सिनेमाघर में रिलीज होने वाली पहली फिल्म ‘द पिकअप आर्टिस्ट’ का रिव्यू पढ़ें

  •  रेनू तिवारी
  •  अक्टूबर 21, 2020   12:01
  • Like
सिनेमाघर में रिलीज होने वाली पहली फिल्म ‘द पिकअप आर्टिस्ट’ का रिव्यू पढ़ें

लॉकडाउन के कारण करीब सात महीने बाद खुले सिनेमाघरों में पहली फिल्म ‘द पिकअप आर्टिस्ट’ रिलीज हुई है। ‘आई एम’ में ओनिर के सहायक रहे रोहित अरोड़ा इस फिल्म के निर्देशक हैं।

नयी दिल्ली। लॉकडाउन के कारण करीब सात महीने बाद खुले सिनेमाघरों में पहली फिल्म ‘द पिकअप आर्टिस्ट’ रिलीज हुई है। ‘आई एम’ में ओनिर के सहायक रहे रोहित अरोड़ा इस फिल्म के निर्देशक हैं। इसमें मुख्य भूमिका ‘सोनचिरैया’ में प्रमुख किरदार निभाने वाले देव चौहान, सिद्धार्थ भारद्वाज, लोकेश मोहन, आंचल चौहान और विजय कुमार डोगरा आदि की हैं। फिल्म का निर्माण रोअर पिक्चर्स कंपनी के बैनर तले हुआ है।

इसे भी पढ़ें: ऋचा चड्ढा की ग्लैमरस लुक पर आया मां का कमेंट, बालों में कंघी करना भूल गयी क्या?

फिल्म की कहानी

फिल्म की कहानी में मेट्रो सिटी में घटने वाले एक अपराध के सीक्वेंस को दिखाया गया है। फैशन की दुनिया में क्या-क्या हो रहा है। कैसे लड़कियों का इस्तेमाल किया जा रहा है। ये फिल्म इन्हीं मुद्दों पर बनीं हैं। इसी दौरान फैशन की दुनिया में आयी एक लड़की (सप्तमी पात्रा) को किडनैप कर लिया जाता है। इस लड़की के अपहरण के साथ कई कड़ियां आपस में जुड़ी होती हैं। अपहरण का केस एक जुनूनी पुलिसवाले (देव चौहान) को दिया जाता है। 

इसकी कहानी दिल्ली में लापता लड़कियों के एक मामले और एक जुनूनी पुलिसवाले वाले द्वारा उनकी तलाश के इर्दगिर्द घूमती है। फिल्म फिलहाल पीवीआर में रिलीज हुई है।

इसे भी पढ़ें: जॉन अब्राहम की फिल्म सत्यमेव जयते 2 को लेकर सामने आयी बड़ी जानकारी, पढ़ें पूरी रिपोर्ट

 फिल्म ‘द पिकअप आर्टिस्ट’ रिव्यू

फिल्म फिल्म 'द पिकअप आर्टिस्ट' को  रोहित अरोड़ा ने डायरेक्ट किया है। फिल्म की थीम और उसकी कहानी के कारण इसे फिल्मों की दुनिया में पसंद किया गया छोटे बजट की इस फिल्म के लिए सबसे बड़ी उपलब्धी ये थी कि फिल्म को आधिकारिक तौर पर दुनिया के सबसे पुराने स्वतंत्र फिल्म फेस्टिवल वर्ल्डफेस्ट ह्यूस्टन के लिए चुना गया। फेस्टिवल के दौरान फिल्म को दो 2 Gold Remi Awards भी मिले।

कलाकार

देव चौहान 

फिल्म के अंदर कोई बड़ा कलाकार या मशहूर चेहरा नहीं है। फिल्म में आप बॉलीवुड की कुछ फिल्मों नें दिखाई पड़ चुके देव चौहान लीड रोल में हैं। देव चौहान को इस फिल्म से पहले आपने फिल्म 'मोह माया मनी', 'तितली' जैसी फिल्मों में  छोटे-मोटे रोल में देखा होगा। देव चौहान को आप फिल्म 'संदीप और पिंकी फ़रार'में भी देखेंगे।

