विलियमसन के बचाव में बोले विराट कोहली, कप्तानी हमेशा नतीजों से नहीं आंकी जाती

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 23, 2020   12:59
विलियमसन के बचाव में बोले विराट कोहली, कप्तानी हमेशा नतीजों से नहीं आंकी जाती

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन का बचाव करते हुए कहा कि कप्तानी हमेशा नतीजों से नहीं आंकी जाती है।कोहली ने कहा कि कई बार लोग टीम की विफलता का ठीकर तुरंत कप्तान पर फोड़ देते हैं।उन्होंने कहा कि इस तरह की बातें अक्सर होती है जब भी टीम खराब प्रदर्शन कर रही होती है।

आकलैंड। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन का बचाव करते हुए कहा कि टीम के खराब प्रदर्शन करने पर सवाल हमेशा उठते हैं लेकिन कप्तान का आकलन हमेशा नतीजों के आधार पर नहीं किया जा सकता। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बाक्सिंग डे टेस्ट में न्यूजीलैंड की शर्मनाक हार के बाद विलियमसन की कप्तानी पर सवाल उठने लगे हैं। न्यूजीलैंड को उस श्रृंखला में 0 . 3 से पराजय झेलनी पड़ी। 

इसे भी पढ़ें: क्या बीसीसीआई करती हैं महिला और पुरुष खिलाड़ियों के सैलरी में भेदभाव?

ब्रेंडन मैकुलम ने उनकी आलोचना करते हुए कहा कि अब उन्हें कप्तानी में मजा नहीं आ रहा और उन्हें कम से कम टी20 प्रारूप में कप्तानी छोड़ देनी चाहिये। विलियमसन ने खुद कहा है कि वह नये कप्तान के लिये पद छोड़ने को तैयार हैं। उन्होंने कहा कि मैं हमेशा टीम हित में विश्वास रखता हूं। यदि ऐसा लगता है कि नया कप्तान टीम के लिये अच्छा होगा तो मैं इसके लिये हमेशा तैयार हूं।’’तीनों प्रारूपों में भारत के कप्तान कोहली ने कहा कि कई बार लोग टीम की विफलता का ठीकर तुरंत कप्तान पर फोड़ देते हैं। उन्होंने कहा कि इस तरह की बातें अक्सर होती है जब भी टीम खराब प्रदर्शन कर रही होती है। 

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान में अनसेफ फील कर रहे हैं बांग्लादेश के खिलाड़ी, किए गए सुरक्षा के कड़े इंतजाम

यह तीनों प्रारूपों में कप्तानी की जिम्मेदारी का हिस्सा है। मैं अपना फोकस इसी पर रखता हूं कि टीम के लिये क्या कर सकता हूं और उसे कैसे आगे ले जा सकता हूं ।’’उन्होंने पहले टी20 मैच से पूर्व कहा ,‘‘मुझे नहीं लगता कि कप्तानी का आकलन हमेशा नतीजों से किया जा सकता है। आप टीम को कैसे एकजुट करते हैं और कैसे सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करा सकते हैं। मेरा मानना है कि केन यह काम बखूबी कर रहा है।’’कोहली ने कहा ,‘‘टीम में उसका सम्मान है और उसे साथी खिलाड़ियों का भरोसा हासिल है। वह काफी चतुर क्रिकेटर है। टीम खराबखेलती है तो यह सामूहित नाकामी है, कप्तान अकेले की नहीं।’’

इसे भी देखें- Australia से मुकाबले के लिए कितनी तैयार है टीम, बता रहे हैं Virat Kohli





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।