तालिबान पर क्यों मेहरबान हैं भारत के कुछ भाईजान, भाजपा के जन आशीर्वाद यात्रा का मकसद क्या

तालिबान पर क्यों मेहरबान हैं भारत के कुछ भाईजान, भाजपा के जन आशीर्वाद यात्रा का मकसद क्या

शिवसेना सांसद संजय राउत ने दावा किया कि ‘जन आशीर्वाद यात्रा’ तीसरी लहर का निमंत्रण है। विभिन्न राज्यों में केंद्रीय मंत्री यह यात्रा कर रहें हैं। राउत ने कहा कि उन्होंने भाजपा से धैर्य रखने को कहा है। राज्य सभा सदस्य ने दावा किया कि जन आशीर्वाद यात्रा तीसरी लहर को निमंत्रण देना है।

वैसे तो इस सप्ताह देश में कई मुद्दे रहे लेकिन सबसे ज्यादा चर्चा अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे को लेकर रही। प्रभासाक्षी के खास कार्यक्रम चाय पर समीक्षा में भी हमने इसी बात पर चर्चा की। साथ ही साथ हमने यह भी जाना कि कैसे भाजपा जन आशीर्वाद यात्रा निकालकर लोगों से सीधे संबंध बना रही है। हमारे कार्यक्रम में शामिल रहे प्रभासाक्षी के संपादक नीरज कुमार दुबे जी। अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे को भारत में कुछ लोगों का समर्थन मिल रहा है। इसी को लेकर हमने नीरज दुबे से सवाल किया। 

इस पर नीरज दुबे ने कहा कि समाजवादी पार्टी के सांसद शफीक उर रहमान बर्क, ऑल इंडिया मुस्लिम लॉ बोर्ड के सदस्य मौलाना सज्जाद नोमानी और शायर मुनव्वर राणा आदि जैसे लोग तालिबानी मानसिकता को बढ़ावा देने में लगे हैं। यह लोग तालिबान का गुणगान करते थक नहीं रहे हैं लेकिन इन्हें ध्यान रखना चाहिए कि उनके ऐसे बयान अशांति फैला सकते हैं और आगामी चुनावों को देखते हुए इन बयानों को यदि मुद्दा बनाया गया तो सामाजिक सद्भाव बिगड़ सकता है। समय की माँग है कि ऐसे बयान देकर मीडिया या सोशल मीडिया पर छाने की चाह रखने वाले लोगों पर सरकार और प्रशासन सख्त कार्यवाही करें।

इसे भी पढ़ें: अमेरिका की मौजूदगी के बावजूद अफगानिस्तान पर आतंकी कब्जा होना पूरी दुनिया के लिए बड़ा संदेश

हमने भाजपा के जन आशीर्वाद यात्रा पर भी सवाल किया और पूछा कि जो संजय राउत शंका जाहिर कर रहे हैं कि यह आशीर्वाद यात्रा कोरोना की तीसरी लहर ला सकती है क्योंकि इस आशीर्वाद यात्रा में भीड़ देखने को मिल रही है। इस पर नीरज दुबे ने कहा कि जाहिर सी बात है कि आशीर्वाद यात्रा में लोग भारी संख्या में इकट्ठा हो रहे हैं जिससे संक्रमण फैलने का खतरा बना हुआ है। लेकिन राजनेताओं को राजनीति भी करनी होती है। जनता के बीच अपनी उपस्थिति भी दर्ज कराने होती है। भाजपा ने साफ तौर पर कह दिया है कि विपक्ष प्रधानमंत्री को उनके मंत्रियों का परिचय संसद में नहीं कराने दिया था। ऐसे में पार्टी के नेता जनता के बीच जाएंगे और उनसे संवाद स्थापित करेंगे और सरकार के कामकाज को बताएंगे।

कुछ लोग बेशर्मी से तालिबान का समर्थन कर रह‍े हैं: योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विपक्षी दलों पर तीखा हमला बोला और कहा कि ‘‘तालिबान का बेशर्मी से समर्थन कर रहे लोगों को बेनकाब किया जाना चाहिए।’’ मुख्‍यमंत्री आदित्‍यनाथ ने महिला कल्‍याण के मुद्दे को लेकर उठे सवालों के जवाब में नेता प्रतिपक्ष राम गोविंद चौधरी की ओर इशारा करते हुए कहा कि आप तो तालिबान का समर्थन कर रहे हैं। अध्यक्ष जी, तालिबान का कुछ लोग समर्थन कर रहे हैं। महिलाओं के साथ वहां पर क्या क्रूरता बरती जा रही है। बच्‍चों के साथ अफगानिस्तान में क्या क्रूरता बरती जा रही है लेकिन कुछ लोग बेशर्मी के साथ तालिबान का समर्थन किये जा रहे हैं। ‘तालिबानीकरण’ करना चाहते हैं, इन सभी के चेहरे समाज के सामने बेनकाब हो गए हैं। इससे पहले तालिबान के समर्थन में बयान देने पर समाजवादी पार्टी (सपा) के संभल से सांसद डॉक्टर शफीकउर रहमान बर्क के खिलाफ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एक नेता ने बुधवार को मामला दर्ज कराया। 

