येदियुरप्पा बोले, तीन-चार दिनों में होगा मंत्रिमंडल का विस्तार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 25, 2020   10:06
येदियुरप्पा बोले, तीन-चार दिनों में होगा मंत्रिमंडल का विस्तार

विश्व आर्थिक मंच की बैठक में शिरकत करने के बाद दावोस से यहां आने पर उन्होंने दोहराया कि वह जद (एस)-कांग्रेस के अयोग्य करार दिए गए और उपचुनाव में भाजपा के टिकट पर फिर से निर्वाचित हुए विधायकों को मंत्री बनाने का अपना वादा पूरा करेंगे।

बेंगलुरु। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने शुक्रवार को कहा कि उनके मंत्रिमंडल का बहुप्रतीक्षित विस्तार तीन-चार दिनों में किया जाएगा। विश्व आर्थिक मंच की बैठक में शिरकत करने के बाद दावोस से यहां आने पर उन्होंने दोहराया कि वह जद (एस)-कांग्रेस के अयोग्य करार दिए गए और उपचुनाव में भाजपा के टिकट पर फिर से निर्वाचित हुए विधायकों को मंत्री बनाने का अपना वादा पूरा करेंगे। लेकिन, स्पष्ट कर दिया कि हारने वालों को मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: दावोस से लौटने के बाद होगा मंत्रिमंडल विस्तार : येदियुरप्पा

येदियुरप्पा ने कहा, ‘‘मैंने (राज्य के) हालिया दौरे के दौरान भी उनके (केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह) साथ चर्चा की थी। तीन-चार दिनों में मंत्रिमंडल का विस्तार होगा। इस महीने सौ प्रतिशत हो जाएगा।’’ उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि दिल्ली जाने की उन्हें कोई जरूरत नहीं है क्योंकि शाह से वह चर्चा कर चुके हैं और इसके लिए सहमति भी मिल चुकी है। 

इसे भी पढ़ें: कर्नाटक के मंत्री ने कुमारस्वामी से पूछा, पाक से प्यार? आपको भारत में क्यों रहना चाहिए?

उपचुनाव में जीत हासिल करने वाले कितने विधायकों को मंत्री बनाया जाएगा, इस बारे में पूछे जाने पर येदियुरप्पा ने कहा, ‘‘मंत्रिमंडल विस्तार होने पर आपको इस बारे में पता चल जाएगा । तब तक इंतजार कीजिए। वर्तमान में राज्य में मुख्यमंत्री सहित 18 मंत्री हैं। अधिकतम 34 मंत्री हो सकते हैं। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।