थाईलैंड ओपन के सेमीफाइनल में सात्विक साईराज और चिराग शेट्टी की जोड़ी हारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 23, 2021   14:50
  • Like
थाईलैंड ओपन के सेमीफाइनल में सात्विक साईराज और चिराग शेट्टी की जोड़ी हारी

दावेदार सात्विक साइराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी थाईलैंड ओपन के सेमीफाइनल में हारे।सुपर 1000 टूर्नामेंट में दोनों 2018 और 2019 में खेले लेकिन पहली बार सेमीफाइनल में पहुंचे थे।

बैंकॉक।तोक्यो ओलंपिक में पदक के दावेदार सात्विक साइराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की जोड़ी टोयोटा थाईलैंड ओपन सुपर 1000 टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन के बाद सेमीफाइनल में हारकर बाहर हो गई। दुनिया की दसवें नंबर की जोड़ी को नौवें नंबर की मलेशियाई जोड़ी आरोन चिया और सो वूइ यिक ने 35 मिनट में 21 . 18, 21 . 18 से हराया। सात्विक और चिराग ने 2019 में थाईलैंड में पहला सुपर 500 खिताब जीता था और फ्रेंच ओपन सुपर 750 टूर्नामेंट के फाइनल तक पहुंचे। सुपर 1000 टूर्नामेंट में दोनों 2018 और 2019 में खेले लेकिन पहली बार सेमीफाइनल में पहुंचे थे।

इसे भी पढ़ें: एशियाई चैम्पियंस ट्रॉफी हॉकी फिर हुई स्थगित, इस कारण लिया फैसला

मलेशियाई जोड़ी की मुस्तैदी का दोनों सामना नहीं कर सके। भारतीय जोड़ी ने शुरूआत में 4 .2 से बढत बना ली लेकिन मलेशियाई जोड़ी ने शानदार वापसी करते हुए ब्रेक तक 11 . 10 की बढत बनाई। एक समय स्कोर 15 . 16 था लेकिन इसके बाद मलेशियाई जोड़ी ने लगातार चार अंक लेकर पहला गेम जीत लिया। दूसरे गेम में भी भारतीय जोड़ी की शुरूआत अच्छी रही लेकिन फिर लगातार चार अंक गंवा दिये। ब्रेक के बाद भी वे वापसी नहीं कर सके और मलेशियाई जोड़ी ने छह मैच प्वाइंट के साथ जीत दर्ज की।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




असम में डीएसपी बनीं हिमा दास, कहा- जारी रहेगा एथलेटिक्स कैरियर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 26, 2021   16:43
  • Like
असम में डीएसपी बनीं हिमा दास, कहा- जारी रहेगा एथलेटिक्स कैरियर

मुझे सब कुछ खेलों की वजह से मिला है। मैं प्रदेश में खेल की बेहतरी के लिये काम करूंगी और असम को हरियाणा की तरह सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाला राज्य बनाने की कोशिश करूंगी। असम पुलिस के लिये काम करते हुए अपना कैरियर भी जारी रखूंगी।

गुवाहाटी। स्टार फर्राटा धाविका हिमा दास को शुक्रवार को असम पुलिस में उप अधीक्षक बनाया गया जिसने इसे बचपन का सपना सच होने जैसा बताया। हिमा को नियुक्ति पत्र असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने सौंपा जो केंद्र में खेलमंत्री भी रह चुके हैं। यहां आयोजित एक समारोह में पुलिस महानिदेशक समेत शीर्ष पुलिस अधिकारी और प्रदेश सरकार के अधिकारी उपस्थित थे। हिमा ने बाद में कहा कि वह बचपन से पुलिस अधिकारी बनने का सपना देखती आई हैं। उसने कहा ,‘‘ यहां लोगों को पता है। मैं कुछ अलग नहीं कहने जा रही। स्कूली दिनों से ही मैं पुलिस अधिकारी बनना चाहती थी और यह मेरी मां का भी सपना था।’’

हिमा ने कहा ,‘‘वह दुर्गापूजा के दौरान मुझे खिलौने में बंदूक दिलाती थी। मां कहती थी कि मैं असम पुलिस की सेवा करूं और अच्छी इंसान बनूं।’’ एशियाई खेलों की रजत पदक विजेता और जूनियर विश्व चैम्पियन हिमा ने कहा कि वह पुलिस की नौकरी के साथ खेलों में अपना कैरियर भी जारी रखेगी। उसने कहा ,‘‘ मुझे सब कुछ खेलों की वजह से मिला है। मैं प्रदेश में खेल की बेहतरी के लिये काम करूंगी और असम को हरियाणा की तरह सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाला राज्य बनाने की कोशिश करूंगी। असम पुलिस के लिये काम करते हुए अपना कैरियर भी जारी रखूंगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी बोलीं, जर्मनी दौरे से ओलंपिक की तैयारियों को मिलेगा बल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 26, 2021   14:23
  • Like
महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी बोलीं, जर्मनी दौरे से ओलंपिक की तैयारियों को मिलेगा बल

भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी ने कहा कि अर्जेंटीना दौरे से हमारा आत्मविश्वास बढा। एक के बाद एक इन दौरों से हमें तैयारी का सुनहरा मौका मिला। तोक्यो ओलंपिक में अब ज्यादा समय नहीं रह गया है और शीर्ष टीमों के खिलाफ इन मैचों से हमें अपनी कमियों का पता लगाकर लय हासिल करने का मौका मिलेगा।

