जयपुर की खूबसूरत महारानी को क्यों तिहाड़ जेल में गुजारने पड़े थे 156 दिन, जिनके महल में छापे के दौरान मिला था सोने का भंडार

Gayatri Devi
Prabhasakshi
अभिनय आकाश । Jul 29, 2022 12:55PM
महारानी गायत्री देवी दुनिया की शीर्ष 10 सबसे खूबसूरत महिलाओं में शामिल थीं। कहा जाता है कि महारानी गायत्री देवी एक असाधारण महिला थीं। सुंदर होने के साथ-साथ वह काफी बुद्धिमान भी थीं। वोग मैगजीन की 10 सबसे खूबसूरत महिलाओं की लिस्ट में महारानी गायत्री देवी का नाम शामिल था।

आज जयपुर की महारानी गायत्री देवी की पुण्यतिथि है। इस बात से कोई इंकार नहीं है कि वह दिल्ली की तिहाड़ जेल में सलाखों के पीछे समय बिताने वाली सबसे खूबसूरत महिला थीं। महारानी गायत्री देवी पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की मुखर आलोचक थीं और उन्हें आपातकाल के दौरान गिरफ्तार कर लिया गया था। महारानी गायत्री देवी भी स्वतंत्र पार्टी के उम्मीदवार के रूप में कांग्रेस के खिलाफ चुनाव लड़ती थीं। साल 2017 में आई अजय देवगन की फिल्म बादशाहो फिल्म जिसमें इमरजेंसी के दौर में राजस्थान के अरबों के खजाने की सरकारी लूट वाले बहुचर्चित किस्से को बताया गया था। इस फिल्म में इलियाना डी क्रूज का किरदार असल जिंदगी से प्रेरित है। बादशाहो' फिल्म में अभिनेत्री इलियाना डी क्रूज ने महारानी गीतांजलि के किरदार को निभाया था। जोकि असल में महारानी गायत्री देवी से प्रेरित था। आइए जानते हैं महारानी गायत्री देवी से जुड़े कुछ रोचक तथ्य।

महारानी गायत्री देवी दुनिया की शीर्ष 10 सबसे खूबसूरत महिलाओं में शामिल थीं। कहा जाता है कि महारानी गायत्री देवी एक असाधारण महिला थीं। सुंदर होने के साथ-साथ वह काफी बुद्धिमान भी थीं। वोग मैगजीन की 10 सबसे खूबसूरत महिलाओं की लिस्ट में महारानी गायत्री देवी का नाम शामिल था। महारानी गायत्री देवी का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है। महारानी गायत्री देवी 1962 से 1975 तक सांसद रहीं। 1962 में उन्होंने पहली बार स्वतंत्र पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ा और कांग्रेस उम्मीदवार शारदी देवी को भारी अंतर से हराया। उन्हें 250,272 योग्य वोटों में से 192,909 वोट मिले, जबकि कांग्रेस उम्मीदवार को केवल 35,217 वोट मिले। इतने बड़े अंतर से चुनाव जीतने के लिए उनका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल किया गया था।

इसे भी पढ़ें: जानें अगस्त क्रांति का आगाज़ करने वाली अरुणा आसफ अली की कहानी

महारानी गायत्री देवी का जन्म 23 मई, 1919 को लंदन, यूनाइटेड किंगडम में हुआ था। उनके पिता का नाम जितेंद्र नारायण और माता का नाम इंदिरा देवी था। महारानी गायत्री देवी के पिता बंगाल में कूचबिहार के राजा थे। महारानी गायत्री देवी का विवाह जयपुर के महाराजा सवाई मान सिंह द्वितीय से 9 मई 1940 को हुआ था। 1975 में आपातकाल के दौरान महारानी गायत्री देवी को गिरफ्तार किया गया था। आपातकाल के समय इंदिरा गांधी ने राजमाता गायत्री देवी को जेल में डाल दिया था। इसके बाद जयपुर में सेना भेज दी। किले की खुदाई की गई। खुदाई में यहां बहुत सारा सोना और हीरे-जवाहरात मिले। क्या सचमुच जयपुर राजघराने का खज़ाना इंदिरा गांधी ने ज़ब्त कर लिया था? यह बात आज भी रहस्य बनी हुई है। गायत्री देवी ने अपनी किताब द प्रिंसेस रिमेम्बर्स में लिखा है कि फरवरी में इनकम टैक्स छापों के दौरान मोती डूंगरी महल में फर्श के नीचे सोने के सिक्कों का भंडार मिला था। इनकम टैक्स अफसर भी इतना बड़ा खजाना देखकर दंग रह गए थे। गायत्री देवी ने इन छापों को लेकर अपनी किताब में विस्तार से इसका जिक्र किया है।

इसे भी पढ़ें: विधवा-पुनर्विवाह के प्रबल समर्थक और महान समाज सुधारिक ईश्वर चंद्र विद्यासागर से जुड़ी अनसुनी बातें

महारानी गायत्री देवी करीब 5 महीने तक दिल्ली की तिहाड़ जेल में कैद रहीं। गायत्री देवी ने अपनी किताब- ए प्रिंसेज रिमेंबर्स में आपातकाल में उनकी गिरफ्तारी से लेकर 156 दिन जेल में रखे जाने का ब्यौरा दिया है। आपातकाल के दौरान, उन्हें 1975 में अघोषित संपत्ति के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। जेल से रिहा होने के करीब 1 साल बाद महारानी गायत्री देवी ने राजनीति से संन्यास ले लिया। महारानी गायत्री देवी का 29 जुलाई 2009 को 90 वर्ष की आयु में निधन हो गया।

- अभिनय आकाश

अन्य न्यूज़