मेटावर्स पर आधारित ‘वैश्विक सहयोग गांव’ का प्रोटोटाइप पेश

Metaverse presented
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
डब्ल्यूईएफ के इस मेटावर्स-आधारित वैश्विक सहयोग गांव के प्रोटोटाइप को प्रौद्योगिकी कंपनियों एक्सेंचर एवं माइक्रोसॉफ्ट ने विकसित किया है। इसमें भावी बैठकों एवं सम्मेलनों के लिए एक टाउन हॉल और एक वर्चुअल कांग्रेस सेंटर भी है।

विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) ने मंगलवार को मेटावर्स पर आधारित अपने ‘वैश्विक सहयोग गांव’ का एक कार्यशील प्रोटोटाइप पेश किया। दुनिया की बड़ी चुनौतियों से निपटने, नई चीजें जानने और समाधान तैयार करने के लिए कंपनियां इस मेटावर्स का हिस्सा बन सकती हैं। डब्ल्यूईएफ के इस मेटावर्स-आधारित वैश्विक सहयोग गांव के प्रोटोटाइप को प्रौद्योगिकी कंपनियों एक्सेंचर एवं माइक्रोसॉफ्ट ने विकसित किया है। इसमें भावी बैठकों एवं सम्मेलनों के लिए एक टाउन हॉल और एक वर्चुअल कांग्रेस सेंटर भी है।

इस मौके पर डब्ल्यूईएफ के संस्थापक एवं कार्यकारी चेयरमैन क्लॉस श्वाब ने कहा, ‘‘वैश्विक सहयोग गांव के साथ हम मेटावर्स प्रौद्योगिकी वाला पहला सार्वजनिक उद्देश्य-उन्मुख एप्लिकेशन बना रहे हैं। हम वर्चुअल जगत में स्थित एक वास्तविक वैश्विक गांव बना रहे हैं।’’ उन्होंने कहा कि सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्रों के साझेदारों की मदद से तैयार यह गांव मेटावर्स प्रौद्योगिकी की अग्रणी क्षमताओं का इस्तेमाल करेगा और मौजूदा समय के बड़े मुद्दों का समाधान अधिक मुक्त, समावेशी एवं टिकाऊ ढंग से निकाला जा सकेगा।

एक्सेंचर की चेयरपर्सन एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी जूली स्वीट ने दावा किया कि मेटावर्स डिजिटल एवं भौतिक दुनिया के बीच पुल बनाकर हर कारोबार के प्रत्येक हिस्से को व्यापक स्तर पर बदल देगा। उन्होंने कहा, ‘‘समय के साथ यह कंपनियों को नवाचारी नए उपभोक्ता उत्पाद एवं सेवाओं को मूर्तरूप देने में सक्षम बनाएगा, उनके विनिर्माण एवं परिचालन में आमूलचूल बदलाव लेकर आएगा।’’ माइक्रोसॉफ्ट के वाइस चेयरमैन एवं अध्यक्ष ब्रैड स्मिथ ने कहा, ‘‘हमारा मत है कि मेटावर्स में हमारे संचार एवं सहयोग के तरीकों को बुनियादी तौर पर बदल देने की क्षमता है। इससे भौतिक दुनिया की सीमाओं से पार पाने का रास्ता निकलेगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़