सहयोगियों ने छोड़ा साथ, अपनों ने भी मुंह मोड़ा, अविश्वास प्रस्ताव के बाद 4 अप्रैल को हो जाएगी इमरान की पीएम पद से छुट्टी?

सहयोगियों ने छोड़ा साथ, अपनों ने भी मुंह मोड़ा, अविश्वास प्रस्ताव के बाद 4 अप्रैल को हो जाएगी इमरान की पीएम पद से छुट्टी?

पाकिस्तान की जम्हूरी वतन पार्टी के नेता और बलूचिस्तान में सलाहकार शाहजैन बुगती ने इमरान खान की कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया। पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के बिलावल भुट्टो के साथ प्रेस कॉनफ्रेंस में बुगती ने कहा कि मैं अब विपक्षी गठबंधन के साथ हूं।

पाकिस्तान की सियासत में आज का दिन बेहद अहम है। आज पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश होना है। विपक्षी दल की तरफ से शाम 4 बजे अविश्वास प्रस्ताव पेश करेंगे। संसद में अविश्वास प्रस्ताव पर आज बहस शुरू हो जाएगी। जिसके बाद आगे की प्रक्रिया यानी वोटिंग होगी। जिसमें इमरान की कुर्सी बचेगी या जाएगी ये तय हो जाएगा। पाक लोकसभा के स्पीकर असद कैसर आज अगर अविश्वास प्रस्ताव को पेश करने की अनुमति देते हैं तो इस पर 4 अप्रैल को वोटिंग होगी। लेकिन अविश्वास प्रस्ताव से पहले ही इमरान सरकार की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है। 

मजबूत हो रहा विपक्ष 

पाकिस्तान की जम्हूरी वतन पार्टी के नेता और बलूचिस्तान में सलाहकार शाहजैन बुगती ने इमरान खान की कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया। पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के बिलावल भुट्टो के साथ प्रेस कॉनफ्रेंस में बुगती ने कहा कि मैं अब विपक्षी गठबंधन के साथ हूं। इससे पहले उनकी पार्टी के 24 सांसद और तीन सहयोगी दल इमरान का साथ छोड़ चुके हैं।  

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान के गृह मंत्री ने प्रधानमंत्री खान को बजट के बाद चुनाव कराने की सलाह दी

संसद में अविश्वास

पाकिस्तान की संसद में बहुमत के लिए 172 सांसदों की जरूरत है। इमरान खान के पास 179 सदस्य हैं। जिसमें पीटीआई के 155 सदस्य हैं। लेकिन सांसदों के बागी होने के बाद अल्पमत में इमरान सरकार है। अब तक करीब 24 सांसद इमरान खान का साथ छोड़ चुके हैं। जिसके बाद से कहा जा रहा है कि इमरान खान के लिए सरकार बचाना काफी मुश्किल हो चुका है।  

सहयोगियों ने छोड़ा साथ 

इमरान खान की स्थिति अनिश्चित है और चार सहयोहियों में से तीन ने एमक्यूएम-पी, पीएमएल-क्यू और बीएपी ने विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव को अपना समर्थन दे दिया है। इसके साथ ही उन्होंने उसी के अनुसार मतदान करने की बात भी कही है। हालांकि कहा ये भी जा रहा है कि आखिरी प्रयास के रूप में इमरान ने अपने सहयोगियों से मिलने के लिए पीटीआई के वरिष्ठ नेताओं की टीम भेजी है और आश्वासन दिया कि उनके हित का ध्यान रखा जाएगा।  






Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...