सप्तमी पात्रा

फिल्म में एक छोटे-मोटे एड करने वाली एक्ट्रेस सप्तमी पात्रा को फिल्म से लॉन्च किया गया है। इस फिल्म से पहले उन्हें विज्ञापन करते ही देखा गया है। सप्तमी पात्रा के काम की बात करें तो पहली फिल्म के मुताबिक उन्होंने अच्छा काम किया है। फिल्म की आधार पर वह बॉल्ड डायलॉग भी बोलती नजर आ रही हैं।

'द पिकअप आर्टिस्ट' मॉडल से एक्ट्रेस बनीं सप्तमी पात्रा के एक्टिंग करियर की पहली फिल्म है। दिल्ली में शूट की गई इस मिस्ट्री थ्रिलर के लिए कास्ट करने से पहले रोहित अरोड़ा ने सप्तमी को दर्जनों ऐड फिल्म्स में देखा था।

अगर आप सिनेमाघर में फिल्म देखना चाह रहे हैं तो आप ये फिल्म देख सकते हैं इसके अलावा पहले रिलीज हो चुकी कई फिल्में हॉल में लगी हैं। सिनेमाघरों नें अभी कोई बड़ी फिल्म नहीं लगी हैं।







विवाद के बीच सैफ अली खान की सीरीज 'तांडव' देखने का प्लान है, तो पढ़ें पहले रिव्यू

  •  रेनू तिवारी
  •  जनवरी 21, 2021   15:25
  • Like
विवाद के बीच सैफ अली खान की सीरीज 'तांडव' देखने का प्लान है, तो पढ़ें पहले रिव्यू

ओटीटी प्लेटफॉर्म अमेजन प्राइम वीडियो पर विवादों के भरी बेव सीरीज तांडव रिलीज हुई है। इस सीरीज पर काफी ज्यादा बवाल मचा हुआ है। शहर-शहर में इस सीरीज को बैन करने की मांग हो रही है।

ओटीटी प्लेटफॉर्म अमेजन प्राइम वीडियो पर विवादों के भरी बेव सीरीज तांडव रिलीज हुई है। इस सीरीज पर काफी ज्यादा बवाल मचा हुआ है। शहर-शहर में इस सीरीज को बैन करने की मांग हो रही है। हिंदू संगठनों सहित कुछ नेताओं ने भी सूचना प्रसारण मंत्रालय से सीरीज के खिलाफ सख्त एक्शन लेने की मांग की है। लोगों का आरोप है कि सीरीज में कुछ सीन और डायलॉग है जो हिंदू धर्म के पूजनीय देवी-देवताओं का अपमान कर रहे हैं। इस विवाद के परे अगर हम सीरीज की बात करें तो जबरदस्त ट्विस्ट- शानदार परफॉरमेंस, फिर भी स्लो है सैफ अली खान की राजनीतिक ड्रामा वेब सीरीज तांडव।

इसे भी पढ़ें: 'तांडव' की कहानी शानदार, जबरदस्त ट्विस्ट और परफॉरमेंस फिर भी स्लो है सैफ की सीरीज  

तांडव की कहानी

वेब सीरीज की कहानी समर प्रताप सिंह (सैफ अली खान) की है। समर, भारत के प्रधानमंत्री देवकी नंदन के इकलौते बेटे हैं। लोकसभा चुनाव के बाद देवकी नंदन तीसरी प्रधानमंत्री बन सकते हैं क्योंकि उम्मीद है कि उनकी पार्टी को बहुमत मिल रहा है। अब तीन बार सत्ता का सुख भोग चुके देवकी नंदन चौथी बार अपने बेटे को प्रधानमंत्री बनाने में कतरा रहे हैं। उनके अनुसार समर एक अच्छा पॉलिटिशियन है लेकिन वो तानाशाह है। अपने पिता कीये बात जानने के बात समर प्रताप सिंह लोकसभा चुनाव का रिजल्ट आने के एक दिन पहले अपने पिता को मारने का पड़यंत्र रचता है। पिता को वो ऐसा जहर देता है जिससे किसी को पता ही नहीं चलता है उन्हें आखिर हुआ क्या? पोस्टपार्टम में समर अपने पिता की मौत का कारण दिल का दौरा करवा देता है। 

इसे भी पढ़ें: शिव का अपमान नहीं सह सकते, 'तांडव' के मेकर्स को जेल तो जाना पड़ेगा!  

