अडाणी समूह की अनुषंगियों ने गंगा एक्सप्रेसवे के लिए 10,238 करोड़ रुपये जुटाए

Adani Group
ANI
कंपनी ने एक बयान में कहा कि सार्वजनिक-निजी भागीदारी के तहत विकसित की जाने वाली इस परियोजना के लिए उसकी अनुषंगियों को कर्जदाताओं से 10,238 करोड़ रुपये का वित्त मिल गया है। इस परियोजना अनुबंध की अवधि 30 साल की होगी जिसमें तीन साल की निर्माण अवधि भी शामिल है।

नयी दिल्ली। अडाणी एंटरप्राइजेज लिमिटेड ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसके पूर्ण स्वामित्व वाली तीन अनुषंगियों ने उत्तर प्रदेश में छह लेन वाली गंगा एक्सप्रेसवे परियोजना के लिए वित्त की व्यवस्था कर ली है। कंपनी ने एक बयान में कहा कि सार्वजनिक-निजी भागीदारी के तहत विकसित की जाने वाली इस परियोजना के लिए उसकी अनुषंगियों को कर्जदाताओं से 10,238 करोड़ रुपये का वित्त मिल गया है। इस परियोजना अनुबंध की अवधि 30 साल की होगी जिसमें तीन साल की निर्माण अवधि भी शामिल है।

इसे भी पढ़ें: मंजूरी के बिना चल रहे निजी नर्सिंग कॉलेज मामले में अदालत ने सीबीआई जांच के निर्देश दिए

उत्तर प्रदेश में मेरठ और प्रयागराज के बीच गंगा एक्सप्रेसवे का निर्माण किया जाएगा। यह देश का सबसे लंबा एक्सप्रेसवे होगा जिसे ‘डिजाइन, निर्माण, वित्त, परिचालन एवं हस्तांतरण’ (डीबीएफओटी) मॉडल पर विकसित किया जाएगा। अडाणी एंटरप्राइजेज की तीन अनुषंगियां- बदायूं-हरदोई रोड प्राइवेट लिमिटेड, हरदोई-उन्नाव रोड प्राइवेट लिमिटेड और उन्नाव-प्रयागराज रोड प्राइवेट लिमिटेड मिलकर इस परियोजना का विकास करेंगी।

इसे भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल में चुनाव बाद हुई हिंसा को दुर्गा पूजा पंडाल का विषय बनाया गया

अडाणी एंटरप्राइजेज के सड़क कारोबार के मुख्य कार्यपालक अधिकारी के पी माहेश्वरी ने कहा कि इस परियोजना के लिए भारतीय स्टेट बैंक ने 10,238 करोड़ रुपये की समूची कर्ज जरूरत को पूरा करने पर सहमति दे दी है। अडाणी समूह के सड़क कारोबार में अब 18 परियोजनाएं शामिल हो चुकी हैं जिनके तहत 6,400 किलोमीटर लंबे लेन का विकास किया जाएगा। ये परियोजनाएं उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात और पश्चिम बंगाल समेत 10 राज्यों में संचालित होंगी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़