जो बाइडन और मैक्सिको के राष्ट्रपति के बीच प्रवास के मुद्दे पर चर्चा, ये हैं बातचीत के मुख्य बिंदु

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 30, 2022   09:27
जो बाइडन और मैक्सिको के राष्ट्रपति के बीच प्रवास के मुद्दे पर चर्चा, ये हैं बातचीत के मुख्य बिंदु
Joe Biden Instagram

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन और मेक्सिको के राष्ट्रपति एंड्रेस मैनुअल लोपेज ओब्रेडोर ने फोन पर बातचीत के दौरान दक्षिणी सीमा पर अनियमित प्रवास को कम करने के लिए न्यायसंगत, मानवीय और प्रभावी प्रयासों कोबढ़ावा देने पर सहमति व्यक्त की है। व्हाइट हाउस ने यह जानकारी दी।

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन और मेक्सिको के राष्ट्रपति एंड्रेस मैनुअल लोपेज ओब्रेडोर ने फोन पर बातचीत के दौरान दक्षिणी सीमा पर अनियमित प्रवास को कम करने के लिए न्यायसंगत, मानवीय और प्रभावी प्रयासों कोबढ़ावा देने पर सहमति व्यक्त की है। व्हाइट हाउस ने यह जानकारी दी। लोपेज ओब्रेडोर ने ट्वीट किया, बातचीत सौहार्दपूर्ण रही और इस दौरान द्विपक्षीय संबंधों से जुड़े मुद्दों पर बात हुई। बातचीत के दौरान जून में लॉस एंजिलिस में होने वाले अमेरिकी देशों के शिखर सम्मेलन और अमेरिका में आने की कोशिश करने वाले शरणार्थियों पर लगे कोरोना वायरस प्रतिबंधों को खत्म करने पर चर्चा हुई। मैक्सिको के राष्ट्रपति कार्यालय के एक बयान के अनुसार, दोनों नेताओं ने मध्य अमेरिका और मैक्सिको में विकास की पहल के माध्यम से प्रवासन के मूल कारणों से निपटने के बारे में भी बात की।

इसे भी पढ़ें: चीन कुछ भारतीय विद्यार्थियों को वापस आने की अनुमति देगा: चीनी विदेश मंत्रालय

उन्होंने प्रवासियों और शरणार्थियों के लिए कानूनी रास्ते का विस्तार करने की आवश्यकता पर चर्चा की। व्हाइट हाउस ने एक बयान में कहा, पूरे गोलार्ध से हमारे देशों में प्रवासियों की अभूतपूर्व आमद को देखते हुए, राष्ट्रपतियों ने क्षेत्रीय प्रवासन वृद्धि के प्रबंधन के लिए मजबूत तंत्र बनाने की आवश्यकता दोहराई। लोपेज ओब्रेडोर ने अमेरिकी सरकार से अमेरिका के सभी देशों को शिखर सम्मेलन में आमंत्रित करने का आह्वान किया।

इसे भी पढ़ें: यूक्रेन की सेना ने खारकीव के समीप गांव को फिर से अपने नियंत्रण में लिया

बाइडन प्रशासन ने कहा है कि वेनेजुएला, क्यूबा और निकारागुआ को आमंत्रित किए जाने की संभावना नहीं है। बयान में कहा गया है कि अमेरिका और मैक्सिको दोनों अपनी साझा सीमा के साथ विकास और बुनियादी ढांचा परियोजनाओं में तेजी लाना चाहते हैं ताकि उत्तर अमेरिकी आपूर्ति श्रृंखला और सीमा पार कृषि और वाणिज्यिक गतिविधियों को मजबूत किया जा सके।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।