13 साल की उम्र में हो गयी थी मोहम्मद रफ़ी साहब की शादी

Mohammed Rafi
Prabhasakshi
रेनू तिवारी । Jul 30, 2022 4:04PM
मोहम्मद रफ़ी ने एक हजार से अधिक हिंदी फिल्मों और कई भारतीय भाषाओं के साथ-साथ कुछ विदेशी भाषाओं में गाने रिकॉर्ड किए। हालांकि मुख्य रूप से उर्दू और पंजाबी में, जिस पर उनकी मजबूत पकड़ थी। उन्होंने अपने पूरे कॅरियर में 7,000 से अधिक गाने रिकॉर्ड किए।

40 साल से ज्यादा का वक्त बीत चुका है जब बॉलीवुड के दिग्गज गायक मोहम्मद रफ़ी दिल का दौरा पड़ने के कारण हम सभी को छोड़कर चले गए थे। 31 जुलाई 1980 को गायक ने फिल्म 'आस पास' के लिए एक गीत रिकॉर्ड करने के बाद इस दुनिया को छोड़ दिया। काफी देर से रफ़ी जी के सीने में दर्द हो रहा था, लेकिन उन्होंने किसी को नहीं बताया और काम पर चले गये। गाना रिकॉर्ड करने के कुछ देर बाद ही मोहम्मद रफ़ी की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई। अपने घर में प्यार से फिको कहे जाने वाले मोहम्मद रफ़ी का बॉलीवुड कॅरियर काफी शानदार रहा और उन्होंने अपने जीवन में 26 हजार से ज्यादा गाने गाए। गीतकार हमेशा से गायक बनना चाहते थे लेकिन लोकप्रियता के पीछे कभी नहीं भागे। क्या हुआ तेरा वादा, लिखे जो खट तुझे, बाबुल की दुआएं लेटी जा और अन्य जैसे उनके गीत अभी भी लोगों कि यादों में बसें है और भावनाओं से जुड़े हैं। मोहम्मद रफ़ी सिर्फ एक गायक ही नहीं थे, बल्कि अपने भावपूर्ण संगीत से हर दिल को छूने की क्षमता रखते थे। आइए उनकी 42वीं पुण्यतिथि पर मोहम्मद रफ़ी के जीवन और उनके बारे में 10 अनसुने तथ्यों पर एक नज़र डालते हैं।

मोहम्मद रफ़ी की उपलब्धियां

मोहम्मद रफ़ी का जन्म 24 दिसंबर 1924 को हुआ था। उन्हें भारतीय उपमहाद्वीप के सबसे महान और सबसे प्रभावशाली गायकों में से एक माना जाता है। रफी अपनी बहुमुखी प्रतिभा और आवाज की सीमा के लिए उल्लेखनीय थे। उन्हें छह फिल्मफेयर पुरस्कार और एक राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिल चुका था। 1967 में उन्हें भारत सरकार द्वारा पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। 2001 में रफ़ी को हीरो होंडा और स्टारडस्ट पत्रिका द्वारा "मिलेनियम के सर्वश्रेष्ठ गायक" के खिताब से सम्मानित किया गया था। 2013 में CNN-IBN के सर्वेक्षण में रफ़ी को हिंदी सिनेमा की महानतम आवाज़ के लिए वोट दिया गया था।

इसे भी पढ़ें: गंगूबाई हंगल ने कई बाधाओं को पार कर अपनी गायिकी को एक मुकाम तक पहुंचाया

अनेक भाषाओं में रिकॉर्ड किए गाने

उन्होंने एक हजार से अधिक हिंदी फिल्मों और कई भारतीय भाषाओं के साथ-साथ कुछ विदेशी भाषाओं में गाने रिकॉर्ड किए। हालांकि मुख्य रूप से उर्दू और पंजाबी में, जिस पर उनकी मजबूत पकड़ थी। उन्होंने अपने पूरे कॅरियर में 7,000 से अधिक गाने रिकॉर्ड किए, जिसमें कोंकणी, असमिया, भोजपुरी, ओडिया, बंगाली, मराठी, सिंधी, कन्नड़, गुजराती, तमिल, तेलुगु, मगही, मैथिली, आदि जैसी कई भाषाओं और बोलियां शामिल हैं। उन्होंने अंग्रेजी, फ़ारसी, अरबी, सिंहल, मॉरीशस क्रियोल और डच सहित कुछ विदेशी भाषाओं में भी गाया।

मोहम्मद रफ़ी की जिंदगी से जुड़ी कुछ अनसुनी बातें

- मोहम्मद रफ़ी ने 13 साल की उम्र में शादी कर ली थी लेकिन दुनिया को इसके बारे में पता नहीं था। गायक ने अपने चाचा की बेटी बशीरन बेगम से शादी की और केवल उनके घरवालों को ही उनकी शादी के बारे में पता था। हालांकि शादी के कुछ साल बाद दोनों अलग हो गए।

- कुछ साल बाद रफ़ी ने 19 साल की उम्र में बिलकिस से शादी कर ली। जबकि रफ़ी का जीवन संगीत के इर्द-गिर्द घूमता था, उनकी पत्नी को संगीत में कोई दिलचस्पी नहीं थी और उन्होंने कभी उनके गाने नहीं सुने थे।

इसे भी पढ़ें: काका जैसी शोहरत हर किसी को नहीं मिला करती, पढ़ें राजेश खन्ना के जीवन के रोचक किस्से

- रफ़ी के साले मोहम्मद हमीद ने रफ़ी में प्रतिभा देखी और उनका उत्साह बढ़ाया। चूंकि रफी अपने परिवार के साथ एक चॉल में रहते थे, इसलिए वह सुबह साढ़े तीन बजे उठ जाते थे और गायन का अभ्यास करने के लिए मरीन ड्राइव तक चले जाते थे। 

- रफ़ी का पहला सार्वजनिक प्रदर्शन 13 साल की उम्र में हुआ, जब उन्हें महान केएल सहगल की एक संगीत कार्यक्रम में गाने की अनुमति दी गई।

- 1944 में मोहम्मद रफ़ी ने लाहौर में जीनत बेगम के साथ एक युगल गीत 'सोनिये नी, हीरिये नी' में पार्श्व गायन की शुरुआत की।

- मोहम्मद रफ़ी को पब्लिसिटी और शोहरत से नफरत थी। जब भी उन्हें किसी शादी में शामिल होना होता था तो वह अपने ड्राइवर को गेट पर रुकने के लिए कहते थे। गायक सीधे जोड़े के पास जाते, उन्हें आशीर्वाद देते थे और शादी छोड़कर सीधे वापस आ जाते थे।

- रफ़ी साहब को गाने के अलावा पतंग उड़ाने का भी शौक था। रिकॉर्डिंग पूरी होने के बाद गायक हमेशा पतंग उड़ाता था।

- मोहम्मद रफ़ी और गायिका लता मंगेशकर ने गायकों को दी जाने वाली रॉयल्टी से संबंधित उनके मतभेद के कारण छह साल तक एक-दूसरे से बात नहीं की। उन्होंने उन छह वर्षों तक एक-दूसरे के साथ काम भी नहीं किया।

- रेनू तिवारी

अन्य न्यूज़