यूसुफ पठान ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा की

Yusuf Pathan
पठान ने अपना अंतरराष्ट्रीय पदार्पण पाकिस्तान के खिलाफ 2007 में टी20 विश्व कप फाइनल में किया था और अगले साल जून में इसी टीम के खिलाफ अपना पहला वनडे खेले थे। केकेआर के अलावा वह आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स और सनराइजर्स हैदराबाद के लिये भी खेले थे।
नयी दिल्ली। भारतीय आल राउंडर और अपनी विस्फोटक बल्लेबाजी के लिये मशहूर यूसुफ पठान ने शुक्रवार को क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा की और कहा कि उनकी जिंदगी की इस पारी को खत्म करने का समय आ गया है। पठान 2007 में शुरूआती टी20 विश्व कप विजेता टीम और घरेलू धरती पर 2011 वनडे विश्व कप में जीत दर्ज करने वाली टीम का हिस्सा रहे थे। अड़तीस वर्षीय इस खिलाड़ी ने अपने ट्विटर पर पोस्ट किये बयान में कहा, ‘‘आज अपनी जिंदगी की इस पारी को खत्म करने का समय आ गया है। मैं खेल के सभी प्रारूपों से आधिकारिक रूप से संन्यास की घोषणा करता हूं।’’ उन्होंने लिखा, ‘‘मैं अपने परिवार, दोस्तों, प्रशंसकों, टीमों, कोचों और पूरे देश का सहयोग और प्यार करने के लिये तहेदिल से शुक्रिया करता हूं।’’ पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज इरफान के बड़े भाई यूसुफ ने 57 वनडे खेलकर 113.60 के स्ट्राइक रेट से 810 रन बनाये हैं जिसमें दो शतक और तीन अर्धशतक शामिल हैं। उन्होंने 22 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में भी हिस्सा लिया जिसमें उन्होंने 146.58 के स्ट्राइक रेट से 236 रन बनाये और वह कोलकाता नाइटराइडर्स की इंडियन प्रीमियर लीग में खिताबी जीत का भी हिस्सा रहे। उन्होंने भारत के लिये अपना अंतिम मैच 2012 में खेला था। युसूफ ने कहा, ‘‘मुझे अब भी वह दिन याद है जब मैंने पहली बार भारतीय टीम की जर्सी पहनी थी। मैंने उस दिन सिर्फ जर्सी ही नहीं पहनी थी, बल्कि अपने परिवार, कोच, दोस्तों, पूरे देश और अपनी खुद की उम्मीदें अपने कंधों पर ली थीं। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘भारत के लिये दो विश्व कप जीतना और सचिन तेंदुलकर को अपने कंधों पर उठाना मेरे करियर के सर्वश्रेष्ठ पलों में से कुछ हैं। मैंने एम एस धोनी की कप्तानी में अपना अंतरराष्ट्रीय, शेन वार्न के नेतृत्व में आईपीएल और जैकब मार्टिन की कप्तानी में रणजी पदार्पण किया। मुझ पर भरोसा करने के लिये उनका शुक्रिया अदा करना चाहूंगा।’’ 

इसे भी पढ़ें: मध्यम गति के गेंदबाज विनय कुमार ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को कहा अलविदा

वह पिछले दो सत्र से आईपीएल की खिलाड़ियों की नीलामी में नहीं बिके। घरेलू स्तर पर यूसुफ उन कुछ खिलाड़ियों में शामिल रहे जिन्होंने 100 प्रथम श्रेणी मैच खेले हैं, इसके अलावा उन्होंने 199 लिस्ट ए और 274 टी20 मैच में भी खेले। विश्व कप जीतने के क्षण को याद करते हुए यूसुफ ने पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज और आईपीएल में केकेआर टीम के अपने कप्तान गौतम गंभीर का धन्यवाद दिया और अपने भाई इरफान को अपनी ताकत बताया। उन्होंने कहा, ‘‘मैं गौतम गंभीर का धन्यवाद करता हूं जिनके साथ हमने केकेआर के लिये दो आईपीएल ट्राफी जीती। मैं अपने भाई और अपनी ताकत इरफान पठान का भी शुक्रिया करना चाहूंगा जो हमेशा मेरे करियर में उतार चढ़ाव में मेरे साथ रहे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं बीसीसीआई और बड़ौदा क्रिकेट संघ का भी शुक्रिया करना चाहूंगा कि जिन्होंने मुझे देश और राज्य के लिये खेलने का मौका दिया। ’’ पठान ने अपना अंतरराष्ट्रीय पदार्पण पाकिस्तान के खिलाफ 2007 में टी20 विश्व कप फाइनल में किया था और अगले साल जून में इसी टीम के खिलाफ अपना पहला वनडे खेले थे। केकेआर के अलावा वह आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स और सनराइजर्स हैदराबाद के लिये भी खेले थे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़