मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का दावा, उत्तर प्रदेश में कोरोना से रिकवरी दर 94 प्रतिशत से अधिक हुई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 26, 2021   08:56
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का दावा, उत्तर प्रदेश में कोरोना से रिकवरी दर 94 प्रतिशत से अधिक हुई

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कहा कि महामारी की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए प्रदेश में पहले से ही युद्ध स्तर पर तैयारियां की जा रही हैं।

गोरखपुर (उत्तर प्रदेश)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कहा कि महामारी की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए प्रदेश में पहले से ही युद्ध स्तर पर तैयारियां की जा रही हैं। कोविड प्रबंधन कार्यक्रम का जायजा के लिए मंगलवार को गोरखपुर पहुंचे मुख्यमंत्री बीआरडी मेडिकल कॉलेज में मंडलीय समीक्षा बैठक करने के बाद मीडिया से मुखातिब थे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महामारी की पहली लहर में ‘ट्रेस, टेस्ट और ट्रीट’ का जो मंत्र दिया था उस पर निरंतर चलते हुए हमने दूसरी लहर को भी सफलतापूर्वक नियंत्रित किया। मुख्यमंत्री ने बताया कि राज्य में संक्रमण की दर लगतार कम हो रही है जबकि रिकवरी दर में लगातार वृद्धि हो रही है।

इसे भी पढ़ें: जयशंकर ने संयुक्त राष्ट्र के महासचिव से मुलाकात की, वैश्विक टीका समाधान तलाशने पर जोर दिया

उन्होंने कहा, ‘‘राज्य में रिकवरी दर 94 फीसद से अधिक है जबकि संक्रमण की दर औसतन 3 फीसद के आसपास है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘तीसरी लहर की आशंका के मद्देनजर हमारी तैयारियां बहुत तेजी से चल रही हैं। सभी मेडिकल कॉलेजों में 100-100 बेड के पीडियाट्रिक आईसीयू (पीकू) (बच्चों के आईसीयू) बनाए जा रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: गहलोत ने कहा, कोरोना मरीजों के ईलाज के लिए निर्धारित दरों से अधिक वसूली की शिकायतों पर तत्परता से कार्रवाई हो

साथ ही सभी जिला अस्पतालों में 25 से 30 बेड के पीकू क्रियाशील किए जा रहे हैं।’’ मुख्यमंत्री ने कहा कि एक जून से सभी जिलों में 18 से 44 वर्ष के लोगों टीकाकरण होगा और हर जिले में 12 साल से कम उम्र के बच्चों के अभिभावकों के लिए अभिभावक स्पेशल बूथ बनेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...