दुनिया के लिए सबसे बड़ा खतरा है चीन, ऋषि सुनक का ब्रिटेन के लोगों से वादा- PM बना तो पहले दिन लूंगा एक्शन

 Rishi Sunak
Creative Common
अभिनय आकाश । Jul 25, 2022 12:01PM
सुनक ने संस्कृति और भाषा कार्यक्रमों के माध्यम से चीनी प्रभाव के प्रसार को रोकने के लिए ब्रिटेन में सभी 30 कन्फ्यूशियस संस्थानों को बंद करने का प्रस्ताव रखा।

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बनने की दौड़ में भारतीय मूल के ऋषि सुनक सबसे आगे हैं। कंजर्वेटिव पार्टी के नेता के तौर पर होने वाली वोटिंग का लास्ट राउंड शेष बचा है। जिसके जरिये प्रधानमंत्री का चयन होगा। ऋषि सुनक भारतीय टेक कंपनी इंफोसिस के को फाउंडर नारायणमूर्ति के दामाद हैं। ऋषि सुनक ने कहा कि अगर वह ब्रिटेन के अगले प्रधानमंत्री बनते हैं तो वह चीन से सख्ती से निपटेंगे। उन्होंने चीन को घरेलू और वैश्विक सुरक्षा के लिए "नंबर एक खतरा" बताया। एएफपी के अनुसार ऋषि सुनक की तरफ से ये बयान उनके प्रतिद्वंद्वी लिज़ ट्रस द्वारा चीन और रूस पर कमजोर होने का आरोप लगाने के बाद सामने आया। 

इसे भी पढ़ें: प्रधानमंत्री चुना गया तो पहले दिन से ब्रिटेन को संकट से निपटने के लिए काम शुरू कर देंगे: ऋषि सुनक

चीन को लेकर सुनक की योजनाएं

सुनक ने संस्कृति और भाषा कार्यक्रमों के माध्यम से चीनी प्रभाव के प्रसार को रोकने के लिए ब्रिटेन में सभी 30 कन्फ्यूशियस संस्थानों को बंद करने का प्रस्ताव रखा। उन्होंने यह भी कहा कि वह "चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीसीपी) को हमारे विश्वविद्यालयों से बाहर कर देंगे। उच्च शिक्षा प्रतिष्ठानों को 50,000 पाउंड से अधिक के विदेशी वित्त पोषण का खुलासा करने और शोध साझेदारी की समीक्षा करने के लिए मजबूर कर देंगे। उन्होंने कहा कि ब्रिटेन की खुफिया एजेंसी एमआई5 का इस्तेमाल चीनी जासूसी का मुकाबला करने के लिए किया जाएगा और साइबर स्पेस में चीनी खतरों से निपटने के लिए "नाटो-स्टाइल" अंतर्राष्ट्रीय सहयोग बनाने पर विचार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि वह रणनीतिक रूप से संवेदनशील तकनीकी फर्मों सहित प्रमुख ब्रिटिश संपत्तियों के चीनी अधिग्रहण पर प्रतिबंध लगाने पर विचार करेंगे।

इसे भी पढ़ें: ब्रिटेन की संसदीय समिति ने भारत के साथ FTA में जल्दबाजी को लेकर किया आगाह

ब्रिटेन की तकनीक चुरा रहा चीन? 

सुनक ने चीन के खिलाफ कई शिकायतें सूचीबद्ध करते हुए कहा कि एशियाई महाशक्ति ब्रिटेन की तकनीक की चोरी कर रही है और उसके विश्वविद्यालयों में घुसपैठ कर रही है। रूसी तेल खरीदकर व्लादिमीर पुतिन का समर्थन कर रही है और ताइवान सहित अपने पड़ोसियों को धमकाने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा, "वे अपने मानवाधिकारों के उल्लंघन में शिनजियांग और हांगकांग सहित अपने ही लोगों को यातना देते हैं, हिरासत में लेते हैं।  उन्होंने अपनी मुद्रा को दबाकर वैश्विक अर्थव्यवस्था को लगातार अपने पक्ष में किया है। 

अन्य न्यूज़