• योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों से मांगी सरकारी दफ्तरों की सुरक्षा की समीक्षा रिपोर्ट

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विधान भवन के बगल में स्थित चाक-चौबंद सुरक्षा वाली एक इमारत में एक वरिष्ठ नौकरशाह के निजी सचिव द्वारा खुद को गोली मारे जाने की घटना को गंभीरता से लेते हुए अधिकारियों को सुरक्षा की समीक्षा करके अपनी रिपोर्ट पेश करने को कहा है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विधान भवन के बगल में स्थित चाक-चौबंद सुरक्षा वाली एक इमारत में एक वरिष्ठ नौकरशाह के निजी सचिव द्वारा खुद को गोली मारे जाने की घटना को गंभीरता से लेते हुए अधिकारियों को सुरक्षा की समीक्षा करके अपनी रिपोर्ट पेश करने को कहा है। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता के मुताबिक मुख्यमंत्री ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक में कहा, सचिवालय तथा अन्य संवेदनशील सरकारी दफ्तरों की सुरक्षा और मजबूत की जानी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: किसानों ने नोएडा प्राधिकरण के खिलाफ खोला मोर्चा, सुखवीर पहलवान पुलिस हिरासत में

गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव, अपर पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था तथा सचिवालय प्रशासन इन परिसरों की सुरक्षा व्यवस्था की गहराई से समीक्षा करके अपनी रिपोर्ट पेश करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसी को भी इन इमारतों में हथियार लेकर प्रवेश की इजाजत न दी जाए। इन परिसरों में साफ-सफाई की भी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए और किसी को भी पान मसाला, गुटखा या तंबाकू खाकर अंदर न जाने दिया जाए।

इसे भी पढ़ें: कोरोना की दूसरी लेहर के बाद प्रदेश के स्कूलों में शुरू हुई कक्षायें, यह रहेंगे नियम

गौरतलब है कि विधान भवन के बगल में स्थित बापू भवन में नगर विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव रजनीश दुबे के निजी सचिव विशंभर दयाल ने पिछली 30 अगस्त को आठवीं मंजिल पर स्थित अपने कमरे में लाइसेंसी रिवाल्वर से खुद को गोली मार ली थी। उनका इलाज किया जा रहा है। उनकी हालत अब भी नाजुक बनी हुई है। बापू भवन में अनेक मंत्रियों तथा आला अफसरों के दफ्तर हैं।