विधवा-पुनर्विवाह के प्रबल समर्थक और महान समाज सुधारिक ईश्वर चंद्र विद्यासागर से जुड़ी अनसुनी बातें

Ishwar Chandra Vidyasagar
Prabhasakshi
अभिनय आकाश । Jul 29, 2022 12:37PM
ईश्वर चंद्र बंदोपाध्याय का जन्म 26 सितंबर, 1820 को बंगाल के मिदनापुर जिले के बिरसिंह गांव में हुआ था। उनके पिता ठाकुरदास बंद्योपाध्याय और माता भगवती देवी का धार्मिक कार्यों की तरफ झुकाव बेहद ज्यादा था।

ईश्वर चंद्र विद्यासागर बंगाल पुनर्जागरण के स्तंभों में से एक थे। 1800 के दशक की शुरुआत में विद्यासागर राजा राममोहन रॉय द्वारा शुरू किए गए सामाजिक सुधार आंदोलन को जारी रखने में कामयाब रहे। विद्यासागर एक प्रसिद्ध लेखक, बुद्धिजीवी और सबसे बढ़कर मानवता के कड़े समर्थक थे। उनका एक प्रभावशाली व्यक्तित्व था और अपने समय के ब्रिटिश अधिकारियों द्वारा भी उनका सम्मान किया जाता था। उन्होंने बंगाली शिक्षा प्रणाली में क्रांति ला दी और बंगाली भाषा को लिखने और सिखाने के तरीके को आगे बढ़ाने का काम किया। उनकी पुस्तक, 'बोर्नो पोरिचॉय' (पत्र का परिचय), अभी भी बंगाली वर्णमाला सीखने के लिए परिचयात्मक पाठ के रूप में उपयोग की जाती है। कई विषयों में उनके विशाल ज्ञान के कारण उन्हें 'विद्यासागर' (ज्ञान का सागर) की उपाधि दी गई थी। कवि माइकल मधुसूदन दत्ता ने ईश्वर चंद्र के बारे में लिखते हुए कहा था कि  "एक प्राचीन ऋषि की प्रतिभा और ज्ञान, एक अंग्रेज की ऊर्जा और एक बंगाली मां का दिल।

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा

ईश्वर चंद्र बंदोपाध्याय का जन्म 26 सितंबर, 1820 को बंगाल के मिदनापुर जिले के बिरसिंह गांव में हुआ था। उनके पिता ठाकुरदास बंद्योपाध्याय और माता भगवती देवी का धार्मिक कार्यों की तरफ झुकाव बेहद ज्यादा था। परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी इसलिए ईश्वर का बचपन बेहद सादगी और आभावों में बीता। ईश्वर चंद्र बचपन से ही एक तेज दिमाग वाले और स्वाभाव से हठी थे। उन्होंने अपनी पढ़ाई में अपना ध्यान केंद्रित किया। उन्होंने ग्राम पाठशाला में संस्कृत की मूल बातें सीखीं, जिसके बाद वे 1826 में अपने पिता के साथ कलकत्ता चले गए। एक छात्र के रूप में उनकी प्रतिभा और समर्पण के बारे में कई मिथक हैं। ऐसा कहा जाता है कि ईश्वर चंद्र विद्यासागर ने कलकत्ता जाते समय राह में लगे मील-पत्थरों के लेबल का अनुसरण करके अंग्रेजी के अंक सीखे। उनके पिता ठाकुरदास अपने बेटों के साथ कलकत्ता के बुराबाजार इलाके में रहते थे और पैसे की कमी थी इसलिए ईश्वर चंद्र स्कूल के बाद घर के कामों में मदद करते थे, और रात में वे गैस जलाए हुए स्ट्रीट लैंप के नीचे पढ़ते थे ताकि अगले खाना पकाने के लिए तेल बचा सकें।

इसे भी पढ़ें: बाल गंगाधर तिलक एक स्वतंत्रता सेनानी और शिक्षक, जिन्होंने उठाई थी पूर्ण स्वराज की मांग

ईश्वर चंद्र विद्यासागर का करियर

1841 में इक्कीस वर्ष की आयु में ईश्वर चंद्र ने फोर्ट विलियम कॉलेज के संस्कृत विभाग में प्रधान पंडित के रूप में ज्वाइन किया लिया। वे जितने तेज दिमाग के थे, जल्द ही वे अंग्रेजी और हिंदी में पारंगत हो गए। पांच साल बाद 1946 में विद्यासागर ने फोर्ट विलियम कॉलेज छोड़ दिया और संस्कृत कॉलेज में 'सहायक सचिव' के रूप में कार्य करने लगे। लेकिन एक साल बाद ही उन्होंने कॉलेज सचिव रासोमॉय दत्ता के साथ प्रशासनिक परिवर्तन की सिफारिश को लेकर विवाद हो गया। चूंकि विद्यासागर सत्ता के आगे झुकने वाले व्यक्ति नहीं थे, इसलिए उन्होंने कॉलेज के अधिकारियों द्वारा मना किए जाने पर पद से इस्तीफा दे दिया और फोर्ट विलियम कॉलेज में एक हेड क्लर्क के रूप में रोजगार फिर से शुरू किया। बाद में वो कॉलेज के अधिकारियों के अनुरोध पर एक प्रोफेसर के रूप में संस्कृत कॉलेज में वापस आए, लेकिन इसके लिए एक शर्त रखी कि उन्हें सिस्टम को फिर से डिजाइन करने की अनुमति दी जाए। वे 1851 में संस्कृत कॉलेज के प्राचार्य बने। 1855 में उन्होंने अतिरिक्त प्रभार वाले स्कूलों के विशेष निरीक्षक के रूप में जिम्मेदारियों को ग्रहण किया और शिक्षा की गुणवत्ता की निगरानी के लिए बंगाल के दूरदराज के गांवों की यात्रा की।

इसे भी पढ़ें: ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ बगावत की चिंगारी भड़काने वाले क्रांतिकारी मंगल पांडे की कहानी

समाज सुधार

विद्यासागर उस समय समाज द्वारा महिलाओं पर किए जा रहे उत्पीड़न के बारे में हमेशा मुखर रहते थे। वह अपनी माँ के बहुत करीब थे, जो एक महान चरित्र की महिला थीं। विद्यासागर ने विधवाओं के विवाह के लिए खूब आवाज उठाई और उसी का नतीजा था कि विधवा पुनर्विवाह कानून-1856 पारित हुआ। विद्यासागर यहीं नहीं रुके। उन्होंने सम्मानित परिवारों के भीतर बाल या किशोर विधवाओं के लिए कई जोड़ों की शादी करवाई और यहां तक कि एक उदाहरण स्थापित करने के लिए 1870 में अपने बेटे नारायण चंद्र का विवाह एक किशोर विधवा से कर दिया।

- अभिनय आकाश

अन्य न्यूज़