बाप-बेटे के बाद वेब सीरीज की दूसरी कड़ी अनुराधा किशोर (डिंपल कपाड़िया) से जुड़ी हैं। अनुराधा किशोर, देवकी नंदन की पत्नी तो नहीं है लेकिन पत्नी से बढ़ की होती है। देवकी नंदन, अनुराधा की काफी बाते मानते थे। अपनी मौत के दिन देवकी नंदन समर के बारे में बताने के लिए अनुराधा को कॉल करते हैं। अनुराधा फोन नहीं उठाती और देवकी नंदन मर जाते हैं। अब शुरू होता है कुर्सी का ताड़व। प्रधानमंत्री की मौत के बाद कई लोग पार्टी के सामने प्रधानमंत्री बनने की दावेदारी पेश करते हैं लेकिन सफर सबकी चाल फेल कर देता है और अपने लिए रास्ता साफ कर लेता है। 

आखिरी में समर को तब पड़ा झटका लगता जब अनुराधा किशोर देवकी की चिता के सामने कहती है कि उन्हें पता है कि देवकी को किसने मारा है। समर को अनुराधा ब्लैकमेल करती है और कहती है उनके पास सबूत है कि प्रधानमंत्री को उनके बेटे ने ही सत्ता के लालच में मारा है। समर और अनुराधा के बीच डील होती है कि भारत की अगली प्रधानमंत्री अनुराधा किशोर होंगी, समर प्रताप सिंह नहीं।

अब समर प्रताप सिंह को अपना पॉलिटिकल करियर बचाने के लिेए ऐसा करना पड़ता है। अनुराधा किशोर भारत की प्रधानमंत्री बन जाती है। समर अब अपने खिलाफ अनुराधा के पास मौजूद सबूत के बारे में पता लगाने की कोशिश करते हैं। वह अपने वफादार गुरपाल (सुनील ग्रोवर) के साथ मिलकर एक ऐसी चाल चलता है जो देश की यूनिवर्सिटी वीएनयू के प्रेसीडेंट चुनाव से जुड़ी होती है। क्या समर की कोशिश कामयाब होती है, पिता की हत्या के बावदूज क्या उन्हें कुछ मिल पाता है। इस सब कड़ियों को जानने के लिए आपको सीरीज देखनी होगी। 

रिव्यू 

बात करें कि कलाकारों ने कैसा काम किया है तो सबसे ज्यादा तारीफ के काबिल है गुरपाल के किरदार में सुनील ग्रोवर। जिसे आज तक पर्दे पर एक कॉमेडियन के तौर पर देखा है उसे इतने गंभीर किरदार में देखने के बाद भी दर्शक की आंखों को अजीब नहीं लगता। सुनील ग्रोवर ने अपने किरदार को निभाने में जान लगा दी और साबित कर दिया कि वह केवल कॉमेडी ही नहीं बल्कि चैलेंजिंग रोल भी कर सकते हैं। 

इसके अलावा सैफ अली खान ने भी काफी इंप्रेस किया है। पिछते कुछ समये में सैफ अली खान ने अपनी छवि को बदला है। सेक्रेड गेम्स से भी ज्यादा बेहतरीन एक्टिंग उन्होंने तांडव में की हैं। गौहर खान ने भी अपने किरदार के साथ न्याय किया है। कुछ मिलाकर तांडव की कास्ट शानदार है और उन्होंने अच्छा काम किया है।

 

तांडव की कमियां निर्देशक की तरफ से की गयी है। सीरीज का निर्देशन अली अब्बास जफर ने किया है। तांडव के शुरूआती एपिसोड की रफ्तार काफी अच्छी है। कहानी दर्शकों को बांधती है लेकिन तीसरे एपिसोड के बाद कहानी काफी ज्यादा स्लो हो जाती है। क्लाइमेक्स काफी शानदार है। तांडव को मेरी तरफ से 3 स्टार। सीरीज में दिखाए गये कुछ सीन और डायलॉक के कारण सीरीज को बैन करने की मांग हो रही हैं। 

वेब सीरीज: तांडव 

टाइप: राजनीतिक ड्रामा, सस्पेंस

कलाकार : सैफ अली खान, डिंपल कपाड़िया, सुनील ग्रोवर, गौहर खान, तिग्मांशु धुलिया, कुमुद मिश्रा, अनूप सोनी, मोहम्मद जीशान अयूब

