ब्रिटनी स्पीयर्स की बड़ी जीत, पिता से हुई आजाद! जानिए पूरा मामला

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 30, 2021   11:04
ब्रिटनी स्पीयर्स की बड़ी जीत, पिता से हुई आजाद! जानिए पूरा मामला

न्यायाधीश ने गायिका ब्रिटनी स्पीयर्स के पिता की कंजरवेटरशिप समाप्त की है।यह फैसला गायिका के लिए एक बड़ी जीत है, जिन्होंने जून और जुलाई में सुनवाई के दौरान अनुरोध किया था कि उनके पिता को उनकी जिंदगी से बाहर होने की जरूरत है।

लॉस एंजिलिस। सुपीरियर कोर्ट की न्यायाधीश ब्रेंडा पेनी ने बुधवार को अमेरिकी गायिका ब्रिटनी स्पीयर्स के पिता की ‘कंजरवेटरशिप’ (संरक्षण व्यवस्था) को समाप्त कर दिया, जिसके जरिए वह 2008 से गायिका का जीवन एवं धन नियंत्रित कर रहे थे। अमेरिकी कानून के तहत ‘कंजरवेटरशिप’ में बुढ़ापे या शारीरिक या मानसिक सीमाओं के कारण किसी व्यक्ति के वित्तीय मामलों या दैनिक जीवन का प्रबंधन करने के लिए एक संरक्षक या एक रक्षक की नियुक्ति की जाती है। न्यायाधीश ब्रेंडा पेनी ने स्पीयर्स और उनके वकील मैथयू रोसनगर्ट की उस याचिका से सहमति व्यक्त की, जिसमें गायिका के पिता जेम्स स्पीयर्स की ‘कंजरवेटरशिप’ समाप्त करने का अनुरोध किया गया था। यह फैसला गायिका के लिए एक बड़ी जीत है, जिन्होंने जून और जुलाई में सुनवाई के दौरान अनुरोध किया था कि उनके पिता को उनकी जिंदगी से बाहर होने की जरूरत है।

इसे भी पढ़ें: खत्म हुआ इंतजार! जेम्स बॉन्ड के अवतार में एक्शन में दिखेंगे डेनियल क्रेग, इस दिन रिलीज होगी No Time To Die

पेनी दोनों पक्ष की दलील सुनने के बाद कहा, ‘‘ मौजूदा स्थिति असमर्थनीय है। यह दर्शाता है कि स्थिति खराब है, जिसके मद्देनजर जेम्स स्पीयर्स की ‘कंजरवेटरशिप’ समाप्त करने की जरूरत है।’’ जेम्स स्पीयर्स ने 2008 में इस ‘कंजरवेटरशिप’ की मांग की थी और तभी से ही वह गायिका का जीवन एवं धन नियंत्रित कर रहे थे। हालांकि हाल ही में उन्होंने अपना रुख बदलते हुए न्यायाधीश से ‘कंजरवेटरशिप’ समाप्त करने का अनुरोध किया था। स्पीयर्स ने जून में लॉस एंजिलिस में सुनवाई के दौरान 13 साल में पहली बार अदालत से ‘कंजरवेटरशिप’ समाप्त करने का अनुरोध किया था। स्पीयर्स ने इस व्यवस्था को ‘‘अपमानजनक’’ बताया था और इसके लिए अपने पिता तथा अन्य की निंदा की थी। उन्होंने कहा था, ‘‘ ‘कंजरवेटरशिप’ से मेरा भला होने से अधिक नुकसान हो रहा है। मैं एक जिंदगी पाने की हकदार हूं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।