एयर इंडिया के टाटा समूह के हाथ में आते ही,इन बैंकों द्वारा दिया जा रहा है कर्ज का ऑफर

Air India
अभी बैंक एयर इंडिया के पुराने कर्ज पर 9 से 10 फीसद का ब्याज ले रहे हैं। आपकी जानकारी के लिए यह भी बता दें कि, इकनॉमिक टाइम्स की इस खबर की आधिकारिक तौर पर पुष्टि अभी न ही टाटा समूह और ना ही बैंकों की ओर से की गई है।

इस साल की सबसे बड़ी बिजनेस डील अगर कोई है एयर इंडिया की नीलामी। आपको बता दें कि, एयर इंडिया की नीलामी में टाटा समूह में सबसे बड़ी बोली लगाई और एक बार फिर एयर इंडिया टाटा की हो गई। 1 महीने के अंदर एयर इंडिया का नियंत्रण टाटा समूह के पास आ जाएगा। एयर इंडिया का टाटा समूह के पास नियंत्रण आने का असर इसके बैंकिंग साख पर भी दिखने लगा है। एयर इंडिया के जो कर्ज़दाता हैं, उन्होंने टाटा समूह से जुड़ी कंपनी को 35000 करोड़ रुपए का लोन ऑफर दिया है। यह ऑफर टाटा समूह से जुड़ी उस कंपनी को दिया गया है जो एयर इंडिया का नियंत्रण संभालेगी।

 इकनॉमिक टाइम्स में छपी एक रिपोर्ट यह बताती है कि, एयर इंडिया के कर्जदाता बैंकों ने टाटा समूह से ही जुड़ी Talace को 35,000 करोड़ रुपये से ज्यादा का कर्ज का ऑफर दिया है। यह लोन भी मात्र 4.25 फीसदी के वेटेड एवरेज यील्ड पर ही दिया जाएगा। निजीकरण की प्रक्रिया पूरी होने के बाद एयर इंडिया talace नियंत्रण में आ जाएगी। आपको बता दें कि, talace टाटा संस का ही प्रमोटर है। इसने ही एयर इंडिया के कर्जदाता बैंकों को जनरल पर्पस के 1 वर्ष के 23 हजार करोड़ रुपये के कर्ज की बोली लगाने को कहा था। कंपनी ने बताया था कि उसे 18000 करोड रुपये एयर इंडिया के कर्ज के लिए और 5000 करोड़ रुपये उसके शुरुआती ऑपरेटिंग कॉस्ट के लिए चाहिए।

 बैंकों के इस तरह के ऑफर के बाद टाटा समूह की साख का पता चलता है। पैसों के संकट से जूझती एयर इंडिया का सरकार ने निजीकरण कर दिया है। अब जब एयर इंडिया टाटा के हाथों में आ गई तो उसे बैंक कर्ज देने का न्योता या कहें ऑफर देने लगे हैं। इकनॉमिक  टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, टाटा समूह को बैंकों ने बिना कुछ गिरवी रखे अनरेटेड लोन देने के लिए एक रेजोल्यूशन पास किया।

 इकनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, जिन बैंकों ने टाटा समूह को सस्ते कर्ज का ऑफर दिया है, उन बैंकों में एसबीआई, पीएनबी, बैंक ऑफ बड़ौदा और यूनियन बैंक शामिल है। इन बैंकों ने टाटा को 3000 से 12 हजार करोड़ तक का कर्ज देने का ऑफर दिया है। सबसे मजेदार बात यह है कि, अगर इकनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट की माने, तो एयर इंडिया के पुराने कर्ज को चुकाने के लिए टाटा को नया कर्ज मिलेगा और उसका ब्याज भी बहुत कम होगा।

 इस साल जो नीलामी हुई उसमें एयर इंडिया के लिए टाटा समूह की talace ने सबसे बड़ी 18000 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी। इस 18000 करोड रुपये में 15,300 करोड़ रुपये एयर इंडिया का पुराना कर्ज चुकाने हेतु, जबकि 27 सौ करोड़ रुपए सरकार को कैश के रूप में दिए जाएंगे। आपको बता दें कि, अभी बैंक एयर इंडिया के पुराने कर्ज पर 9 से 10 फीसद का ब्याज ले रहे हैं। आपकी जानकारी के लिए यह भी बता दें कि, इकनॉमिक टाइम्स की इस खबर की आधिकारिक तौर पर पुष्टि अभी न ही टाटा समूह और ना ही बैंकों की ओर से की गई है।

अन्य न्यूज़