ये मत कहना कि हमने आपको चेतावनी नहीं दी, पेलोसी के ताइवान दौरे को लेकर अमेरिका VS चीन, युद्ध का नया सीन

Pelosi
creative common
अभिनय आकाश । Aug 01, 2022 5:19PM
नैन्सी के दौरे में जापान, मलेशिया, दक्षिण कोरिया जैसे देशों का नाम है। नैन्सी ताइवान कब आएंगी ये मेहमान और मेजबान दोनों देशों ने गुप्त रखा है। लेकिन चीन की लाल सेना अभी से युद्ध वाले एक्शन में नजर आने लगी है।

यह मत कहो कि हमने तुम्हें चेतावनी नहीं दी!" चीन द्वारा भारत के साथ सीमा युद्ध लड़ने और 1979 के चीन-वियतनाम युद्ध से पहले पीपुल्स डेली द्वारा इस्तेमाल किया गया एक वाक्यांश है। नैन्सी पेलोसी के जिस दौरे को लेकर अबतक बयानबाजी हो रही थी। धमकी और चेतावनी दी जा रही थी। उसकी उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है। हालांकि नैन्सी पेलोसी ताइवान की यात्रा करेंगी या नहीं इसको लेकर असमंजस की स्थिति बरकरार है। नैन्सी के दौरे में जापान, मलेशिया, दक्षिण कोरिया जैसे देशों का नाम है। नैन्सी ताइवान कब आएंगी ये मेहमान और मेजबान दोनों देशों ने गुप्त रखा है। लेकिन चीन की लाल सेना अभी से युद्ध वाले एक्शन में नजर आने लगी है।

इसे भी पढ़ें: खाड़ी देश से पैसा लेकर इमरान ने चीन के CPEC को कर दिया फेल, मौलाना फजलुर रहमान ने किया बड़ा दावा

अमेरिकी हाउस स्पीकर नैन्सी पेलोसी अपने एशिया दौरे के दौरान ताइवान द्वीप की यात्रा करती हैं तो खुले सैन्य विकल्प और अर्थव्यवस्था से लेकर चीन की कूटनीति तक व्यापक जवाबी कार्रवाई कर सकता है। बीते दिनों  चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के साथ फोन पर बातचीत की। इस दौरान उन्होंने एक बार फिर अमेरिका को ताइवान के सवाल की गंभीरता और महत्व के बारे में चेतावनी दी और कहा, "जनमत की अवहेलना नहीं की जा सकती। जो आग से खेलते हैं वे जल जाते हैं। हाल के सप्ताह में, पेलोसी की ताइवान द्वीप की संभावित यात्रा के जवाब में, चीन के विभिन्न मंत्रालयों और विभागों द्वारा भी कई चेतावनी दी गई हैं।

इसे भी पढ़ें: कभी नहीं गईं स्कूल, 2 साल में कमाए 1 लाख करोड़, जानें चीन की यांग हुईयान को पछाड़ कर एशिया की सबसे अमीर महिला बनने वाली सावित्री जिंदल की कहानी

चीन-अमेरिका संबंध, इंस्टीट्यूट ऑफ ताइवान स्टडीज इन चाइनीज एकेडमी ऑफ सोशल साइंसेज के प्रमुख यांग मिंगजी ने ग्लोबल टाइम्स को बताया कि चीन की प्रतिक्रिया व्यवस्थित होगी और पेलोसी के कदम की गंभीरता और उसके राजनीतिक विश्वास को नुकसान को देखते हुए छोटे पैमाने तक सीमित नहीं होगी। पेलोसी के विमान को रोकने के लिए लड़ाकू जेट भेजना, ताइवान द्वीप के चारों ओर हवाई और समुद्री क्षेत्रों को सैन्य अभ्यास के लिए प्रतिबंध क्षेत्र घोषित करने जैसे कदम उठाए जा सकते हैं। बता दें कि पेलोसी एशिया में जापान, दक्षिण कोरिया, मलेशिया और सिंगापुर के लिए एक आधिकारिक कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कर रही है। हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि यात्रा में ताइवान द्वीप में एक पड़ाव शामिल होगा या नहीं।

इसे भी पढ़ें: चीन और रूस के बढ़ते तनाव के बीच अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन करेंगे एशिया और अफ्रीका की यात्रा

अमेरिकी सेना ने कथित तौर पर पेलोसी को सुरक्षा संबंधी चिंताएं व्यक्त की थीं। इस बात की भी आशंका जताई गई थी कि अगर पेलोसी ताइवान की यात्रा करती हैं तो चीन पेलोसी के विमान को मार गिरा सकता है। यांग ने उल्लेख किया कि चीन ने पेलोसी की संभावित यात्रा के लिए अपने विरोध को दोहराया है और "यानज़ेन यिदाई" वाक्यांश का इस्तेमाल किया है - जिसका शाब्दिक अर्थ है "दुश्मन की प्रतीक्षा करते हुए सेना के गठन को सुव्यवस्थित करना।  चीन ने अपनी हवाई ताकत के साथ एयरक्रॉफ्ट कैरियर को उड़ाने वाली मिसाइल के साथ शक्ति प्रदर्शन किया है। 

अन्य न्यूज़