बीसीसीआई का ये नया नियम बदल देगा टी-20 लीग की कहानी, जानिए क्या है कॉन्सेप्ट

Saurav Ganguli
creative commons
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने कुछ टी-20 लीग के लिए एक नया नियम इम्पैक्ट प्लेयर प्रतिस्थापन पेश किया है। इस नियम को लेकर बोर्ड ने सभी राज्य संघो को एक सर्कुलर भेज दिया है, जिसमें बताया गया है कि वे क्रिकेट के छोटे प्रारूप को इम्पैक्ट प्लेयर प्रतिस्थापन के जरिए और भी दिलचस्प बनाना चाहते हैं।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने कुछ टी-20 लीग के लिए एक नया नियम इम्पैक्ट प्लेयर प्रतिस्थापन पेश किया है। बीसीसीआई का ये नया नियम टी-20 क्रिकेट को और भी रोमांचक बना देगा। 

आपको बता दें, बीसीसीआई ने इस नियम को सैय्यद मुस्ताक अली ट्रॉफी और अन्य घरेलू टी-20 लीग के लिए पेश किया है। लेकिन आने वाले समय में इस नियम को इंडियन प्रीमियर लीग (आइपीएल) में भी लागू किया जा सकता है। इस नियम के बाद आइपीएल में और भी रोमांच देखने को मिल सकता है। 

प्लेयिंग इलेवन में बदल सकते हैं खिलाड़ी 

इस नियम को लेकर बोर्ड ने सभी राज्य संघो को एक सर्कुलर भेज दिया है, जिसमें बताया गया है कि वे क्रिकेट के छोटे प्रारूप को इम्पैक्ट प्लेयर प्रतिस्थापन के जरिए और भी दिलचस्प बनाना चाहते हैं। इस नियम के बाद टीमें खिलाड़ी बदलकर अपनी जीत की संभावनाएं बढ़ा सकती हैं।

बोर्ड द्वारा सर्कुलर में लिखा गया, 'सभी टीमों को टॉस के दौरान 11 खिलाड़ियों के साथ-साथ 4 विकल्पों को सामने रखना होगा। टीम शीट में चुने गए 4 विकल्पों में से केवल एक खिलाड़ी को इम्पैक्ट प्लेयर के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। इम्पैक्ट प्लेयर द्वारा प्रतिस्थापित खिलाड़ी शेष मैच में भाग नहीं ले सकता है, और ना ही उसे एक प्रतिस्थापन फील्डर के रूप में मैदान में लौटने की अनुमति होगी।'

इस नियम के अनुसार इम्पैक्ट प्लेयर मैच में पूरे 4 ओवर फेंक सकता है या बल्लेबाजी भी कर सकता है। हालांकि, यदि कोई खिलाड़ी रिटायर्ड हर्ट हो जाता है, तो इम्पैक्ट प्लेयर को केवल ओवर के अंत में ही पेश किया जा सकता है, और वह केवल बल्लेबाजी कर सकता है। लेकिन यदि किसी खिलाड़ी को नियम के चलते निलंबित किया जाता है उस दौरान उस खिलाड़ी को इम्पैक्ट प्लेयर द्वारा बदला नहीं जा सकता है। 

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़