• राजा राम की नगरी के रूप में प्रसिद्ध है ओरछा, पुरातन सभ्यता का है जीता जागता उदाहरण

। इस शहर को प्रसिद्ध रूप से 'महलों के शहर' के रूप में जाना जाता है। ओरछा के भव्य महलों और जटिल नक्काशीदार मंदिरों के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध है। यह शहर बुंदेल शासकों के स्मरण के लिए बनाए गए भित्ति चित्रों, फ्रेस्कोस और छत्रिस (सेनोटाफ्स) के लिए प्रसिद्ध है।

ओरछा, मध्य प्रदेश का एक ऐतिहासिक शहर है जो बेतवा नदी के तट पर स्थित है। इस शहर को प्रसिद्ध रूप से 'महलों के शहर' के रूप में जाना जाता है। ओरछा के भव्य महलों और जटिल नक्काशीदार मंदिरों के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध है। यह शहर बुंदेल शासकों के स्मरण के लिए बनाए गए भित्ति चित्रों, फ्रेस्कोस और छत्रिस (सेनोटाफ्स) के लिए प्रसिद्ध है। यह शहर बुंदेला राजपूत प्रमुख द्वारा 1501 में स्थापित किया गया था। ओरछा का शाब्दिक अर्थ है 'छिपी हुई जगह।' ओरछा के महलों और मंदिरों की मध्ययुगीन वास्तुकला, यहाँ आने वाले पर्यटकों को मंत्रमुग्ध करती है। आज के इस लेख में हम आपको ओरछा के प्रमुख पर्यटन स्थलों के बारे में बताएंगे - 

राम राजा मंदिर

राम राजा मंदिर, ओरछा में स्थित एक विशेष धार्मिक महत्व का मंदिर है। ऐसा माना जाता है कि यह भारत का एकमात्र मंदिर है जहाँ भगवान राम को राजा राम के रूप में पूजा जाता है। राजा राम मंदिर को ओरछा मंदिर के रूप में भी जाना जाता है। 16 वीं शताब्दी में निर्मित यह मंदिर, हिंदू धर्म के अनुयायियों के बीच ओरछा किले परिसर में एक लोकप्रिय स्मारक है। यह माना जाता है कि संरचना मधुकर शाह के राज्य में एक गढ़ हुआ करती थी। जब भगवान राम ने शाह को सपने में दर्शन दिए और उन्हें अपनी मूर्ति स्थापित करने के लिए कहा तो उन्होंने इसे राम मंदिर में बदल दिया । रामनवमी के शुभ अवसर पर हजारों भक्त इस मंदिर में भगवान राम की पूजा करने के लिए जाते हैं। इस मंदिर की दिलचस्प बात यह है कि न सिर्फ उन्हें यहां एक राजा के रूप में पूजा जाता है, भक्ति और सम्मान के प्रतीक के रूप में बंदूक की सलामी भी दी जाती है।

इसे भी पढ़ें: इन 5 कारणों को जानकर आप भी महाकाल मंदिर जाने के लिए हो जाएंगे मजबूर!

ओरछा किला

ओरछा किला, ओरछा में सबसे प्रसिद्ध स्थानों में से एक है। यह ओरछा में बेतवा नदी के तट पर स्थित है। किला 16 वीं शताब्दी के वर्ष में बुंदेला रुद्र प्रताप सिंह द्वारा बनाया गया था, जिसे पूरा होने में कई साल लगे थे। इसमें कई संरचनाएं शामिल हैं जैसे कि किले, महल, ऐतिहासिक स्मारक आदि।

चतुर्भुज मंदिर 

भगवान विष्णु को समर्पित, ओरछा में चतुर्भुज मंदिर 1558-1573 के दौरान राजा मधुकर द्वारा निर्मित एक प्राचीन वास्तुशिल्प कृति है। मंदिर बुनियादी वास्तुकला के साथ एक आयताकार मंच पर खड़ा है। यह तीन मुख्य भागों में विभाजित है, और मंदिर की केंद्रीय स्थिति चार मंजिला ऊँची है।  यह माना जाता है कि मंदिर शुरू में भगवान राम को समर्पित था। हालाँकि, रानी निवास में भगवान राम की मूर्ति को मंदिर में ले जाने से मना कर दिया गया, जहाँ भगवान विष्णु की चार भुजाओं वाली मूर्ति ने खुद को स्थापित किया और मंदिर को अपनी पहचान दी। ओरछा की प्राचीन भूमि में आध्यात्मिकता का अनुभव करने के लिए चतुर्भुज मंदिर जरूर जाएँ।

इसे भी पढ़ें: तमिलनाडु घूमने का है प्लॉन तो केवल इन महीनों में जाएं

राजा महल 

राजा महल को "राजा मंदिर" के रूप में भी जाना जाता है। यह मंदिर महल रुद्र प्रताप सिंह द्वारा बनाया गया है। इस मंदिर का निर्माण 16 वीं शताब्दी के दौरान शुरू हुआ और 17 वीं शताब्दी में समाप्त हुआ। यह महल ऊँची बालकनी के साथ भव्य आवास से भरा है। महल के अंदरूनी हिस्से दर्पण और भित्ति चित्र हैं जो महल की छत और दीवारों पर लिखे गए हैं। ये अंदरूनी कला यहाँ आने वाले पर्टकों के लिए आकषर्ण का केंद्र हैं।  

छत्रिस

बेतवा नदी के तट पर स्थित छत्रिस को सेनोटाफ के नाम से भी जाना जाता है। यहाँ लगभग 14 छत्रियाँ हैं, जो बेतवा नदी के कंचन घाट के किनारे पंक्तिबद्ध हैं, जो बुंदेलखंड के शक्तिशाली शासकों के सम्मान के रूप में चिह्नित हैं। छत्रिस महाराजाओं के शानदार शाही मकबरे हैं, जिसे एक मंच पर रखा गया है और स्तंभों द्वारा समर्थित है। इसकी अनूठी वास्तुकला शैली और सुंदर डिजाइन पर्यटकों के आकर्षण के लिए एक आदर्श स्थान है।

- प्रिया मिश्रा