कार सबस्क्रिप्शन मॉडल के साथ ऑटो उद्योग को पुनर्जीवित करने के लिए तैयार ज़ूमकार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 23, 2019   18:54
कार सबस्क्रिप्शन मॉडल के साथ ऑटो उद्योग को पुनर्जीवित करने के लिए तैयार ज़ूमकार

उल्लेखनीय रूप से ज़ूमकार ने भी इस साल मार्च में 3,200 कार सबस्क्रिप्शन के साथ देश की सबसे बड़ी कार डीलरशिप से दो गुना बड़ा आंकड़ा हासिल करने का रिकॉर्ड बनाया। तब से इसका शेयर्ड सबस्क्रिप्शन प्लेटफार्म 15,000 यूनिट प्रति माह की प्रभावी दर को प्राप्त करने के लिए पांच गुना तेजी से बढ़ा है।

नई दिल्ली। जूमकार का शेयर्ड सबस्क्रिप्शन बाजार इस समय प्रति वर्ष मूव होने वाली कार यूनिट्स के 12 प्रतिशत कुल शहरी यात्रियों को परिवहन करा रहा है। वॉल्युम के मामले में यह सिर्फ  मारुति सुजुकी और हुंडई मोटर्स से पीछे है। ‘कार के पूर्ण स्वामित्व के मुकाबले पहुंच को महत्व’’ देने की प्रवृत्ति उपभोक्ताओं में बढ़ रही है और इसी के दम पर ज़ूमकार ने अकेले अगस्त 2019 में अपने शेयर्ड मोबिलिटी प्लेटफॉर्म से बड़े पैमाने पर 15,000 कार सबस्क्रिप्शन रन-रेट हासिल किया। यह अगस्त 2019 में कारों की बिक्री की संख्या के मामले में मारुति सुजुकी और हुंडई मोटर इंडिया के बाद भारत की तीसरी सबसे बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनी है।

इसे भी पढ़ें: यातायात नियमों पर बोले नितिन गडकरी, ज्यादातर राज्य नए कानून को लेकर सहमत

उल्लेखनीय रूप से ज़ूमकार ने भी इस साल मार्च में 3,200 कार सबस्क्रिप्शन के साथ देश की सबसे बड़ी कार डीलरशिप से दो गुना बड़ा आंकड़ा हासिल करने का रिकॉर्ड बनाया। तब से इसका शेयर्ड सबस्क्रिप्शन प्लेटफार्म 15,000 यूनिट प्रति माह की प्रभावी दर को प्राप्त करने के लिए पांच गुना तेजी से बढ़ा है। प्लेटफार्म ने हाल ही में निसान, टोयोटा, वोक्सवैगन, और रेनॉल्ट सहित कई ऑटोमोबाइल कंपनियों से समझौता किया है और उनके बेड़े / मॉडल शामिल किए हैं।

इसे भी पढ़ें: अरविंद केजरीवाल सम-विषम योजना से आगे क्यों नहीं बढ़ पाते ?

यह प्लेटफार्म भारत के डिजिटल बाजार के साथ वाहन निर्माताओं को एकीकृत कर और तकनीकी क्रांति के माध्यम से नॉन-इंटेन्डर्स को कन्वर्ट कर उद्योग की मंदी को उलटने का लक्ष्य बना रहा है। भारत में चल रहे डिजिटल ड्राइव के साथ भारत में इंटरनेट बेस पहले ही 500 मिलियन का आंकड़ा पार कर चुका है और इस साल के अंत तक 650 मिलियन तक पहुंचने की संभावना है। यह कनेक्टेड कंज्यूमर्स का एक परिपक्व डिजिटल बाजार प्रस्तुत करता है।

इसे भी पढ़ें: चालान के लिये रोके जाने पर भड़के व्यक्ति ने फूंक दी खुद की मोटरसाइकिल

जब बात कार के स्वामित्व की आती है, तो परंपरागत रूप से सभी ओईएम शीर्ष 10 परसेंटाइल या आय के मामले में अधिक संपन्न वर्ग (एसईसी ए) को टारगेट करते हैं। हालांकि, ज़ूमकार अपने शेयर्ड सबस्क्रिप्शन प्लेटफार्म के माध्यम से कार के स्वामित्व kr बाधाओं को सफलतापूर्वक तोड़ता है जैसे कि डाउनपेमेंट, कार लोन, स्वामित्व की लागत आदि। दिलचस्प बात यह है कि ज़ूमकार के 90% ग्राहक ऐसे हैं जो कार खरीदने के इच्छुक नहीं हैं। उन्होंने कभी कार का मालिक होने के बारे में नहीं सोचा। लेकिन जूमकार के सब्सक्रिप्शन प्लेटफॉर्म पर जीरो डाउनपेमेंट, नो कार लोन, मेंटेनेंस कॉस्ट और इंश्योरेंस कॉस्ट जैसे फीचर्स के कारण अचानक से कार का होना, आर्थिक रूप से एक भयावह विकल्प/पसंद नहीं रहा है।

