RBI ने बड़े NBFC और HFC की कड़ी निगरानी की जरूरत पर जोर दिया

rbi-emphasizes-the-need-for-strict-monitoring-of-large-nbfcs-and-hfcs
रिजर्व बैंक ने अर्द्धवार्षिक वित्तीय स्थिरता रिपोर्ट (एफएसआर) में ये टिप्पणियां ऐसे समय में आयी हैं जब पिछले साल सितंबर के बाद कई एनबीएफसी और एचएफसी में संकट सामने आया है। इस क्षेत्र की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक आईएलएंडएफएस समूह भी तरलता संकट में फंस गयी। इसके ऊपर करीब एक लाख करोड़ रुपये का बकाया है।

मुंबई। रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने बड़ी गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) तथा आवास क्षेत्र में वित्तपोषण करने वाली कंपनियों (एचएफसी) पर कड़ी निगरानी की जरूरत को बृहस्पतिवार को रेखांकित किया। उसने कहा कि बड़े एनबीएफसी या एचएफसी के असफल होने का असर किसी बड़े बैंक के बंद होने जैसा हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: सभी आकार-प्रकार के सिक्के पूरी तरह से वैध, लोग बिना झिझक के उसे स्वीकार करें: RBI

रिजर्व बैंक ने अर्द्धवार्षिक वित्तीय स्थिरता रिपोर्ट (एफएसआर) में ये टिप्पणियां ऐसे समय में आयी हैं जब पिछले साल सितंबर के बाद कई एनबीएफसी और एचएफसी में संकट सामने आया है। इस क्षेत्र की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक आईएलएंडएफएस समूह भी तरलता संकट में फंस गयी। इसके ऊपर करीब एक लाख करोड़ रुपये का बकाया है।

इसे भी पढ़ें: RBI ने वित्त बाजार के महत्वपूर्ण मानदंडों के प्रशासन के लिए जारी किए दिशानिर्देश

केंद्रीय बैंक ने कहा कि एनबीएफसी और एचएफसी में विशेष प्रकार के संकट के कारण बैंकिंग प्रणाली को हुए नुकसान से यह पता चलता है कि इनमें से किसी बड़ी कंपनी के नकदी संकट में फंसने से वैसा ही नुकसान हो सकता है जो किसी बड़े बैंक के बंद हो जाने से होता है। इससे बड़े एनबीएफसी और एचएफसी पर कड़ी निगरानी की जरूरत का पता चलता है। 

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़