अर्जुन रामपाल ने अपनी आने वाली फिल्म 'नेल पॉलिश' के बारे में बताई ये खास बात!

अर्जुन रामपाल ने अपनी आने वाली फिल्म 'नेल पॉलिश' के बारे में बताई ये खास बात!

बॉलीवुड एक्टर अर्जुन रामपाल इस समय दो वजहों से सुर्खियों में है, पहली है उनका लगातार ड्रग्स केस के सिलसिले में एनसीबी के ऑफिस के चक्कर काटना, और दूसरी वजह है उनकी आने वाली फिल्म 'नेल पॉलिश'।

बॉलीवुड एक्टर अर्जुन रामपाल इस समय दो वजहों से सुर्खियों में है, पहली है उनका लगातार ड्रग्स केस के सिलसिले में एनसीबी के ऑफिस के चक्कर काटना, और दूसरी वजह है उनकी आने वाली फिल्म 'नेल पॉलिश'। फिल्म को लेकर काफी चर्चा है। अर्जुन रामपाल की फिल्म का ट्रेलर रिलीज हो चुका है फिल्म अब जी5 पर रिलीज होगी। 

फिल्म के बारे में बात करते हुए अर्जुन रामपाल ने बताया कि उन्हें फिल्म में अपने किरदार को निभाने की प्रेरणा कहा से मिली। अर्जुन रामपाल आगामी फिल्म नेल पॉलिश में एक बचाव पक्ष के वकील की भूमिका में नजर आने वाले हैं। अभिनेता का कहना है कि उन्होंने अपने चाचा, अधिवक्ता सुरेन्द्र सिंह, जो जबलपुर में एक आपराधिक वकील थे, से फिल्म में अपने किरदार को निभाने के लिए प्रेरणा ली है।

इसे भी पढ़ें: सिद्धार्थ मल्होत्रा ने किया अपनी नयी फिल्म का ऐलान, मिशन मजनू से करेंगी रश्मिका बॉलीवुड में डेब्यू 

उन्होंने कहा जब में छोटा था तब मध्य प्रदेश शहर में गर्मियों की छुट्टियों के दौरान मैं वकीलों के बीच अपना वक्त बिताया करता था। मैं उन्हीं के बीच बड़ा हुआ हूं, इसी से ही मुझे अपने किरदार के लिए मदद मिली। India Today  के साथ बातचीत में, अर्जुन रामपाल ने भार्गव कृष्ण की नेल पॉलिश में अपने किरदार के बारे में बात की, सह-कलाकार मानव कौल और आनंद तिवारी कोरोनवायरस से संक्रमित होने पर भी उन्होंने अपनी प्रतिक्रिया दी।

इसे भी पढ़ें: फिल्म शकीला का दूसरा गाना 'ताजा' रिलीज, बैली डांस करती दिखायी दी ऋचा चड्ढा 

उन्होंने कहा कि बहुत कम उम्र से, मैंने बहुत सारे वकील देखे हैं क्योंकि मेरे चाचा सुरेन्द्र सिंह, बहुत ही संपन्न कानून पृष्ठभूमि से आते हैं। वे आपराधिक कानून का अभ्यास करते हैं और भारत में कई बड़े मामलों को लड़ चुके हैं। स्कूल में मेरी गर्मियों की छुट्टी के दौरान, मैं उनके साथ जबलपुर में बहुत समय बिताता था। सिड जाइज़िंग में मैंने उन्हें बहुत पसंद किया है। मैंने वर्तमान समय के कई वकीलों का भी अनुसरण किया, जिनसे मुझे मिलने का अवसर मिला है। उन सभी के आसपास होने से मुझे यह समझने में मदद मिली कि वे कैसे तैयार होते हैं, सोचते हैं और उनके मामलों पर काम करते हैं।