केंद्र को जीएसटी आने के बाद से शुरू राज्यों की आर्थिक मदद जारी रखनी चाहिए: अजित पवार

Ajit Pawar
महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने बुधवार को कहा कि माल एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू होने के बाद से केंद्र सरकार राज्यों को जो वित्तीय सहायता दे रही है, वह उसे कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए कम से कम और दो वर्ष के लिए जारी रखना चाहिए।

पुणे। महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने बुधवार को कहा कि माल एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू होने के बाद से केंद्र सरकार राज्यों को जो वित्तीय सहायता दे रही है, वह उसे कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए कम से कम और दो वर्ष के लिए जारी रखना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: बजट 2022: बीमा कंपनियों ने 80सी के तहत निवेश सीमा बढ़ाने की मांग की

गणतंत्र दिवस के अवसर पर राष्ट्र ध्वज फहराने के बादपवार ने संवाददाताओं से कहा कि अन्य राज्यों के वित्त मंत्रियों ने भी ऐसी ही मांग की है। पवार के पास राज्य के वित्त मंत्री की भी जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा, ‘‘आम बजट पर हमारी नजर है। पांच साल पहले जब जीएसटी व्यवस्था शुरू हुई थी, तब से राज्यों को केंद्र से एक निश्चित राशि मिलती है लेकिन अब यह मिलना बंद हो जाएगी।

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री रोशनी योजना के तहत गरीबों को निःशुल्क विद्युत कनेक्शन-सुखराम चौधरी

हमारी केंद्र से अपील है कि महामारी के हालात को देखते हुए इस मदद को और दो साल के लिए जारी रखा जाए।’’ पवार ने कहा कि अगर सरकार इस मदद को रोक देगी तो हमें महाराष्ट्र में होने वाले जीएसटी संग्रह की जानकारी खंगालनी होगी। उन्होंने कहा, ‘‘ मैं राजस्व संग्रह के बारे में जानकारी लेने के लिए अधिकारियों के साथ बैठक कर रहा हूं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़