ब्रह्म शंकर जिम्पा के आश्वासन के बाद राजस्व विभाग के स्टाफ ने हड़ताल वापस ली

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 30, 2022   20:35
ब्रह्म शंकर जिम्पा के आश्वासन के बाद राजस्व विभाग के स्टाफ ने हड़ताल वापस ली

पंजाब भवन में पंजाब राजस्व अधिकारी संघ के साथ बैठक के दौरान राजस्व मंत्री ने ऐसोसीएशन के प्रतिनिधियों को आश्वासन दिया कि उनकी सभी माँगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार किया जाएगा और उनको बड़े सार्वजनिक हितों के लिए तुरंत अपने कार्यालयों में जाकर काम शुरू करना चाहिए।

चण्डीगढ़ । पंजाब के राजस्व, पुनर्वास एवं आपदा प्रबंधन मंत्री  ब्रम शंकर जिम्पा के दख़ल और आश्वासन के बाद राजस्व विभाग के स्टाफ ने आज अपनी हड़ताल ख़त्म कर दी है और उन्होंने कैबिनेट मंत्री को आश्वासन दिया कि वह तुरंत काम पर वापस लौट रहे हैं और जनता को पूरे पारदर्शी ढंग से निर्विघ्न सेवाएं प्रदान करेंगे।

 

यहाँ पंजाब भवन में पंजाब राजस्व अधिकारी संघ के साथ बैठक के दौरान राजस्व मंत्री ने ऐसोसीएशन के प्रतिनिधियों को आश्वासन दिया कि उनकी सभी माँगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार किया जाएगा और उनको बड़े सार्वजनिक हितों के लिए तुरंत अपने कार्यालयों में जाकर काम शुरू करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: एसजीपीसी आज पेश करेगा अपना वार्षिक बजट, समिति के सदस्यों ने ट्रस्टों के खिलाफ आरोपों को खारिज किया

ब्रम शंकर जिम्पा ने कहा कि आम आदमी पार्टी के संयोजक श्री अरविन्द केजरीवाल और मुख्यमंत्री स. भगवंत मान के योग्य नेतृत्व अधीन पंजाब सरकार कर्मचारियों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है और पंजाब राजस्व अधिकारी संघ की माँगों को मुख्यमंत्री के समक्ष उठाया जाएगा, जिससे इनका जल्द हल निकाला जा सके। इस बैठक के दौरान अतिरिक्त मुख्य सचिव-सह-वित्त आयुक्त राजस्व श्री विजय कुमार जंजूआ और अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

कैप्शन: पंजाब के राजस्व, पुनर्वास एवं आपदा प्रबंधन मंत्री श्री ब्रम शंकर जिम्पा बुधवार को पंजाब भवन, चण्डीगढ़ में पंजाब राजस्व अधिकारी संघ के प्रतिनिधियों के साथ बैठक करते हुए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।