कोरोना महामारी का असर! किराए पर ऑफिस के फर्नीचर की बढ़ रही डिमांड

कोरोना महामारी का असर! किराए पर ऑफिस के फर्नीचर की बढ़ रही डिमांड

फैबरेन्टो के संस्थापक सिद्धांत लांबा के अनुसार, तीन महीने के लगे कोरोना लॉकडाउन के कारण ज्यादातर कर्मचारियों का काम घर से हो रहा है, लेकिन वहीं पेशवरों को वर्क फॉर्म होम कल्चर बिल्कुल भा नहीं रहा है क्योंकि उन्हें घर से काम करने में कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

कोरोना महामारी के कारण कई कर्मचारियों ने वर्क फॉर्म होम कल्चर को अपनाया हुआ है। इस महामारी के बीच अब ऑफिस के फर्नीचर को किराए पर देने की मांग काफी तेजी से बढ़ गई है। बाजार विशेषज्ञों के मुताबिक, कर्मचारियों के वर्क फॉर्म होम होने से अब ऑफिस के फर्नीचर को किराए पर दिया जा रहा है। फैबरेन्टो के संस्थापक सिद्धांत लांबा के अनुसार, तीन महीने के लगे कोरोना लॉकडाउन के कारण ज्यादातर कर्मचारियों का काम घर से हो रहा है, लेकिन वहीं पेशवरों को वर्क फॉर्म होम कल्चर बिल्कुल भा नहीं रहा है क्योंकि उन्हें घर से काम करने में कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इसका कारण है आरामदायक ऑफिस फर्नीचर का घरों में उपलब्ध नहीं होना। 

इसे भी पढ़ें: सेंसेक्स की टॉप 10 में से 7 कंपनियों के बाजार पूंजीकरण में 67,622 करोड़ की बढ़ोतरी

बढ़ी ऑफिस के फर्नीचर की मांग

कोरोना अनलॉक की घोषणा के बाद सरकार ने कई चीजों को खोलने की राहत दी जिसके बाद भी कई कर्मचारी वर्क फॉर्म होम ही कर रहे है। जून के महीनें में शुरू हुए अनलॉक के पहले चरण की घोषणा के बाद कई पेशवर कर्मचारियों ने घर से काम के लिए ऑफिस डेस्क की मांग की है। इसमें आरामदायक कुर्सिया भी शामिल है। इसके अलावा घरेलू उपकरण की भी मांग तेजी से बढ़ रही है। बता दें कि सभी ऑफिस वाले फर्नीचर खरीद नहीं सकते है जिसके कारण इन फर्नीचर की मांग तेजी से बढ़ रही है। 

नाइट फ्रेैंक की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 70 फीसदी से ज्यादा कपंनियां अपने कर्मचारियों के लिए कम से कम 6 महीनें तक वर्क फॉर्म होम कल्चर की निति को अमल करने जा रही है। इस निति को अमल करने की वजह यह है कि कपंनियों को घर से काम करने में कोई नुकसान नहीं हुआ और न ही कंपनियों की उत्पादकता पर कोई असर पड़ा है। सिटी फर्निश के संस्थापक एंव मुख्य कार्यकारी अधिकारी नीरव जैन ने कहा कि कंपनी को घर से काम करने से संबधित सामानों जैसे टेबल, कुर्सी की मांग 40 फीसदी बढ़ी है। इसके अलावा घरेलू उपकरणों, आरामदायक बिस्तरों की भी मांग भी तेजी से बढ़ रही है। 






Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

बिज़नेस

झरोखे से...