मध्य प्रदेश के किस शहर का नाम होगा भेरूंदा, जाने मुख्यमंत्री ने की है घोषणा

मध्य प्रदेश के किस शहर का नाम होगा भेरूंदा, जाने मुख्यमंत्री ने की है घोषणा

नसरुल्ला खां और औबेदुल्ला खां बेगम सुल्तान जहां बेगम के बड़े बेटे थे। जिसके नाम पर 1908 में भोपाल रियासत ने अपने राजपत्र में भेरूंदा का नाम नसरूल्लागंज प्रकाशित कर नाम बदल दिया था। इसी प्रकार भोपाल और होशंगाबाद जिसका नाम बदलकर अब नर्मदापुरम करने की घोषणा की गई है

भोपाल। मध्य प्रदेश में होशंगाबाद के बाद राज्य सरकार ने प्रदेश के एक और शहर का नाम बदलने का फैसला किया है। यह शहर है मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की गृह जिले सीहोर की नसरुल्लागंज तहसील। मुख्यमंत्री ने सीहोर जिले के नसरूल्लागंज तहसील का नाम बदलकर भेरुंदा करने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान रविवार को अपने माता-पिता की स्मृति में आयोजित प्रेम-सुंदर मेमोरियल क्रिकेट टूर्नामेंट के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे।

इसे भी पढ़ें: साइकिल से विधानसभा पहुंचे कांग्रेस विधायक धक्का लगाते दिखे

गौरतलब है कि यह शहर मुख्यमंत्री के निर्वाचन क्षेत्र बुदनी विधानसभा में आता है। नसरुल्लागंज का नाम बदलकर भेरुंदा करने की मांग लंबे समय से चली आ रही थी। कार्यक्रम में मौजूद जनसमूह की मांग पर उन्होंने नाम बदलने की घोषणा कर दी। पिछले दिनों नर्मदा जयंति के दिन मुख्यमंत्री ने होशंगाबाद का नाम नर्मदापुरम करने की घोषणा की थी।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के शहडोल जिले में नशीली दवा देकर युवती के साथ भाजपा मंडल अध्यक्ष और उसके साथियों ने किया सामूहिक बलात्कार

दरआसल नसरुल्लागंज का नाम भोपाल नवाब परिवार के सदस्य रहे नसरुल्ला खां के नाम पर रखा गया था। भोपाल की नवाब सुल्तान जहां बेगम ने जब अपने सबसे छोटे बेटे हमीदुल्ला खां को भोपाल रियासत का नवाब बनाया तो उन्होंने अपने दो बड़े बेटों को जागीर सौंपी तो नसरुल्ला खां को जिस शहर की जागीर सौंपी गई, उसका नाम नसरुल्लागंज रखा गया। नसरुल्ला खां और औबेदुल्ला खां बेगम सुल्तान जहां बेगम के बड़े बेटे थे। जिसके नाम पर 1908 में भोपाल रियासत ने अपने राजपत्र में भेरूंदा का नाम नसरूल्लागंज प्रकाशित कर नाम बदल दिया था। इसी प्रकार भोपाल और होशंगाबाद जिसका नाम बदलकर अब नर्मदापुरम करने की घोषणा की गई है के बीच बसे औबेदुल्लागंज का नाम भी भोपाल बेगम ने अपने बडे़ बेटे औबेदुल्ला खां के नाम पर रखा था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...