जावेद अख्तर के सुनहरे शब्दों ने बदल दी थी आमिर खान की तकदीर, पढ़े उनकी जिंदगी के अनसुने किस्से

जावेद अख्तर के सुनहरे शब्दों ने बदल दी थी आमिर खान की तकदीर, पढ़े उनकी जिंदगी के अनसुने किस्से

14 मार्च 1965 को जन्में आमिर खान आज बॉलीवुड के सबसे दमदार अभिनेता है। आमिर ने अपने कॅरियर में चार राष्ट्रिय फिल्म पुरस्कार और सात फिल्मफेयर अवार्ड जीते हैं। भारत सरकार की तरफ से उन्हें 2003 में पद्मश्री और 2010 में उन्हें पद्म भूषण से भी नवाज़ा गया था।

बॉलीवुड एक्टर आमिर खान एक कमाल के एक्टर के साथ-साथ निर्देशक, निर्माता, टेलीविज़न हस्ती, सामाजिक कार्यकर्त्ता, स्क्रिप्ट राइटर और मानव प्रेमी भी है। आमिर खान ने अपने फिल्मी कॅरियर की शुरूआत बचपन से ही कर दी थी। बाल कलाकार के रूप में आमिर की पहली फिल्म 'यादों की बारात' थी। इसके बाद वह कई फिल्मों में छोटे-मोटे रोल में नजर आये थे। आमिर खान के पिता ताहिर हुसैन भी से ताल्लुक रखते थे। ताहिर हुसैन फ़िल्म निर्माता थे लेकिन उनकी फिल्मों ने कुछ खास कमाल नहीं किया और ताहिर ने धीरे-धीरे फिल्में बनाना कम कर दिया। 

पिता का काम खराब चलने के कारण आमिर खान का बचपन काफी तंगी में गुजरा। एक समय था जब आमिर खान के घरवालें आमिर के स्कूल की फीस तक नहीं दे पा रहे थे। आमिर के स्कूल के नोटिस बोर्ड पर 6 महीने तक लेट फीट देने का नोटिस लगा हुआ था। हालात ऐसे थे कि आमिर खान की मां जीनत हुसैन जब स्कूल की वर्दी सिलवाती थी तो वह काफी ढीली- ढाली होती थी ताकि आमिर उसे लंबे समय कर पहन सकें। आज करोड़ो के मालिक आमिर खान ने अपने बचपन में बुरा वक्त देखा था। 

इसे भी पढ़ें: टल गयी है वरुण की फिल्म Mr. लेले, नाराज़ हुए उनके फैंस!

14 मार्च 1965 को जन्में आमिर खान आज बॉलीवुड के सबसे दमदार अभिनेता है। आमिर ने अपने कॅरियर में चार राष्ट्रिय फिल्म पुरस्कार और सात फिल्मफेयर अवार्ड जीते हैं। भारत सरकार की तरफ से उन्हें 2003 में पद्मश्री और 2010 में उन्हें पद्म भूषण से भी नवाज़ा गया था। 

आमिर खान के बारे में ऐसी बहुत सी चीजें है जो उनकी जिंदगी को काफी दिलचस्प बनाती हैं। क्या आप आमिर के बारे में ये बात जातने हैं वह अगर एक्टर न होते तो क्या होते। तो जनाब अगर आमिर एक्टर न बनते तो वह इंजीनियर होते। बॉलीवुड में खराब एक्पीरियंस के कारण आमिर तके घर वाले बिलकुल नहीं चाहते थे कि वह बॉलीवुड से कोई नाता रखें। आमिर के पिता चाहते थे कि वह पढ़ाई-लिखाई करके कुछ अच्छा करें ताकि आने वाली जिंदगी अच्छी बीते। आमिर खान लेकिन मनमौजी थे। उन्होंने ये ठान लिया था कि वह कुछ और नहीं बल्कि फिल्मों में ही काम करेंगे। 

इसे भी पढ़ें: इस मशहूर एक्ट्रेस को मिली रेप की धमकी, जवाब में कहा- भौंकना बंद कर हिम्मत है तो...

