देश के नाम पर नहीं करेंगे राजनीति, केजरीवाल बोले- पंजाब की सुरक्षा के मामले में हम केंद्र के साथ हैं

देश के नाम पर नहीं करेंगे राजनीति, केजरीवाल बोले- पंजाब की सुरक्षा के मामले में हम केंद्र के साथ हैं
प्रतिरूप फोटो

विधानसभा के बजट सत्र में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि ये बजट आज़ाद भारत के इतिहास में एक रोज़गार बजट पेश है। चुनाव के समय में रोजदार की बात होती है और बाद में कोई बात नहीं होती है। हम 20 लाख नौकरियां देंगे। बजट में इसका पूरा खाका तैयार किया गया है।

नयी दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को कहा कि आम आदमी पार्टी की विचारधारा के 3 स्तंभ हैं। पहला- कट्टर देशप्रेम, हम देश के लिए मर मिटने को तैयार हैं, हमारे देश के लिए हम कुछ भी करने को तैयार हैं। दूसरा- कट्टर ईमानदारी, आज देश के दो राज्यों में कम से कम कट्टर ईमानदार सरकार है और तीसरा- इंसानियत, हम ट्रैफिक सिग्नल पर रहने वाले बच्चों के लिए 10 करोड़ की लागत से शानदार स्कूल बनाएंगे। 

इसे भी पढ़ें: किसके साथ गठबंधन करेगी आम आदमी पार्टी ? अरविंद केजरीवाल ने दिया दिलचस्प जवाब 

विधानसभा के बजट सत्र में अरविंद केजरीवाल ने कहा कि ये बजट आज़ाद भारत के इतिहास में एक रोज़गार बजट पेश है। चुनाव के समय में रोजदार की बात होती है और बाद में कोई बात नहीं होती है। हम 20 लाख नौकरियां देंगे। बजट में इसका पूरा खाका तैयार किया गया है।

उन्होंने कहा कि हम कट्टर ईमानदार है और अगर हमारा कोई किसी दिन पकड़ा गया तो उन्हें दोगुनी सजा दिलवाऊंगा। हमारे लिए देश सबसे ऊपर है। अभी भगवंत मान की प्रधानमंत्री मोदी के साथ बैठक हुई थी। जिसमें भगवंत मान ने कहा था कि पंजाब एक सीमावर्ती राज्य है। 

इसे भी पढ़ें: कश्मीरी पंडितों के दर्द पर अट्टहास लगाने वाले केजरीवाल ने अब नौकरी देने को लेकर बोला झूठ, प्रवासी शिक्षक संघ ने किया एक्सपोज 

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि देश की सुरक्षा और सीमा की सुरक्षा हमारे लिए सर्वोपरि है। इसीलिए मैं आपको यह आश्वासन दिलाता हूं देश की सुरक्षा के साथ हम किसी भी किस्म की राजनीति नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा कि आज आम आदमी खड़ा हो गया है। जब दिल्ली में हमारी सरकार बनी तो स्कूल, अस्पताल, सड़के अच्छी कर दी। उस वक्त सारे देश को लगा कि यह हो तो सकता है और लोगों के भीतर एक उम्मीद जागी है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।