डसेलडोर्फ। भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी ने दुनिया की तीसरे नंबर की टीम जर्मनी के खिलाफ पहले मैच से पूर्व कहा कि अर्जेंटीना दौरे से आत्मविश्वास बढा लेकिन जर्मनी का दौरा तोक्यो ओलंपिक की तैयारियों को मजबूती देगा। अर्जेंटीना दौरे के बाद भारतीय टीम अब शनिवार से जर्मनी के खिलाफ चार मैचों की श्रृंखला खेलेगी। रानी ने कहा ,‘‘ अर्जेंटीना दौरे से हमारा आत्मविश्वास बढा। एक के बाद एक इन दौरों से हमें तैयारी का सुनहरा मौका मिला। तोक्यो ओलंपिक में अब ज्यादा समय नहीं रह गया है और शीर्ष टीमों के खिलाफ इन मैचों से हमें अपनी कमियों का पता लगाकर लय हासिल करने का मौका मिलेगा।’’ 

इसे भी पढ़ें: अंतरराष्ट्रीय हॉकी में वापसी करेगी भारतीय पुरुष टीम, यूरोप दौरे के लिए होगी रवाना 

उन्होंने कहा कि जर्मनी के खिलाफ मैचों से उन्हें खेल के हर पहलू में टीम को परखने का मौका मिला। रानी ने कहा ,‘‘ यह अर्जेंटीना दौरे से एकदम अलग होगा। इसमें फिटनेस के स्तर से लेकर हर पहलू को परखने का मौका मिलेगा। यह दौरा चुनौतीपूर्ण होगा चूंकि हम लगातार मैच खेलेंगे।’’ उन्होंने कहा ,‘‘ हमारे प्राथमिकता प्रतिस्पर्धी सोच के साथ उतरने की होगी। जर्मनी जैसी शीर्ष टीम के खिलाफ खेलकर ओलंपिक की तैयारी पक्की होगी।’’ दूसरा मैच रविवार को और आखिरी दो मैच दो और तीन मार्च को खेले जायेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




एक साल बाद पहली प्रतिस्पर्धी रेस में हिमा दास ने लिया हिस्सा, जीता स्वर्ण पदक

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 26, 2021   09:49
  • Like
एक साल बाद पहली प्रतिस्पर्धी रेस में हिमा दास ने लिया हिस्सा, जीता स्वर्ण पदक

स्टार धाविका हिमा दास अभी तक आगामी तोक्यो ओलंपिक के लिये क्वालीफाई नहीं कर पायी हैं और उन्होंने अगस्त 2019 में अपनी अंतिम प्रतिस्पर्धी रेस में हिस्सा लिया था।

पटियाला। भारत की स्टार धाविका हिमा दास ने एक साल से ज्यादा समय बाद अपनी पहली प्रतिस्पर्धी रेस में भाग लेते हुए यहां गुरूवार को नेताजी सुभाष राष्ट्रीय खेल संस्थान परिसर में आयोजित इंडियन ग्रां प्री 2 में महिला 200 मीटर स्पर्धा का स्वर्ण पदक हासिल किया। इक्कीस साल की हिमा ने 23.31 सेकेंड के समय से रेस जीती। 400 मीटर में 2018 में विश्व जूनियर चैम्पियन रहीं हिमा ने इससे पहले केवल तीन बार (2018 में दो बार और 2019 में एक बार) ही इससे कम समय में रेस जीती हैं। हिमा अभी तक आगामी तोक्यो ओलंपिक के लिये क्वालीफाई नहीं कर पायी हैं और उन्होंने अगस्त 2019 में अपनी अंतिम प्रतिस्पर्धी रेस में हिस्सा लिया था। 

इसे भी पढ़ें: हिमा की गैरमौजूदगी के बावजूद AAFI को मिश्रित 4X400 मीटर में अच्छे प्रदर्शन का भरोसा 

कोविड-19 महामारी के बाद पूरा घरेलू कैलेंडर अस्त व्यस्त हो गया और कोई भी भारतीय एथलीट विदेश में किसी भी प्रतियोगिता में हिस्सा नहीं ले सका। वहीं दुती चंद ने महिला 100 मीटर स्पर्धा 11.44 सेकेंड में जीती और उन्होंने पिछले हफ्ते पहली ग्रां प्री में हासिल किये गये 11.51 सेकेंड के समय में सुधार किया। वह 11.15 सेकेंड के मानक समय से ओलंपिक खेलों के लिये क्वालीफाई करने की उम्मीद लगाये हैं। वह अपनी रैंकिंग के आधार पर भी तोक्यो ओलंपिक में 56 शुरूआत करने वाले एथलीट के तौर पर क्वालीफाई कर सकती हैं। वह इस समय विश्व रैंकिंग में 33वें नंबर पर हैं। 

इसे भी पढ़ें: विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में हिस्सा नहीं लेंगी हिमा दास 

पुरूषों की 400 मीटर स्पर्धा में दिल्ली के अमोज जैकब ने 46 सेकेंड के व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ समय से पहला स्थान हासिल किया। वहीं 200 मीटर स्पर्धा में अरोकिया राजीव ने मोहम्मद अनस याहिया को पछाड़कर 21.24 सेकेंड से स्वर्ण पदक जीता। केरल के एम श्रीशंकर ने लंबी कूद स्पर्धा और पुरूष शॉट पुट में तजिंदरपाल सिंह ने पहला स्थान हासिल किया। भाला फेंक स्पर्धा में उत्तर प्रदेश की अनु रानी ने 61.22 के प्रयास से स्वर्ण पदक जीता।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept