फिर साधा रंगोली ने तापसी पर निशाना, कहा एक्टिंग का ए भी नहीं आता

फिर साधा रंगोली ने तापसी पर निशाना, कहा एक्टिंग का ए भी नहीं आता

हाल ही में रिलीज़ हुई तापसी और भूमि की फिल्म ''सांड की आंख'' के ट्रेलर ने सोशल मीडिया पर एक अलग ही जंग छेड़ दी है। जहां लोग ट्रेलर देख उनके अभिनय को सराहना दे रहे वहीं कुछ लोगों का यह भी मानना है कि यदि यह किरदार शूटर दादियों पर आधारित था तो क्या यह वाजिब नहीं था कि फिल्म में उसी उम्र की किसी अभिनेत्री को कास्ट किया जाये।

बॉलीवुड में कैट फाइट तो हमेशा से ही चली आ रही है लेकिन जबसे सोशल मीडिया का दौर चला है यह बातें खुल कर सामने आने लगी है। लोग अपनी सफलता से लेकर अपनी भड़ास तक सब कुछ ट्विटर, फेसबुक और इंस्टाग्राम द्वारा ज़ाहिर करने लगे हैं। और अब ये सिर्फ आम लोग ही नहीं बल्कि सिलेब्रिटीज भी करने लगे हैं।

इस ट्विटर वॉर में अब फिर से तापसी और रंगोली आमने सामने आ गए हैं। सभी जानते हैं की रंगोली ट्विटर पर काफी एक्टिव रहती हैं और वे कभी भी कोई मौका नहीं छोड़ती अपने विचारों को ट्विटर पर व्यक्त करने से फिर चाहें वे कितने ही बेधड़क क्यों न हों।

इसे भी पढ़ें: कास्टिंग काउच पर सुरवीन चावला ने किया बड़ा ख़ुलासा, डायरेक्टर्स करते थे गंदी-गंदी डिमांड

हाल ही में रिलीज़ हुई तापसी और भूमि की फिल्म 'सांड की आंख' के ट्रेलर ने सोशल मीडिया पर एक अलग ही जंग छेड़ दी है। जहां लोग ट्रेलर देख उनके अभिनय को सराहना दे रहे वहीं कुछ लोगों का यह भी मानना है कि यदि यह किरदार शूटर दादियों पर आधारित था तो क्या यह वाजिब नहीं था कि फिल्म में उसी उम्र की किसी अभिनेत्री को कास्ट किया जाये।

एक सोशल मीडिया यूजर ने कहा कि फिल्म 'सांड की आंख' में शूटर दादियों के रोल के लिए नीना गुप्ता, शबाना आजमी या जया बच्चन ज्यादा बेहतर होतीं लेकिन मेकर्स ने भूमि और तापसी को चुना। इस पर नीना गुप्ता ने भी अपनी सहमति जताते हुए ट्विटर पर लिखा, 'हां, मैं भी इस बारे में सोच रही थी। हमारी उम्र के रोल तो कम से कम हमसे करा लो भाई।'

इसके बाद कंगना रनौत की बहन रंगोली चंदेल ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा कि पहले यह फिल्म कंगना को ऑफर हुई थी लेकिन उन्होंने इसे करने से इनकार कर दिया और मेकर्स को यह भी सजेस्ट किया कि इस रोल के लिए राम्या कृष्णन या नीना गुप्ता को कास्ट किया जाना चाहिए। ये पुरुष अपने गंदे दिमाग से लिंगभेद को नहीं हटा सकते हैं।'

तापसी भी कहां चुप रहने वालों में से हैं, उन्होंने भी ट्विटर पर एक लेटर शेयर करते हुए लिखा 'मैं आशा करती हूं कि लोगों को इसके ज़रिये अपने सारे सवालों के जवाब मिल गए होंगे क्योंकि अब इस बात को खींचने में मुझे कोई रूचि नहीं मिल रही। लेटर में उन्होंने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा है कि ये लोग जो बड़े उम्र के रोल पर सवाल उठा रहे हैं, उन्होंने अपनी आवाज तब क्यों नहीं उठाई जब नरगिस दत्त, अनुपम खेर और दूसरे ऐक्टर्स ने अपने से अधिक उम्र के कैरक्टर्स प्ले किए। उन्होंने यह भी पूछा कि आयुष्मान खुराना अपनी अगली फिल्म 'शुभ मंगल सावधान' में गे कैरक्टर प्ले करेंगे तो क्या लोग उनसे भी सवाल करेंगे?

इस पर रंगोली ने एक बार फिर से तापसी के ट्वीट पर रिप्लाई करते हुए लिखा, 'ऐक्टिंग का ए भी नहीं आता और खुद की तुलना लेजंड्स से कर रही हैं। भाई जा थोड़ी ऐक्टिंग सीख ले। सफेद बाल और सस्ता प्रोस्थेटिक आपको ऐक्टर नहीं बना देगा। 60 वर्ष की उम्र वाली बॉडी लैंग्वेज का क्या? बुजुर्ग वाली आवाज कहां है? ऐक्टिंग कहां है? सो फनी।'

इसे भी पढ़ें: बॉडीगार्ड पर फूटा आलिया भट्ट का गुस्सा, क्या बर्ताव की वजह रणबीर कपूर हैं?

बता दें, कि फिल्म 'सांड की आंख' की कहानी उत्तर प्रदेश के बागपत के जोहरी गांव की दो महिलाओं चंद्रो तोमर और प्रकाशी तोमर यानी शूटर दादी की जिंदगी पर आधारित है। दोनों ने 60 वर्ष की उम्र में स्थानीय राइफल क्लब में शूटिंग सीखनी शुरू की थी। यह फिल्म इस साल दीवाली के दौरान रिलीज होने जा रही है। फिल्म में भूमि पेडनेकर ने चंद्रो और तापसी पन्नू ने प्रकाशी की भूमिका निभाई है।

अब यह तो फिल्म देखने के बाद ही पता लगेगा कि क्या तापसी एक बार फिर अपने अभिनय के हुनर से इन सभीं के मुंह पर ताला लगा पाती हैं या नहीं।

- श्वेता उपाध्याय






Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

मनोरंजन जगत

झरोखे से...