प्रधानमंत्री ने कानून प्रवर्तन एजेसियों की खेदजनक स्थिति का जिक्र क्यों नहीं किया:चिदंबरम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 22, 2021   06:06
प्रधानमंत्री ने कानून प्रवर्तन एजेसियों की  खेदजनक स्थिति  का जिक्र क्यों नहीं किया:चिदंबरम

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा कि अदालत ने मेडिकल जांच नहीं कराए जाने को लेकर एनसीबी की आलोचना की थी ताकि ये पता लगाया जा सके कि आरोपी ने मादक पदार्थ का सेवन किया था या नहीं?

नयी दिल्ली| कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम ने रविवार को सवाल उठाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुलिस महानिदेशकों (डीजीपी) के सम्मेलन में देश की कानून प्रवर्तन एजेसियों की खेदजनक स्थिति का जिक्र क्यों नहीं किया।

चिदंबरम ने स्वापक नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) की तरफ इशारा करते हुए दावा किया कि बंबई उच्च न्यायालय ने बॉलीवुड अभिनेता शाहरूख खान के बेटे आर्यन खान को जमानत प्रदान करते हुए अपने आदेश में कहा था कि साजिश रचने का कोई साक्ष्य नहीं है।

इसे भी पढ़ें: राजस्थान में रविवार को 15 मंत्रियों को शपथ दिलाई जाएगी

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा कि अदालत ने मेडिकल जांच नहीं कराए जाने को लेकर एनसीबी की आलोचना की थी ताकि ये पता लगाया जा सके कि आरोपी ने मादक पदार्थ का सेवन किया था या नहीं?

चिदंबरम ने आरोप लगाया कि सवाल ये है कि किसने एनसीबी को इन युवाओं के पीछे लगाया और क्यों? कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि ये मामला दिशा रवि मामले का दोहराव है।

इसे भी पढ़ें: सिद्धू के इमरान को ‘‘बड़ा भाई’’ कहने को आम आदमी पार्टी ने बेहद चिंताजनक बताया





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।