भारतीय नौसेना दिवस क्यों आयोजित करते हैं, क्या है इसका इतिहास

indian navy
ANI
भारतीय नौसेना का जनक मराठा सम्राट वीर शिवा जी को माना जाता है। सर्वप्रथम शिवाजी ने नौसेना का गठन 17वीं शताब्दी में किया था। पहले इसका नाम इंडियन मरीन था बाद में इसका नाम बदलकर 1685 में बम्बई मरीन कर दिया गया।

हर साल 4 दिसम्बर को देश में भारतीय नौसेना दिवस का आयोजन नौसैनिकों के प्रति सम्मान दर्शाने के लिए किया जाता है। 1971 के भारत पाकिस्तान युद्ध में भारतीय नौसेना ने अहम भूमिका निभाई थी। इस युद्ध में जो नौसैनिक शहीद हुए थे उनकी याद में हर साल 4 दिसम्बर को नौसेना दिवस मनाया जाता है। इंडियन नेवी भारतीय सैन्य बल का बहुत ही अहम् हिस्सा है। इंडियन नेवी अपनी उपलब्धियों के बल पर पूरी दुनिया की चौथे नंबर की नौसेना है।

भारतीय नौसेना का गठन 

भारतीय नौसेना का जनक मराठा सम्राट वीर शिवा जी को माना जाता है। सर्वप्रथम शिवाजी ने नौसेना का गठन 17वीं शताब्दी में किया था। पहले इसका नाम इंडियन मरीन था बाद में इसका नाम बदलकर 1685 में बम्बई मरीन कर दिया गया। बम्बई मरीन ने बर्मा युद्ध में भी भाग लिया। बाद में इसका नाम बदलकर रॉयल इंडियन कर दिया गया। देश की आजादी के बाद इसका नाम परिवर्तित करके 1950 में भारतीय नौसेना कर दिया गया।

भारतीय नौसेना दिवस का इतिहास 

1971 के भारत पकिस्तान युद्ध के दौरान जब 3 दिसम्बर को पाकिस्तानी सेना ने भारतीय हवाई अड्डों पर आक्रमण किया तब भारतीय सेना ने उसका मुहतोड़ जवाब देते हुए 4 और 5 दिसम्बर को पाकिस्तानी सेना पर हमला करके उनको परास्त कर दिया। यह हमला इतने व्यवस्थित ढंग से किया गया था कि पाकिस्तानी सेना को इसकी भनक भी नहीं लगी। भारतीय नौसेना ने पाकिस्तानी कराची बंदरगाह को पूरी तरह से नष्ट कर दिया था तेल के टैंकर सात दिनों तक जलते रहे। इस हमले में बहुत से पाकिस्तानी सैनिक शहीद हुए थे। इस अभियान को कमोडोर कासरगोड पट्टानशेट्टी गोपाल राव ने नेतृत्व प्रदान किया था। तब से हर साल 4 दिसम्बर को नौसेना दिवस मनाया जाता है।

इसे भी पढ़ें: अंतर्राष्ट्रीय दिव्यांग दिवस: कब हुई थी शुरुआत, क्या है इसका महत्व

क्या है भारतीय नौसेना दिवस 2022 की थीम 

हर साल भारतीय नौसेना दिवस के लिए एक थीम निर्धारित की जाती है। 2022 के लिए  'स्वर्णिम विजय वर्ष' (Swarnim Vijay Varsh)थीम निर्धारित की गयी है। 

भारतीय नौसेना दिवस का महत्व 

भारतीय नौसेना दिवस का आयोजन 1971 में हुए भारत पाकिस्तान युद्ध के दौरान हुए ऑपरेशन ट्राइडेंट की विजय को दर्शाने के लिए किया जाता है। यह भारतीय नौसैनिकों की बहादुरी और शहादत का सम्मान है। एनआईएटी 'नेवल इंस्टीट्यूट ऑफ एयरोनॉटिकल टेक्नोलॉजी' एक प्रोग्राम का आयोजन करता है। इसमें नेवी फेस्टिवल का आयोजन किया जाता है इसमें नेवी बाल, और बहुत सी प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती हैं।

भारतीय नौसेना की खास बातें 

भारतीय नौसेना बहुत से विध्वंसक युद्ध पोतों और पनडुब्बियों का निर्माण कर चुकी है और बहुत सी खतरनाक पनडुब्बियों का निर्माण कार्य चल रहा है। भारतीय नौसेना अत्याधुनिक मशीनरी और टेक्नोलॉजी के साथ-साथ घातक हथियारों से भी लैस है।

अन्य न्यूज़