शादी में आए चाहे 50 या 100 अतिथि, होटल वाले वसूल रहे पूरी रकम

शादी में आए चाहे 50 या 100 अतिथि, होटल वाले वसूल रहे पूरी रकम

एक तरफ जहां होटल और मंडप संचालक पैसे कम करने को तैयार नहीं है वहीं अब लोगों के सामने एक और दिक्कत यह है कि शादी समारोह के लिए जिन अतिथियों को कार्ड देकर आमत्रिंत कर चुके है, अब किसे नहीं आने के लिए मना करें।

बढ़ते कोरोना मामलों के बीच अब लोगों को एक नई संकट का सामना करना पड़ रहा है। बता दें कि शादी के कारण मेरठ में कई होटल और मंडपो की बुकिंग एक महीने पहले ही हो चुकी है लेकिन अब तेजी से बढ़ रहे कोरोना मामलों के कारण सरकार ने अब शादी में लोगों को बुलाने की संख्या में फिर से कटौती कर दी है। जहां पहले शादी में अतिथियों की संख्या 200 थी अब वहीं घटकर दोबारा से 100 कर दी गई है। वहीं अब होटल और मंडप संचालक शादी में अतिथियों की संख्या कम होने के बावजुद भी पैसे में कटौती नहीं कर रहे है जिसके कारण आम लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। एक तरफ जहां होटल और मंडप संचालक पैसे कम करने को तैयार नहीं है वहीं अब लोगों के सामने एक और दिक्कत यह है कि शादी समारोह के लिए जिन अतिथियों को कार्ड देकर आमत्रिंत कर चुके है, अब किसे नहीं आने के लिए मना करें। 

इसे भी पढ़ें: BSF ने जम्मू-कश्मीर के सांबा में पाकिस्तानी घुसपैठिये को किया ढेर

अतिथियों की संख्या कम होने के बाद भी होटल वाले नहीं कर रहे पैसे में कटौती

जानकारी के मुताबिक कई लोगों ने शादी के एक महीने पहले ही 200 अतिथियों की होटल बुकिंग कर दी थी लेकिन बढ़ते कोरोना मामलों के बीच अब सरकार ने शादी में लोगों को बुलाने की संख्या फिर से 100 कर दी है। इस आदेश के बाद से अब लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि होटल वाले अब पैसे कम करने से मना कर रहे है। होटल वालों के मुताबिक, चाहे अतिथि 50 आए या 100, भुगतान तो 200 लोगों की बुकिंग का ही कराना होगा। बता दें कि सरकार के इस नए आदेश से होटल वाले भी काफी डरे हुए है। होटल संचालक अभिजीत दूबे ने बताया कि नए आदेशों से बुकिंग कराने वाले को अवगत कराएंगे। सरकार के इस आदेश से केवल 100 लोगों को ही बुकिंग की जाएगी। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।