मानवाधिकारों की आलोचना के बावजूद चीन संयुक्त राष्ट्र के साथ संबंधों को महत्व देता है

China and UN
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
पूरी दुनिया के नेता संयुक्त राष्ट्र महासभा के वार्षिक सम्मेलन में शामिल होने के लिए न्यूयॉर्क एकत्र हो रहे हैं, वहीं महाशक्ति के तौर पर उभर रहे चीन का ध्यान जिनेवा में चल रही संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद की बैठक पर केंद्रित है।

पूरी दुनिया के नेता संयुक्त राष्ट्र महासभा के वार्षिक सम्मेलन में शामिल होने के लिए न्यूयॉर्क एकत्र हो रहे हैं, वहीं महाशक्ति के तौर पर उभर रहे चीन का ध्यान जिनेवा में चल रही संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद की बैठक पर केंद्रित है। चीन के राजनयिक लगातार मानवाधिकार परिषद की बैठक को लेकर अन्य देशों से बात कर रहे हैं और और अपना पक्ष रख रहे हैं, ताकि शिनजियांग में उसके चरमपंथ विरोधी अभियान की आगे और जांच किए जाने की संभावना को रोका जा सके।

इस जांच की संभावना संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के बाद बढ़ गई है जिसमें चीन के पश्चिमी सीमावर्ती प्रांत में उइगर और अन्य मुस्लिम समूहों के उत्पीड़न की बात सामने आई है। अटलांटिक महासागर के विपरीत छोरों पर हो रही इन बैठकों में चीनके संयुक्त राष्ट्र को लेकर बंटे हुए रुख और उसके बढ़ते वैश्विक प्रभाव की छाप दिखती है। बीजिंग संयुक्त राष्ट्र में उन देशों के समर्थन की उम्मीद कर रहा है जिनसे उनकी दोस्ती है और जिनमें से कई को उसने वित्तीय मदद दी है जबकि अमेरिका नीति गुट जिसमें जी-7 शामिल हैं, लगातार चीन के प्रति मुखर हो रहे हैं।

बर्लिन स्थित मर्केटर इंस्टीट्यूट फॉर चाइना स्टडीज की हेलिना लेगार्डा कहती हैं, ‘‘चीन, संयुक्त राष्ट्र को अहम मंच के तौर पर देखता है, जिसका इस्तेमाल वह अपने रणनीतिक हितों और लक्ष्यों को आगे बढ़ाने व वैश्विक क्रम में बदलाव के लिए कर सकता है।’’ चीन स्थित रेनमिन विश्वविद्यालय में अंतरराष्ट्रीय संबंधों के विशेषज्ञ शी यिंगहांग कहते हैं कि वैश्विक क्रम को बनाए रखने में संयुक्त राष्ट्र की भूमिका का मतलब यह नहीं है कि चीन संयुक्त निकाय के हर नजरिये से सहमत हो। उन्होंने इस संदर्भ में कोविड-19 महामारी के उद्गम की जांच और हाल में प्रकाशित शिंजियांग रिपोर्ट का हवाला दिया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़