इस पॉपुलर क्लोदिंग ब्रांड ने बिकिनी पर छापी भगवान विष्णु की तस्वीर, सोशल मीडिया पर फूटा यूजर्स का गुस्सा

इस पॉपुलर क्लोदिंग ब्रांड ने बिकिनी पर छापी भगवान विष्णु की तस्वीर, सोशल मीडिया पर फूटा यूजर्स का गुस्सा

सहारा रे स्विम ने अपने ऑरा कलेक्शन 2022 के स्विमवियर के नए कलेक्शन जारी किए हैं, जिस पर विष्णु भगवान की तस्वीरें छपी हैं। इस घटना के बाद सोशल मीडिया पर बवाल मच गया। हिंदू धर्म के लोगों को यह बेहद आपत्तिजनक लगा ऑफ ये तस्वीरें देखकर लोग भड़के हुए हैं।

पॉपुलर क्लोदिंग ब्रांड सहारा रे स्विम अपने नए कलेक्शन के कारण विवादों में घिर गया है। दरअसल इस कंपनी ने अपने ऑरा कलेक्शन 2022 के स्विमवियर के नए कलेक्शन जारी किए हैं, जिस पर विष्णु भगवान की तस्वीरें छपी हैं। इस घटना के बाद सोशल मीडिया पर बवाल मच गया। हिंदू धर्म के लोगों को यह बेहद आपत्तिजनक लगा ऑफ ये तस्वीरें देखकर लोग भड़के हुए हैं।आपको बता दें कि सहारा रे क्लॉथिंग ब्रांड का स्वामित्व सहारा रे के पास है जो एक युवा सर्फर से ओनली फैंस मॉडल बनी है।

ये विवादित तस्वीरें सोशल मीडिया पर आग की तरह फैल गई हैं। लोग सोशल मीडिया पर पोस्ट के जरिए अपनी आहत हुई भावनाओं को व्यक्त कर रहे हैं।इस विवादित स्विमवियर में मॉडल की तस्वीरें साझा करते हुए एक ट्विटर यूजर ने लिखा, “तो, अब सौंदर्यशास्त्र के नाम पर, वे बिकनी बॉटम्स और टॉप्स पर प्रिंट के रूप में हिंदू देवताओं का उपयोग कर रहे हैं। यह है सहारा रे की स्विमवीयर कंपनी, जस्टिन की एक्स। क्या यह सिर्फ डिजाइन के लिए है या उनके पीछे कोई मकसद है? या अगर वे बहुत धार्मिक हैं? उन्हें इसकी शुरुआत यीशु से करनी चाहिए, है ना?" वहीं, एक अन्य ट्विटर यूजर ने कमेंट किया, 'यीशु को अपने सौंदर्यवादी डिजाइन के रूप में रखने की कोशिश क्यों नहीं करते?" इस मामले में ट्विटर के एक अन्य यूजर ने लिखा, "हिंदू देवी-देवताओं का अपमान करना अब एक फैशन बन गया है।"

लोकप्रिय ट्विटर यूजर मधुर सिंह ने बताया कि 'सहारा रे स्विम' के इंस्टाग्राम हैंडल ने आपत्तिजनक स्विमवियर कलेक्शन पर सवाल उठाने वाले यूजर्स को सबसे पहले ब्लॉक किया। इसके बाद में उन्होंने कमेंट फीचर को बंद कर दिया और उसी बिकनी में और तस्वीरें पोस्ट की। उन्होंने कहा कि "यह उनके कहने का  तरीका है कि हम श्रेष्ठ हैं, हम जो चाहें करेंगे।" 

हिंदू आईटी सेल ने एक ट्वीट के जरिए जानकारी दी, "हमने इस मामले का संज्ञान लिया है। यह पूरी तरह से अपमानजनक और हिंदू आदर्शों के खिलाफ अपमानजनक कार्य है। हम इसे बर्दाश्त नहीं करने वाले हैं और हमारी टीम इस मामले में कानूनी रूप से आगे बढ़ेगी।"