• जब सबने छोड़ दिया था संजय दत्त का साथ उस वक़्त ठाकरे ने की थी उनकी मदद

फिल्म अभिनेता संजय दत्त की मां नरगिस दत्त बाला साहेब ठाकरे को अपना भाई मानती थीं और एक बार कहा था कि अगर कोई परेशानी हो, तो मेरा एक भाई है बाला साहेब ठाकरे उसके पास चले जाना।

बाल ठाकरे के जीवन पर आधारित फ़िल्म रिलीज़ हो गयी है। इसमें शिवसेना प्रमुख बालाजी साहेब ठाकरे के किरदार में अभिनेता नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी नज़र आएंगे। अभी तक फ़िल्म के ट्रेलर ने तहलका मचा रखा है अब फिल्म ने भी मचा दिया है, बिल्कुल वैसे ही जैसे अपने जीवनकाल में बाल ठाकरे की मजबूत शख़्सियत ने मचा रखा था। 

इसे भी पढ़ेंः परंपरागत नायिका के फ्रेम को हमेशा तोड़ने वाली कंगना मणिकर्णिका में छाईं

एक अच्छे व्यक्तित्व के साथ-साथ ठाकरे एक बहुत अच्छे पेंटर भी थे। उन्होंने सिर्फ़ मुंबई को ही नहीं संभाला, बल्कि क्या आप जानते हैं कि आपके चहेते अभिनेता संजय दत्त की भी नैय्या शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे ने ही पार लगाई थी। दरअसल, ये बात उस वक़्त की है जब संजय दत्त टाडा के केस में जेल में थे। उस वक़्त सबने अपने हाथ खड़े कर लिए थे। तब ख़बरें थीं कि सिल्वर जुबली अभिनेता राजेंद्र कुमार जो सुनील दत्त के समधी हैं, उन्होंने सुनील दत्त से बालाजी साहेब ठाकरे के पास जाने को कहा, उस वक़्त तो सुनील दत्त भड़क गए थे। मगर फिर कुछ दिन बाद वो जाने के लिए तैयार हो गए। तब राजेंद्र कुमार उन्हें बालाजी साहेब ठाकरे के पास लेकर गए। इतने बड़े अभिनेता ने राजेंद्र कुमार से पूछा था कि मैं उनसे कैसे बात करूंगा। इस पर राजेंद्र कुमार ने उनसे कहा कुछ मत कहना बस अपने गुस्से को कंट्रोल रखना। इस मीटिंग के बाद बाल ठाकरे ने सुनील दत्त को आश्वासन दिया कि वो संजय दत्त को बचा लेंगे।

आपको बता दें कि संजय दत्त की बहन नम्रता दत्त की शादी राजेंद्र कुमार के बेटे कुमार गौरव से हुई है। ये 1993 का दौर था जब संजय दत्त को ग़ैर क़ानूनी तरीके से हथियार रखने के लिए जेल की सज़ा काटनी पड़ी थी। उस वक़्त सुनील दत्त ख़ुद भी एक कांग्रेसी नेता थे, लेकिन अपने बेटे के लिए कुछ नहीं कर पा रहे थे। वो संजय की बेल के लिए दिल्ली तक गए, लेकिन कोई उनकी मदद करने को तैयार नहीं था। उस वक़्त सिर्फ़ शिवसेना सुप्रीमो बालाजी साहेब ठाकरे ने उनकी मदद की।

इसे भी पढ़ेंः जानिए क्या किया जाह्नवी ने जब उन्हें फोटोग्राफरों ने 'सारा' कह कर बुलाया !

संजय दत्त के पुराने इंटरव्यू के अनुसार उन्होंने बताया था कि साहेब का मैसेज रोज़ आता था। उस मैसेज में लिखा होता था, कि ‘संजया को फ़िकर नहीं करने का, मैं हूं इधर।’ आगे बताया कि जेल से रिहा होते ही सिद्धीविनायक के दर्शन के बाद वो साहेब से मिलने गए थे। वो असल शेर थे। ग़ौरतलब है, कि संजय दत्त की मां नरगिस दत्त उन्हें अपना भाई मानती थीं और एक बार कहा था कि अगर कोई परेशानी हो, तो मेरा एक भाई है बाला साहेब ठाकरे उसके पास चले जाना।

बालाजी साहेब ठाकरे के जीवन पर आधारित फ़िल्म 25 जनवरी को रिलीज़ हुई।

- आकांक्षा तिवारी