WhatsApp से Twitter तक, टेक इतिहास के सबसे बड़े अधिग्रहण के बारे में जानें

WhatsApp से Twitter तक, टेक इतिहास के सबसे बड़े अधिग्रहण के बारे में जानें
Creative Common

एलन मस्क ने ट्विटर को 44 बिलीयन डॉलर यानी 3.37 लाख करोड़ रुपये में खरीद लिया है। यह पैसा इतना है कि जिससे श्रीलंका जिस देश का आधा कर्ज़ चुकाया जा सकता है। इस बड़ी डील के बाद से ही समाचार चैनलों से लेकर सोशल मीडिया पर भी ट्विटर और मस्क को लेकर खबरें लगातार आती रहती हैं।

आप सभी ने एक मुहावरे को कई बार सुना होगा कि बड़ी मछलियां खुद को जिंदा रखने के लिए छोटी मछलियों को खा जाती हैं। व्यापार की दुनिया में तो ऐसा हर रोज ही देखने को मिलता है। कई बड़ी कंपनियों को छोटी कंपनियों में मर्ज होते देखा जाता है। टेक उद्योग में अधिग्रहण काफी आम रहा है। वैसे तो ये मुख्य रूप से प्रतिस्पर्धा में कटौती करने के लिए किया जाता है, लेकिन इसके साथ ही ये एक ब्रांड को दूसरे बाजार में प्रवेश करने में भी मदद करता है। दुनिया के सबसे अमीर शख्स और टेस्ला के मालिक एलन मस्क के ट्विटर को खरीदने को लेकर बीते दो हफ्ते में चर्चा देश -दुनिया में खूब हुई। एलन मस्क ने ट्विटर को  44 बिलीयन डॉलर यानी 3.37 लाख करोड़ रुपये में खरीद लिया है। यह पैसा इतना है कि जिससे श्रीलंका जिस देश का आधा कर्ज़ चुकाया जा सकता है। इस बड़ी डील के बाद से ही समाचार चैनलों से लेकर सोशल मीडिया पर भी ट्विटर और मस्क को लेकर खबरें लगातार आती रहती हैं। ऐसे में आज आपको अतीत में हुई कुछ चर्चित अधिग्रहणों के बारे में बताते हैं। 

इसे भी पढ़ें: रूसी धमकी के बाद एलन मस्क ने अपनी मौत को लेकर किया ट्वीट, इंटरनेट पर छिड़ी चर्चा

व्हाट्सएप: व्हाट्सएप की स्थापना जान कौम और ब्रायन एक्टन ने की थी। इस नए उद्यम को शुरू करने से पहले दोनों ने दो दशकों से अधिक समय तक काम किया था। ऐप तेजी से विश्व स्तर पर सबसे लोकप्रिय मैसेजिंग ऐप में से एक बन गया। इसके अच्छे प्रदर्शन के बावजूद, कंपनी ने इसे दूसरे को बेचने का फैसला किया। इसे फेसबुक ने 2014 में 19 अरब डॉलर में खरीदा था।

इंस्टाग्राम: केविन सिस्ट्रॉम और माइक क्राइगर द्वारा 2010 में लॉन्च किया गया इंस्टाग्राम आज सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले और व्यावसायिक ऐप में से एक बन गया है। फेसबुक ने 2012 में इंस्टाग्राम को $ 1 बिलियन में खरीदा था। ऐप के आज एक बिलियन से अधिक उपयोगकर्ता हैं और फेसबुक के वार्षिक रेविन्यू में 20 बिलियन से अधिक का योगदान है।

स्काइप: 2003 में स्थापित स्काइप वीओआईपी-आधारित वीडियो टेलीफोनी, वीडियोकांफ्रेंसिंग और वॉयस कॉल के लिए जाना जाता है। इसे साल 2011 में माइक्रोसॉफ्ट ने 8.5 बिलियन डॉलर में खरीद लिया। इससे पहले स्काइप का स्वामित्व ईबे के पास था। जिसे उसने 2.6 बिलियन डॉलर में खरीदा था। लेकिन बाद में ईबे ने इसे नुकसान के साथ बेच दिया। 

इसे भी पढ़ें: ट्विटर अब फ्री नहीं! इस्तेमाल करने के लिए जल्द ही देना होगा चार्ज; Elon Musk ने दी जानकारी

यूट्यूब: 2005 में स्थापित यूट्यूबऐप दुनिया में सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले और सब्सक्राइब किए गए ऐप में से एक बन गया है। इसे गूगल ने 1.65 अरब डॉलर में खरीदा था। ऐप की लोकप्रियता इतनी अधिक है कि इसकी कीमत लगभग 70 बिलियन डॉलर आंकी गई थी।

लिंक्डइन:  एक यूएस-आधारित व्यवसाय और रोजगार-उन्मुख ऑनलाइन सेवा है जो वेबसाइटों और मोबाइल ऐप के माध्यम से संचालित होती है। इसे 2016 में माइक्रोसॉफ्ट द्वारा अधिग्रहित किया गया था और यह माइक्रोसॉफ्ट का अब तक का दूसरा सबसे बड़ा अधिग्रहण है।

ट्विटर: ट्विटर अब तक के सबसे चर्चित अधिग्रहणों में से एक बन गया है। इसे हाल ही में टेस्ला के सीईओ एलोन मस्क ने 44 बिलियन में अधिग्रहित किया था।