मां के शव को चारपाई पर उठाकर गांव ले गई मजबूर बेटी, मदद का हाथ न बढ़ाकर बनाते रहे लोग वीडियो

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 30, 2022   18:06
मां के शव को चारपाई पर उठाकर गांव ले गई मजबूर बेटी, मदद का हाथ न बढ़ाकर बनाते रहे लोग वीडियो

शव-वाहन न मिलने पर शव को चारपाई पर रख कर चार महिलाएं अपने गांव ले गईं।यह घटना रीवा जिला मुख्यालय से महज 20 किलोमीटर दूर मंगलवार को हुई और शव को कंधे में रखकर ले जाते हुए इन महिलाओं का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।

रीवा (मप्र)। मध्यप्रदेश के रीवा जिले में रायपुर कर्चुलियान सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर शव-वाहन न मिलने पर एक महिला के शव को चारपाई पर रख कर चार महिलाएं वहां से पांच किलोमीटर दूर महसुआ गांव ले गईं। प्रत्यक्षदर्शियों ने बुधवार को बताया कि जो चार महिलाएं कंघे पर रख कर इस चारपाई को ले जा रही थीं, उनमें से एक महिला इस मृतक की बेटी है, जबकि तीन अन्य रिश्तेदार हैं। यह घटना रीवा जिला मुख्यालय से महज 20 किलोमीटर दूर मंगलवार को हुई और शव को कंधे में रखकर ले जाते हुए इन महिलाओं का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।

इसे भी पढ़ें: पहले पत्नी, फिर बच्चें समेत एक रिश्तेदार की हत्या कर फरार हुआ पति, मां को फोन कर सुनाई झूठी कहानी

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एल. मिश्रा ने बताया कि यह महिला लंबे अर्से से बीमार थी और उसे स्वास्थ्य केंद्र पर कई बार भर्ती किया गया था एवं मंगलवार को इलाज के दौरान इसकी मृत्यु हुई। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य केन्द्र में शव-वाहन नहीं है, ऐसे शव-वाहन के इंतजाम के लिए प्रशासन और नगर पंचायत को सूचना दी गई थी एवं उसका इंतजाम किया भी जा रहा था लेकिन इसी बीच, परिवार की महिलाएं शव को लेकर चली गई। मिश्रा ने बताया कि शव-वाहन की समस्या अकेले इस सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की नहीं है, पूरे जिले के अस्पतालों में यह उपलब्ध नहीं है। उनका कहना था कि स्वास्थ्य केंद्र में एम्बुलेंस दी गई है जो मरीजों को लाने एवं ले जाने का कार्य करती है जबकि शव वाहन उपलब्ध कराना नगर निगम और नगर पंचायतों के जिम्मे है। उन्होंने कहा कि लोगों को वीडियो वायरल करने की बजाय अस्पतालों को शव-वाहन दान देकर इस समस्या का हल करने में मदद करना चाहिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...