• पाकिस्तान में कभी भी हो सकता है घात, अपनी सुरक्षा अपने हाथ, चीनी इंजीनियर चल रहे AK-47 राइफल लेकर साथ

अभिनय आकाश Jul 22, 2021 14:10

पाकिस्‍तान ने चीनी प्रॉजेक्‍ट और नागरिकों की सुरक्षा के लिए 30 हजार जवानों को तैनात किया है। लेकिन चीन सीपैक प्रोजेक्ट के कंस्ट्रक्शन साइट पर काम कर रहे अपने इंजीनियर्स की सुरक्षा को लेकर चिंतित है। वहीं चीनी नागरिकों ने अपनी सुरक्षा के लिए एके-47 जैसे हथियार उठा लिए हैं।

एक पुरानी कहावत है अपनी सुरक्षा अपने हाथ, बाकी सारी झूठी बात। आतंकिस्तान में कभी भी घात की आशंका के मद्देनजर चीनी इंजीनियर्स ने यही नीति अपना ली है। पाकिस्तान के चीन-पाक आर्थिक गलियारे (सीपैक प्रोजक्ट) में काम कर रहे चीनियों ने बंदूक उठा ली है। आलम ये हो गया कि कंस्ट्रक्शन साइट पर चाइनीज इंजीनियर्स एके-47 राइफल ताने दिखें। खैबर पख्तूनवा में हुए धमाके के बाद चीनियों को पाकिस्तान पर भरोसा बिल्कुल नहीं रह गया है। 

इमरान के सुरक्षा वाले दावों के बावजूद चीनी इंजीनियर्स ने थामे हथियार

चीन ने पाकिस्तान में इंजीनियरों के बस के ऊपर हुए आतंकी हमले को लेकर इमरान सरकार से गहरी नाराजगी जताई है। नागरिकों पर हुए हमले की जांच के लिए चीन ने एक टीम भी पाकिस्तान भेजी है। पाकिस्‍तान ने चीनी प्रॉजेक्‍ट और नागरिकों की सुरक्षा के लिए 30 हजार जवानों को तैनात किया है। लेकिन चीन सीपैक प्रोजेक्ट के कंस्ट्रक्शन साइट पर काम कर रहे अपने इंजीनियर्स की सुरक्षा को लेकर चिंतित है। वहीं चीनी नागरिकों ने अपनी सुरक्षा के लिए एके-47 जैसे हथियार उठा लिए हैं।  

इसे भी पढ़ें: हांगकांग पुलिस ने राजद्रोह के आरोप में मजदूर संघ के पांच सदस्यों को गिरफ्तार किया

चीनी इंजीनियरों से भरी बस पर हुआ हमला 

गौरतलब है कि पाकिस्तान के आतंकी हमले में 9 चीनी इंजीनियर मारे गए थे। जब चीनी इंजीनियर से भरी बस पर अटैक हुआ था। हमले में नौ चीनी इंजीनियर समेत 12 की मौत हुई। खैबर पख्तूनवा के कोहिस्तान इलाके में ये हमला हुआ था। चीनी इंजीनियर और निर्माण श्रमिक एक बांध बनाने में मदद कर रहे हैं। यह बांध 60 अरब अमेरिकी डॉलर की लागत वाले चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) का हिस्सा है।