निर्देशक :अली अब्बास जफर 

रेटिंग- 3 स्टार







गिरगिट की तरह रंग बदलती Black Widows की कहानी, देखने में आएगा मजा

  •  रेनू तिवारी
  •  जनवरी 13, 2021   16:39
  • Like
गिरगिट की तरह रंग बदलती Black Widows की कहानी, देखने में आएगा मजा

अगर आप किसी ऐसे रिश्ते में बंधे हुए है जिससे आप अलग भी नहीं हो सकते और आपका शोषण भी हो रहा है। तब आप क्या करोगे? हालात तो आज भी अच्छे नहीं है लेकिन पहले से बेहतर है। पुराने समय में शादी में बंधने के बाद औरत का खुद की जिंदगी से सारे हक खत्म हो जाते थे।

अगर आप किसी ऐसे रिश्ते में बंधे हुए है जिससे आप अलग भी नहीं हो सकते और आपका शोषण भी हो रहा है। तब आप क्या करोगे? हालात तो आज भी अच्छे नहीं है लेकिन पहले से बेहतर है। पुराने समय में शादी में बंधने के बाद औरत का खुद की जिंदगी से सारे हक खत्म हो जाते थे। औरत को शादी के बाद अपने पति की चिता के साथ ही मर जाता होता था। अब एजुकेशन के साथ-साथ  हालात सुधर गये हैं लेकिन आज की दुनिया में भी पढ़े-लिखे महिलाओं को चोंच खाने वाले भेड़िये बहुत है। 

इसे भी पढ़ें: तमिल फिल्म ‘मास्टर’ के साथ 10 महीने बाद केरल में खुले सिनेमा हॉल  

कहानी

जी5 पर रिलीज हुई नयी वेब सीरीज ब्लैक विडो की कहानी कुछ ऐसे ही हालात के साथ शुरु होती है जो बाद में जाकर पूरी तरह से बदल जाती है। कहानी तीन सहेलियों की है वीरा (मोना सिंह), कविता (शमिता शेट्टी) और जयति (स्वास्तिका मुखर्जी)। तीनों अपने-अपने पतियों से काफी ज्यादा परेशान है। कविता का पति निलेश अपने करियर को आगे बढ़ाने के लिए पत्नी को अपने पार्टनर्स के सामने मनोरंजन के लिए पेश करता है। वहीं जयति का पति ललित उसे बहुत ही बुरी तरह से मारता है। जयति को किसी भी हाल में छोड़ना नहीं चाहता क्योंकि जयति पर अत्याचार करके उसे खुशी मिलती है। वीरा का पति जतिन काफी गुस्सैल होता है जो तलाक मांगने पर अपनी ही बेटी को मारने की धमकी देता है। ऐसे में अपनी बरसों से छिन चुकी आजादी को पाने के लिए तीनों शादीशुदा महिलाएं अपने पति को मारने की प्लानिंग करती है और एक मोटरबोट ब्लास्ट करवाकर तीनों को मार देती है। तीनों की मौत की जांच करने पुलिस की एंट्री होती है। पुलिस को दो लाशें मिलती है लेकिन तीसरी नहीं मिलती, जिसकी जांच शुरू होती है। पुलिस का जांच में अब तीनों पतियों के काले चिठ्ठे खुलने लगते हैं। पूरी स्टोरी निजी जिंदगी के अत्याचारों से शुरू होकर एक खुंखार अपराध पर आ जाती है। सिलसिले वार मर्डर, पैसों का लेन-देन, सौदेबाजी और ब्लैकमेलिंग फिल्म को दर्शक से बांधने में कामयाब होते हैं। 

रिव्यू

वेब सीरीज की लीड कास्ट में मोना सिंह , स्वास्तिका मुखर्जी, शमिता शेट्टी , शरद केलकर, परमब्रत चट्टोपाध्याय और श्रुति व्यास है। फिल्म में अपने अपने किरदार को सभी ने बखुबी निभाया है। कोई भी किरदार अपने रोल में डिस्पॉइंट नहीं करता। वेब सीरीज का निर्देशन बिरसा दासगुप्ता ने किया है, जो काबिले तारीफ है। 







ZEE5 पर रिलीज हुआ है हिंदी में काफी कंटेंट, इस लिस्ट से चुनें वीकेंड के लिए अपनी फिल्म