आमिर खान ने कमर कस ली थी और अपने चाचा नासिर हुसैन के साथ असिस्टेंट डायरेक्टर के रूप में काम करने लगे थे। एक दिन नासिर हुसैन ने जावेद अख्तर मिलने आये और उन्होंने नासिर हुसैन से पूछा कि कौन है ये लड़का? इसके जवाब में नासिर हुसैन ने कहा यह मेरा भतीजा है। जावेद अख्तर ने कहां नाहिर इस लड़के को लेकर फिल्म बना लो। उस समय तो ये बाद मजाक में समझी गयी लेकिन 6 महीने बाद निर्देशक नासिर हुसैन ने अपनी अलगी फिल्म कयामत से कयामत तक का ऐलान कर दिया। इस फिल्म का हीरो आमिर खान को बनाया गया। 

आमिर खान की ये फिल्म जूही चावला के साथ थी। दोनों की जोड़ी लोगों को काफी पसंद आयी। ये फिल्म सुपरहिट साबित हुई। इस फिल्म के दौरान ही आमिर खान से शादी कर ली थी। अब बताते हैं आपको आमिर खान और उनकी रीना दत्ता की लव स्टोरी

मेरी सामने वाली खिड़की में एक चांद का टुकड़ा रहता... अफसोस ये है कि वो हम से कुछ उखड़ा उखड़ा रहता है... किशोर दा का ये गीत बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्ट कहे जानें वाले आमिर खान की जिंदगी के कुछ पलों पर एक दम परफेक्ट बैठता है। अब आप पूछेंगे कैसे? तो जनाब हम आपको बता दें कि आमिर खान का पहला प्यार उनकी सामने वाली खिड़की में ही रहता था। साथ ही आमिर खान का घंटों अपनी खिड़की पर खड़े रहकर अपने प्यार को निहारना, सामने वाली खिड़की वाले शख्स को रास नहीं आता था।

आमिर खान आज बॉलीवुड के सुपरस्टार में से एक है। आमिर का जिसके सिर पर हाथ हो उनकी किस्मत बनना तो तय है। आमिर खान के करोड़ो दिवाने हैं... लेकिन क्या आप ये जानते हैं कि आमिर खान भी किसी के इस कदर दीवाने थे कि उन्होंने अपने खून से लेटर लिख कर अपने प्यार का इजहार किया था? जी हां आमिर खान की सामने वाली खिड़की में अपनी पहली पत्नी रीना दत्ता रहती थी... रीना दत्ता आमिर खान के घर के सामने ही रहती थी। आमिर खान अपने झरोखें से रीना को निहरते रहते... लेकिन रीना आमिर को भाव नहीं देती थी। आमिर रीना के एक तरफा प्यार में बंधे जा रहे थे। प्यार परवान चढ़ गया था लाख कोशिशों के बाद भी आमिर रीना के दिल में जगह नहीं बना पा रहे थे।

एक दिन आमिर के प्यार की इम्तिहाँ हद से पार हो गई। आमिर ने रीना से इजहार ए मोहब्बत करने का ऐलान कर लिया... और लिख दी अपने खून से मोहब्बत की कहानी... रीना के लिए आमिर ने अपने खून से जो लेटर लिखा उसे देख कर रीना ने आमिर को खूब डांटा। लेकिन आमिर ने शायद अपने प्यार की लो रीना के दिल में भी जला दी थी। रीना भी देखते ही देखते आमिर को चाहने लगी। 

साल 1986 में रीना और आमिर मे अपने रिश्ते को पति-पत्नी का नाम दे दिया दोनों ने गुपचुप तरीके से शादी कर ली। शादी गुपचुप इस लिए रखी गई क्योंकि आमिर और रीना का मजहब अलग था परिवार दोनों के रिश्ते को कभी कबूल नहीं करता। शादी के कुछ सालों बाद परिवार भी मान गया। आमिर और रीना भी खुशहाल जिंदगी में आगे बढ गये इन दोनों के दो बच्चे हैं बेटा जुनैद खान और बेटी इकरा।

लेकिन आपने वो  मिर्जा गालिब की वो शायरी तो सुनी होगी कि 'इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश 'ग़ालिब' कि लगाए न लगे और बुझाए न बने'... प्यार का मौसम निकल गया। एक ही घर में दो प्यार करने वाले सालों बाद अंजान हो गये। आमिर जल्द को किसी और से प्यार हो गया था। आमिर ने 2002 में रीना से अलग होने का फैसला कर लिया। तलाक के बाद अपने एक बयान में आमिर खान ने कहा कि तलाक रीना और उनके लिए बेहद परेशान करने वाला था और उन्होंने इस स्थिति से बेहतर तरीके से निपटने की कोशिश की। साथ ही उन्होंने ये भी कहा था कि अब भी उनके मन में रीना को लेकर इज्जत बिल्कुल कम नहीं हुई है। इसके बाद साल 2005 में उन्होंने किरण राव के साथ शादी कर ली थी।






Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

मनोरंजन जगत

झरोखे से...