रूस-यूक्रेन संघर्ष से वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए पैदा हुआ बड़ा जोखिम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 24, 2022   17:55
रूस-यूक्रेन संघर्ष से वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए पैदा हुआ बड़ा जोखिम

यूक्रेन पर रूस के हमले और जवाब में पश्चिम की ओर से प्रतिबंध से पूरी दुनिया मंदी में घिर जाएगी, यदि यह सोचा जा रहा है तो ऐसा नहीं है। दोनों देश मिलकर वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में दो प्रतिशत से कम का योगदान करते हैं।

वाशिंगटन। एक कमजोर वैश्विक अर्थव्यवस्था को जिस संघर्ष की जरूरत नहीं थी, वह आखिरकार शुरू हो गया है। इससे मुद्रास्फीति बढ़ सकती है, शेयर बाजारों में भारी गिरावट का दौर शुरू हो सकता है, और दुनिया में सभी के लिए परेशानी बढ़ सकती है। यूक्रेन पर रूस के हमले और जवाब में पश्चिम की ओर से प्रतिबंध से पूरी दुनिया मंदी में घिर जाएगी, यदि यह सोचा जा रहा है तो ऐसा नहीं है। दोनों देश मिलकर वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में दो प्रतिशत से कम का योगदान करते हैं। कई क्षेत्रीय अर्थव्यवस्थाएं मजबूत स्थिति में हैं और महामारी की मंदी के बाद तेजी से पुनरुद्धार दर्ज कर रही हैं। फिर भी संघर्ष से कुछ देशों और उद्योगों को गंभीर आर्थिक नुकसान का खतरा है। रूस पेट्रोलियम का दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक है और प्राकृतिक गैस का प्रमुख निर्यातक है। 

इसे भी पढ़ें: शेयर बाजार धड़ाम, कुछ ही मिनटों में निवेशकों को आठ लाख करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान

यूक्रेन के खेत दुनियाभर में लाखों लोगों का पेट भरते हैं। दूसरी ओर वित्तीय बाजार एक अनिश्चित स्थिति में हैं, क्योंकि केंद्रीय बैंक ब्याज दरों को बढ़ाने के लिए तैयार हैं। ऐसे में खर्च कम होने तथा एक और मंदी का खतरा बढ़ सकता है। बैंकों के एक कारोबारी समूह अंतरराष्ट्रीय वित्त संस्थान की उप मुख्य अर्थशास्त्री एलिना रिबाकोवा ने कहा, ‘‘मैं केवल जीडीपी हिस्सेदारी की गणना करके गुमराह नहीं होऊंगी... विशेष रूप से ऐसे वक्त में जब जिंस कीमतें पहले ही बढ़ी हुई हैं, मुद्रास्फीति पहले से ही अधिक है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘वैश्विक अर्थव्यवस्था की स्थिति को देखते हुए यह एक मुश्किल क्षण है।’’ रूस का हमला पहले से ही ऊंची ऊर्जा कीमतों को और बढ़ा सकता है, जिससे यूरोप में आर्थिक पुनरुद्धार धीमा हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें: यूक्रेन पर रूस के हमले से सहमा बाजार, सेंसेक्स ने लगाया 2,700 अंक से अधिक का गोता

कोलंबिया विश्वविद्यालय के यूरोपीय संस्थान के निदेशक एडम टूज ने कहा, ‘‘यूरोप में गैस की कीमतें पहले से ही उपभोक्ताओं को परेशान कर रही हैं, खासतौर से निन्म आय वाले परिवारों को।’’ महंगी गैस ने उर्वरक उत्पादकों और कुछ अन्य भारी औद्योगिक विनिर्माताओं को उत्पादन घटाने के लिए मजबूर कर दिया है। यूक्रेन दुनिया का पांचवां सबसे बड़ा गेहूं निर्यातक है, और वहां तनाव बढ़ने से प्रमुख कृषि उत्पादों के भाव बढ़ सकते हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।