शतरंज ओलंपियाड का रंगारंग उद्घाटन, PM का शानदार स्वागत, ट्विटर पर ट्रेंड हुआ वणक्कम मोदी

PM Modi
ANI Image
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सड़क मार्ग के जरिये जब जवाहरलाल नेहरू की ओर बढ़ रहे थे तब रास्ते में संगीतकारों और ताल वादकों के प्रदर्शन के साथ उनका गर्मजोशी से स्वागत किया गया। मोदी ने शतरंज की बिसात की डिजाइन वाली बॉर्डर वाला पटका पहन रखा था।

चेन्नई। पहली बार भारत में हो रहे शतरंज ओलंपियाडके उद्घाटन समारोह में यहां का नेहरू इंडोर स्टेडियम रोशनी से जगमगाया हुआ है और यहां की फिजा़ में इस खेल को लेकर जोश और जुनून को महसूस किया जा सकता है। शतरंज ओलंपियाड के 44 वें सत्र के आगाज से पहले चेन्नई के मुख्य इलाके को शानदार तरीके से सजाया गया है। स्टेडियम के बाहर रंग-बिरंगे की आकर्षक रोशनी के साथ बड़े आकार का शतरंज बोर्ड और इस टूर्नामेंट में भाग लेने वाले देशों के झंडे लगे है। ओलंपियाड का आयोजन 10 अगस्त तक होगा।

इसे भी पढ़ें: टेंशन हुई खत्म ! यहां पर है आपके सभी सवालों के जवाब, ऐसे और इस समय देख सकते हैं कॉमनवेल्थ गेम्स का उद्धाटन समारोह 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सड़क मार्ग के जरिये जब जवाहरलाल नेहरू की ओर बढ़ रहे थे तब रास्ते में संगीतकारों और ताल वादकों के प्रदर्शन के साथ उनका गर्मजोशी से स्वागत किया गया। मोदी ने शतरंज की बिसात की डिजाइन वाली बॉर्डर वाला पटका पहन रखा था। भाजपा की तमिलनाडु इकाई की कला और संस्कृति शाखा ने मोदी के स्वागत के लिए संगीत और पारंपरिक नृत्य का आयोजन किया। स्टेडियम की ओर जाते समय समर्थकों ने मोदी की कार पर समर्थकों ने फुल बरसाये। ट्विटर पर वणक्कम मोदी ट्रेंड कर रहा है।

उद्घाटन समारोह में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन की मौजूदगी में सैंड आर्टिस्ट (रेत शिल्पकार) सरवम पटेल ने प्राचीन मामल्लापुरम बंदरगाह मंदिर, शतरंज के खेल और मेजबान देश भारत से जुड़ी कलाकृति बनाकर अपने कौशल से लोगों का दिल जीत लिया। स्टेडियम के मंच पर बड़े शतरंज के खेल में इस्तेमाल होने वाले ‘किंग, क्वीन, रूक, बिशप, नाइट और पॉन्स’ की बड़ी आकृतियों से सजाया गया है। इस मौके पर विशेष नृत्य-गीत ‘वणक्कम चेन्नई, वणक्कम शतरंज’ का प्रदर्शित किया गया।

इस मौके पर खेलों की मेजबानी करने वाले ऐतिहासिक बंदरगाह शहर मामल्लापुरम में की रेत-मूर्तिकला के विषय पर एक ऑडियो विजुअल का प्रदर्शन हुआ। आर्केस्ट्रा की धुनों और तालियों की गड़गड़ाहट ने जापान, चीन, ऑस्ट्रेलिया, जर्मनी, इटली, दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रिया, अल्बानिया, अल्जीरिया, अंगोला, अर्जेंटीना और बारबाडोस सहित दर्जनों देशों की टीमों का स्टेडियम में स्वागत किया गया। इस मौके पर वाद्य यंत्रों से निकले ‘जय हो’ के धुन और ‘वंदे मातरम्’ के गायन में वहां मौजूद लोगों में जोश भर दिया।

इसे भी पढ़ें: कॉमनवेल्थ और क्राउन के प्रति निष्ठा, भारत क्यों बना हुआ है राष्ट्रमंडल खेलों का हिस्सा? 

भारतीय शास्त्रीय नृत्य के सभी आठ रूपों, कथक, ओडिसी, कुचुपुड़ी, कथककली, मोहिनीअट्टम, मणिपुरी, सत्त्रिया और भरतनाट्यम का प्रदर्शन किया गया। उद्घाटन के लिए एकत्र हुए लोगों ने चेन्नई के संगीतकार लिडियन नादस्वरम के संगीत समारोह का भी लुत्फ उठाया। इस मौके पर फिडे (शतरंज की वैश्विक संचालक) गान बजाया गया और प्रतिभागियों ने शपथ ली। शीर्ष अभिनेता रजनीकांत उन स्टार आमंत्रितों में शामिल थे जो उपस्थित थे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़