  •  रेनू तिवारी
  •  जनवरी 12, 2021   16:47
  • Like
ZEE5 पर रिलीज हुआ है हिंदी में काफी कंटेंट, इस लिस्ट से चुनें वीकेंड के लिए अपनी फिल्म

लॉकडाउन के दौरान सिनेमाघरों को बंद कर दिया गया था जिसके कारण काफी फिल्मों को ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज किया गया था। अब सिनेमाघर खुल चुके हैं लेकिन फिर भी काफी फिल्में ओटीटी पर ही रिलीज हो रही हैं।

लॉकडाउन के दौरान सिनेमाघरों को बंद कर दिया गया था जिसके कारण काफी फिल्मों को ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज किया गया था। अब सिनेमाघर खुल चुके हैं लेकिन फिर भी काफी फिल्में ओटीटी पर ही रिलीज हो रही हैं। अगर आपने जी5 का सब्सक्रिप्शन ले रखा है तो वीकेंड पर आप इन फिल्मों और बेव सीरीज को देखने का प्लान बना सकते हैं। पिछले एक महीने में ये कुछ हिंदी का नया कंटेंट रिलीज हुआ है।

इसे भी पढ़ें: सबसे जहरीली नागिन 'विशाखा' बनने वाली है मां, पति के साथ करवाया फोटोशूट 

कागज

दिग्गज एक्टर पंकज त्रिपाठी की फिल्म कागज जी5 पर रिलीज हुई है। फिल्म का प्रोडक्शन सलमान खान फिल्म ने किया है। फिल्म एक सज घटना पर आधारित है। कहानी में एक कागज पर मृत व्यक्ति के सफर को दिखाया गया है। पहले के कई केस ऐसे है जिसमें कुछ लोग बइमानी करके किसी भी व्यक्ति को कागज पर मृत घोषित करके उसकी संपत्ति को हड़प लिया करते थे। फिल्म को अच्छी रेटिंग मिली है।

नेल पॉलिश

अर्जुन रामपाल और मानव कौल की फिल्म नेल पॉलिश भी एक शानदार फिल्म है जिसे जी5 पर रिलीज किया गया है। फिल्म में कोर्ट रूम ड्रामा दिखाया गया है। बॉलीवुड की अब तक की ये वेस्ट स्क्रिप्टों में से एक है। फिल्म में मानव कौल की एक्टिंग काफी अच्छी है। 

इसे भी पढ़ें: अनुष्का और विराट की बेटी की पहली तस्वीर चाचा ने की शेयर, मिनटों में हुई वायरल 

ब्लैक विडो

स्वास्तिका मुखर्जी,  शमिता शेट्टी , मोना सिंह , राइमा सेन, शरद केलकर  और परमब्रत चटोपध्याय की क्राइम वेब सीरीज ब्लैक विडो जी 5 पर रिलीज हुई है। सीरीज की कहानी अच्छी है। 11 एपिसोज की सीरीज को अगर आप देखना शुरू करते है तो आप देखते ही रह जाते हैं।

डार्क 7 वाइट 

डार्क 7 व्हाइट, यह ZEE5 ओरिजनल थ्रिलर सीरीज़ है; जिसमें सुमीत व्यास, निधि सिंह, जतिन सरना और मोनिका चौधरी ने मुख्य भूमिकाएं निभाईं हैं। सीएम के पद पर विराजमान नए मुख्यमंत्री यूडी की एक दुर्घटना में मृत्यु हो जाती है। जाँच पड़ताल में उनके कॉलेज के दोस्त रडार पर आते हैं, जो एक गुप्त रहस्य को छिपाने की कोशिश में लगे हैं। इस गहरे रहस्य को उजागर करने के लिए तैयार हो जाओ। जल्द ही ZEE5 पर।

दरबान

दरबान, यह ZEE5 ओरिजनल ड्रामा फिल्म है, जिसमें शरीब हाश्मी, शरद केलकर, रसिका दुग्‍गल और फ्लोरा सैनी ने मुख्य भूमिकाएं निभाईं हैं। रायचरण, एक निष्ठावान नौकर है जिसे अंकुल के बेटे की देखभाल करने की ज़िम्मेदारी सौंपी जाती है। हालांकि, परिस्थितियां अनुकूल से प्रतिकूल में तब तब्दील होती हैं, जब बच्चा लापता हो जाता है और इस घटना के लिए वफ़ादार रायचरण को ज़िम्मेदार ठहराया जाता है।







This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept