PAK की जीत का जश्न मना रहे 6 लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया तो बोलीं महबूबा मुफ्ती, इतना गुस्सा क्यों ?

PAK की जीत का जश्न मना रहे 6 लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया तो बोलीं महबूबा मुफ्ती, इतना गुस्सा क्यों ?

पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने कहा कि जश्न मनाने वालों के खिलाफ इतना गुस्सा क्यों ? उन्होंने एक ट्वीट में कहा कि पाक की जीत का जश्न मनाने के लिए कश्मीरियों के खिलाफ इतना गुस्सा क्यों ? कुछ लोग देश के गदरों को गोली मारो जैसे जानलेवा नारे भी लगा रहे हैं।

श्रीनगर। टी20 विश्व कप के सुपर-12 मुकाबले में पाकिस्तान ने पहली बार भारतीय क्रिकेट टीम को हरा दिया। जिसके बाद जम्मू-कश्मीर की कई जगहों पर पाकिस्तानी क्रिकेट टीम की जीत का जश्न मनाया गया। इसी बीच जम्मू-कश्मीर पुलिस ने सांबा जिले के 6 लोगों को हिरासत में लिया। जबकि अन्य कुछ लोगों की तलाश अभी भी जारी है। इसी संबंध में पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती का बयान सामने आया है। 

इसे भी पढ़ें: पाक के बजाय, विकास के लिए जम्मू-कश्मीर के युवाओं से बात करेंगे : अमित शाह 

कुछ लोगों ने लगाए थे जानलेवा नारे  

महबूबा मुफ्ती ने कहा कि जश्न मनाने वालों के खिलाफ इतना गुस्सा क्यों ? उन्होंने एक ट्वीट में कहा कि पाक की जीत का जश्न मनाने के लिए कश्मीरियों के खिलाफ इतना गुस्सा क्यों ? कुछ लोग देश के गदरों को गोली मारो जैसे जानलेवा नारे भी लगा रहे हैं। कोई यह भूल नहीं सकता कि जम्मू-कश्मीर से विशेष दर्जा छीनने पर मिठाइयां बांटी गई थीं।

वहीं, महबूबा मुफ्ती ने दूसरे ट्वीट में कहा कि आइए सहमत हों असहत से और इसे विराट कोहली की तरह सही भावना से लें, जिन्होंने सबसे पहले पाकिस्तानी क्रिकेट टीम को बधाई दी थी। 

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान से हार के बाद कोहली से पूछा गया, क्या आप रोहित शर्मा को बाहर करोगे? पढ़ें कप्तान का जवाब 

दरअसल, टी20 विश्व कप के इतिहास में पाकिस्तान ने भारत के खिलाफ पहली जीत दर्ज की। जिसके बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली ने पाकिस्तान के सलामी बल्लेबाज मोहम्मद रिजवान गले लगातार जीत की बधाई दी। इतना नहीं भारतीय टीम के मेंटॉर महेंद्र सिंह धोनी ने भी खेलभावना जाहिर करते हुए पाकिस्तानी खिलाड़ियों के साथ बातचीत की। इस दौरान पाकिस्तानी कप्तान बाबर आजम ने धोनी से हाथ मिलाया। जिसकी तस्वीरें सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर काफी वायरल हो रही हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।