्मनी की याद दिलाती है।’’ दरअसल, भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को तब विवाद पैदा कर दिया जब उन्होंने चुनावी रैली में आए लोगों को ‘गद्दारों को मारने वाला’ भड़काऊ नारा लगाने के लिए उकसाया। इससे पहले उन्होंने सीएए के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों पर निशाना साधा था।

इसे भी पढ़ें: भाजपा पर बरसे चिदंबरम, कहा- सत्ता में बैठे लोग हैं असली टुकड़े-टुकड़े गैंग

रैली में, वित्त राज्य मंत्री ठाकुर ने कहा था, “ देश के गद्दारों को”, जिस पर भीड़ ने कहा था, “गोली मारो सा***को।” रिठाला से भाजपा के उम्मीदवार मनीष चौधरी के समर्थन में एक जनसभा में ठाकुर ने शाहीनबाग में चल रहे सीएए विरोधी प्रदर्शन और कथित देश विरोधी नारों से विपक्षी पार्टियों को जोड़ते हुए भीड़ से विवादित नारे लगाने को कहा था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।