संभल के पुलिस अधीक्षक चक्रेश मिश्रा ने बताया कि भाजपा के पश्चिमी उत्तर प्रदेश के क्षेत्रीय अध्यक्ष राजेश सिंघल ने सपा सांसद बर्क, मोहम्मद मुकीम और चौधरी फैजान पर तालिबान के संबंध में भड़काऊ बयान देने के आरोप में शिकायत दर्ज कराई। संभल के सांसद बर्क मामला दर्ज होने के बाद अपने बयान से पलटते नजर आये और उन्होंने बुधवार को कहा कि उनके बयान को तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया है, उन्होंने ऐसा कुछ नहीं कहा है। दरअसल बर्क ने संभल में संवाददाताओं से बातचीत में सोमवार को कहा था कि तालिबान एक ताकत है और उसने अफगानिस्तान में अमेरिका के पांव जमने नहीं दिये। तालिबान अब अपने देश को खुद चलाना चाहता है। उन्होंने कहा था कि हमारा देश जब अंग्रेजों के कब्जे में था तब सभी हिंदुस्तानियों ने मिलकर आजादी की जंग लड़ी थी। अफगानिस्तान पर अमेरिका ने कब्जा कर रखा था। उससे पहले इस मुल्क पर रूस का कब्जा था। मगर अफगान आजाद रहना चाहते हैं। वह अपने देश को आजाद कराना चाहते हैं। यह उनका व्यक्तिगत मामला है, इसमें हम क्या दखल देंगे? उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बर्क के इस बयान की विधान परिषद में कड़ी निंदा की थी।

तालिबान के समर्थन में उतरे सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क, भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों से की तुलना

संभल से समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने तालिबान का समर्थन कर दिया था। इसमें उन्होंने अफगानिस्तान में तालिबान पर कब्जे की तुलना भारत में ब्रिटिश राज्य कर दी। सपा सांसद ने विवादित बयान देते हुए कहा कि हिंदुस्तान में जब अंग्रेजों का शासन था और हमने उन्हें हटाने के लिए संघर्ष किया, ठीक उसी तरह से तालिबान ने भी अपने देश को आजाद किया है। बर्क यहीं नहीं रुके, उन्होंने लगातार तालिबान की तारीफ करते हुए कहा कि तालिबान एक ऐसी ताकत है जिसने रूस और अमेरिका जैसे मजबूत देशों को भी अपने यहां बसने नहीं दिया।

इसे भी पढ़ें: अफगानिस्तान का खाली खजाना देख कर तालिबान के उड़ गये होश, पाई-पाई का संकट खड़ा हो सकता है

भाजपा की ‘जन आशीर्वाद यात्रा’ तीसरी लहर का निमंत्रण: संजय राउत

शिवसेना सांसद संजय राउत ने दावा किया कि ‘जन आशीर्वाद यात्रा’ तीसरी लहर का निमंत्रण है। विभिन्न राज्यों में केंद्रीय मंत्री यह यात्रा कर रहें हैं। राउत ने कहा कि उन्होंने भाजपा से धैर्य रखने को कहा है। राज्य सभा सदस्य ने दावा किया कि जन आशीर्वाद यात्रा तीसरी लहर को निमंत्रण देना है। भाजपा यह जानबूझ कर रही है। केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार के बाद इसमें शामिल भारती पवार, कपिल पाटिल और भागवत कराड इस सप्ताह की शुरुआत से राज्य के विभिन्न हिस्सों में लोगों से संपर्क स्थापित और हाल के चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की जीत पर उनका आभार प्रकट करने के लिए ‘जन आशीर्वाद यात्रा’ कर रहे हैं। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को देश के शीर्ष पांच मुख्यमंत्री की सूची में एक मीडिया संगठन द्वारा कराए गए सर्वेक्षण में स्थान मिलने से जुड़े सवाल पर राउत ने कहा कि भाजपा ओपिनियन पोल को खारिज करने की कोशिश कर रही है क्योंकि इस सूची में भाजपा के एक भी मुख्यमंत्री का नाम नहीं है। उन्होंने पूछा, क्यों इस सूची में एक भी भाजपा का मुख्यमंत्री शामिल नहीं है? 

मुंबई में भाजपा की जन आशीर्वाद यात्रा के खिलाफ 13 नयी प्राथमिकियां दर्ज

भाजपा की जन आशीर्वाद यात्रा के सिलसिले में कोरोना वायरस के कारण लगी पाबंदियों के उल्लंघन को लेकर मुंबई में अब तक कुल 32 प्राथमिकी दर्ज की गई हैं, जिनमें 13 प्राथमिकी दर्ज की गई। पुलिस ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि घाटकोपर और खार में दिन के दौरान दो-दो प्राथमिकी दर्ज की गईं और मुलुंड, विखरोली, भांडुप, पंतनगर, सांताक्रूज, पवई, एमआईडीसी, साकीनाका और मेघवाड़ी पुलिस थानों में एक-एक प्राथमिकी दर्ज की गई। अधिकारी ने बताया, भादंसं की धारा 188, आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा 51 और मुंबई पुलिस अधिनियम की धारा 135 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई हैं। बृहस्पतिवार को जन आशीर्वाद यात्रा के आयोजकों के खिलाफ 19 प्राथमिकी दर्ज की गई। हाल ही में केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किए गए मंत्री देश भर में इस तरह की यात्राएं आयोजित कर रहे हैं ताकि लोगों से उनके नए कार्यों के लिए आशीर्वाद लेने के साथ-साथ नरेंद्र मोदी सरकार की उपलब्धियों को बताया जा सके।

- अंकित सिंह






Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राजनीति

झरोखे से...