इसे भी पढ़ें: जुर्माना जान बचाने के लिए बढ़ाया गया, जिसे जो कमेंट करना हो करता रहेः वीके सिंह

ज़ूमकार की तकनीकी क्षमता और सभी कनेक्टेड ऐप इकोसिस्टम के कारण जब आप अपनी सबस्क्राइब्ड कार का उपयोग नहीं कर रहे, तो आप इसे कुछ ही टैप के माध्यम से दोबारा ज़ूमकार की लिस्ट में शामिल कर सकते हैं ताकि कार को अपने अल्पकालिक किराएदारों के साथ साझा किया जा सके और सबस्क्रिप्शन की 70 प्रतिशत तक की लागत की भरपाई की जा सके। यह एक ही मॉडल की मासिक ईएमआई की तुलना में सबस्क्रिप्शन लागत को कम करती है। यह अचानक एक कार को पहले की तुलना में अधिक सुलभ और सस्ती बनाता है और बड़े पैमाने पर मध्यम वर्ग (एसईसी ए + एसईसी बी), जिनकी बहुसंख्यक आबादी नॉन-इंटेडेड (जिनकी इच्छा कार खरीदने की नहीं थी), अचानक कार खरीद सकते हैं। तकनीक का उपयोग कर किसी प्रोडक्ट के लोकतंत्रीकरण करने का यह एक उत्कृष्ट उदाहरण है।

इससे बाजार चार गुना बड़ा हो गया, जो कार तक पहुंच बना सकता है। मार्केट कैटेलिस्ट के रूप में ज़ूमकार नए युग के उपभोक्ताओं को परेशानी से मुक्त कार के स्वामित्व से परिचित कराकर मांग को फिर से बढ़ाने में मदद कर सकता है। इसी समय टेक-ड्रिवन प्लेटफार्म स्वामित्व के मुकाबले पहुंच का चयन करने के बड़े पैमाने पर बाजार के ट्रेंड के साथ मिलकर वाहन निर्माताओं की बिक्री में वृद्धि करेगा।

इसे भी पढ़ें: सिर्फ चालान काटने की होड़ है, जनता की परेशानियों से किसी को लेना-देना नहीं

ज़ूमकार के सह-संस्थापक और सीईओ ग्रेग मोरन ने कहा, “हमारा विजन नए युग के ग्राहकों को परेशानी से मुक्त कार स्वामित्व से परिचित कराना है। ज़ूमकार में हमने हमेशा अपने ग्राहकों को बेहतर मोबिलिटी विकल्पों के साथ सशक्त बनाया है और हम ऐसा ही आगे भी बड़े पैमाने पर करते रहेंगे। यह ऑटोमोबाइल उद्योग को भी सकारात्मक रूप से प्रभावित करता है क्योंकि यह विभिन्न सामाजिक आर्थिक समूहों के लिए कार के स्वामित्व से जुड़ी आर्थिक बाधाओं को समाप्त करता है।

साथ ही यह डिजिटल प्रौद्योगिकी को उस क्षेत्र की ओर ले जाता है, जो अब तक काफी हद तक डिजिटल इनफ्लक्स में पीछे रह गया है।भारत में चल रही डिजिटल लहर के साथ यह प्लेटफार्म पूरे भारत में कार के उपयोग से ऑटोमोबाइल उद्योग में एक बड़ा बदलाव ला सकता है, विशेष रूप से पूरे देश में इसके तेजी से बढ़ते बिजनेस फुटप्रिंट के साथ।

ज़ूमकार के बारे में 

ज़ूमकार ने 2013 में कार शेयरिंग सेवाओं की शुरुआत के साथ भारत का पहला सेल्फ-ड्राइव मोबिलिटी प्लेटफॉर्म होने का गौरव हासिल किया और आज अपने बेड़े में 13,000 से अधिक कारों के साथ सेल्फ-ड्राइव स्पेस में मार्केट लीडर है। मोबाइल अनुभव पर मजबूत फोकस देने के साथ-साथ ज़ूमकार यूजर्स को घंटे, दिन, सप्ताह या महीने के हिसाब से कारों को किराए पर लेने की अनुमति देता है। ज़ूमकार का मुख्यालय बंगलौर में है और 250 से अधिक लोगों की मजबूत टीम है। यह पूरे भारत में 42 शहरों में संचालित होता है। 2018 में ज़ूमकार ने अपने शेयर्ड सबस्क्राइबर मोबिलिटी मॉडल के लॉन्च के साथ कारों के लिए भारत का पहला पीयर-टू-पीयर आधारित मार्केटप्लेस पेश किया और वर्तमान में इस स्पेस में 90% से अधिक मार्केट शेयर हासिल किया।  





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।