अगले साल जुलाई तक भारतीय पुरुष फुटबॉल टीम के मुख्य कोच बने रह सकते हैं स्टिमक

Igor Stimac
प्रतिरूप फोटो
goal.com
क्रोएशिया के इगोर स्टिमक भारतीय फुटबॉल टीम के मुख्य कोच बने रह सकते हैं क्योंकि अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) की तकनीकी समिति ने रविवार को उनके अनुबंध को अगले साल जुलाई में एएफसी एशियई कप के अंत तक बढ़ाने की सिफारिश की।

क्रोएशिया के इगोर स्टिमक भारतीय फुटबॉल टीम के मुख्य कोच बने रह सकते हैं क्योंकि अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) की तकनीकी समिति ने रविवार को उनके अनुबंध को अगले साल जुलाई में एएफसी एशियई कप के अंत तक बढ़ाने की सिफारिश की। दिग्गज स्ट्राइकर आईएम विजयन की अध्यक्षता में तकनीकी समिति ने यहां बैठक करके स्टिमक के मार्गदर्शन में भारतीय पुरुष टीम के प्रदर्शन पर चर्चा की और एआईएफएफ कार्यकारी समिति को उनके पद पर बने रहने की सिफारिश की।

मई 2019 में दो साल के कार्यकाल के लिए राष्ट्रीय पुरुष टीम का कार्यभार संभालने के बाद यह स्टिमक का तीसरा अनुबंध विस्तार होगा। उन्हें 2021 में उस वर्ष के सितंबर तक कुछ महीनों का अनुबंध विस्तार दिया गया था। इसके बाद उन्हें एक साल का एक और कार्यकाल विस्तार दिया गया जो इस महीने समाप्त होना था। एआईएफएफ ने एक विज्ञप्ति में कहा, ‘‘बैठक के पहले एजेंडे में तकनीकी समिति ने सीनियर पुरुष टीम के मुख्य कोच इगोर स्टिमक के अनुबंध को एएफसी एशियाई कप 2023 तक बढ़ाने की सिफारिश की।’’

एएफसी एशियाई कप 2023 का आयोजन 16 जून से 16 जुलाई तक होगा लेकिन आयोजन स्थल पर अभी फैसला नहीं हुआ है क्योंकि मूल मेजबान चीन देश में कोविड-19 से जुड़ी स्थिति के कारण मेजबानी से पीछे हट गया है। जून में यहां क्वालीफायर में अच्छे प्रदर्शन के साथ राष्ट्रीय टीम को 2023 एशियाई कप फाइनल्स में जगह दिलाने के बाद स्टिमक का अनुबंध बढ़ाए जाने की उम्मीद थी। एआईएफएफ की कार्यकारी समिति के लिए सोमवार को यहां बैठक में अपनी मंजूरी की मुहर लगाना अब महज औपचारिकता होगी।

अनुबंध विस्तार के बाद स्टिमक के लिए पहले मुकाबले इस महीने के अंत में वियतनाम में दो अंतरराष्ट्रीय मैत्री मैच होंगे जिसके लिए रविवार से यहां 24 संभावित खिलाड़ियों का दो दिवसीय शिविर शुरू हो गया है। भारत 24 सितंबर को सिंगापुर और तीन दिन बाद वियतनाम से खेलेगा। दोनों मैच हो ची मिन्ह सिटी में होंगे। तकनीकी समिति के उपाध्यक्ष पद पर नहीं रहने की इच्छा व्यक्त करने वाले भारत के पूर्व डिफेंडर मनोरंजन भट्टाचार्य रविवार की बैठक में शामिल हुए।

भट्टाचार्य की कोचिंग में ईस्ट बंगाल की ओर से गोलकीपर के रूप में खेलने वाले एआईएफएफ के अध्यक्ष कल्याण चौबे ने कहा था कि वह इस दिग्गज को अपने फैसले पर पुनर्विचार करने के लिए कहेंगे। चौबे ने रविवार को पीटीआई से कहा, ‘‘वह (भट्टाचार्य) हमारे साथ हैं और हम एक टीम के रूप में काम करेंगे।’’ भारत के अब तक के सबसे दिग्गज डिफेंडर में से एक माने जाने वाले भट्टाचार्य 53 वर्षीय विजयन से काफी सीनियर हैं।

वह विजयन से पहले की पीढ़ी में खेले और 1989 में उन्होंने संन्यास लिया। तकनीकी समिति ने एएफसी लाइसेंसिंग मानदंडों को पूरा करने में कठिनाई के कारण आई-लीग में इंडियन एरोज की भागीदारी को बंद करने का भी निर्णय लिया। इंडियन एरोज पर खर्च होने वाले कोष का इस्तेमाल अब देश में नई एलीट युवा लीग तैयार करने में किया जाएगा। एआईएफएफ ने कहा, ‘‘समिति ने महिला राष्ट्रीय टीमों के लिए देश भर में अधिक महिला कोच नियुक्त करने की भी सिफारिश की है।

तकनीकी समिति ने देश में महिला फुटबॉल के विकास के साथ-साथ सीनियर महिला राष्ट्रीय टीम के विकास के लिए नई योजनाएं तैयार करने को कहा है।’’ ‘‘ भारत में कोचिंग में सुधार के तरीकों पर भी समिति ने चर्चा की जिसने यह सुनिश्चित करने पर जोर दिया कि सभी भारतीय कोच का उपयोग हर आयु वर्ग में किया जाए ताकि वे भारतीय फुटबॉल को एक साथ आगे ले जाने के लिए अधिक अनुभव प्राप्त कर सकें।’’ इससे पहले दिन में एआईएफएफ की कार्यकारी समिति के सदस्यों ने यहां राष्ट्रीय उत्कृष्टता केंद्र का दौरा किया और इसका निरीक्षण किया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़