संघीय न्यायाधीश ने ट्रंप के अभियान की ओर से पेनसिल्वेनिया में दायर मुकदमे को खारिज किया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 22, 2020   11:47
  • Like
संघीय न्यायाधीश ने ट्रंप के अभियान की ओर से पेनसिल्वेनिया में दायर मुकदमे को खारिज किया
Image Source: Google

न्यायाधीश ने कहा कि आरोप अटकलों पर आधारित हैं। यूएस मिडल डिस्ट्रिक्ट ऑफ पेनसिल्वेनिया के न्यायाधीश मैथ्यू ब्रान ने ट्रंप अभियान का अनुरोध शनिवार को खारिज कर दिया, जिससे तीन नवंबर को हुए चुनाव के परिणामों को चुनौती देने के राष्ट्रपति ट्रंप के प्रयासों को खासा झटका लगा है।

वाशिंगटन। अमेरिका में एक संघीय न्यायाधीश ने देश के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के अभियान की ओर से पेनसिल्वेनिया में दायर उस मुकदमे को खारिज कर दिया है जिसमें लाखों मतों को अवैध घोषित करने की मांग की गई थी। न्यायाधीश ने कहा कि आरोप अटकलों पर आधारित हैं। यूएस मिडल डिस्ट्रिक्ट ऑफ पेनसिल्वेनिया के न्यायाधीश मैथ्यू ब्रान ने ट्रंप अभियान का अनुरोध शनिवार को खारिज कर दिया, जिससे तीन नवंबर को हुए चुनाव के परिणामों को चुनौती देने के राष्ट्रपति ट्रंप के प्रयासों को खासा झटका लगा है। 

इसे भी पढ़ें: शिवराज सिंह चौहान ने गुपकार गठबंधन को बताया गुप्तचर संगठन, कहा- पाकिस्तान और चीन के लिए कर रहे हैं जासूसी

राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडन विजयी रहे हैं। न्यायाधीश ब्रान ने कुछ दिन पहले आरोप लगाया था कि उन्हें फोन कॉल करके परेशान किया जा रहा है। उन्होंने अपने फैसले में कहा कि ट्रंप अभियान ने ‘‘तोड़-मरोड़ कर और बिना आधार के कानूनी दलीलें’’ पेश कीं और अटकलों पर आधारित आरोपों के समर्थन में सबूत पेश नहीं किए। ट्रंप अभियान ने मतदान प्रक्रिया में अनियमितताओं का आरोप लगाते हुए इस महीने की शुरुआत में मुकदमा दायर किया था। नव-निर्वाचित राष्ट्रपति बाइडन ने पेनसिल्वेनिया में ट्रंप को 81,000 से भी अधिक मतों के अंतर से पछाड़ दिया। इस महत्वपूर्ण राज्य में 20 इलेक्टोरल कॉलेज वोट हैं। न्यायाधीश ब्रान ने अपने फैसले में कहा, ‘‘यह अदालत ऐसा कोई आधार नहीं समझ सकी है जिसके तहत वादी ने चुनाव में इतने व्यापक सुधार की मांग की है।







चीनी प्रधानमंत्री ने SCO देशों से आतंकवाद के खिलाफ समन्वय को और मजबूत करने का किया आह्वान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 1, 2020   08:52
  • Like
चीनी प्रधानमंत्री ने SCO देशों से आतंकवाद के खिलाफ समन्वय को और मजबूत करने का किया आह्वान
Image Source: Google

भारत की मेजबानी में शंघाई सहयोग संगगठन (एससीओ) शासनाध्यक्षों की परिषद की 19वीं ऑनलाइन बैठक के दौरान अपने संबोधन में ली ने कहा कि एससीओ समूह के सदस्यों को सक्रिय रूप से विकास के लिए एक सुरक्षित और स्थिर वातावरण बनाना चाहिए।

बीजिंग। चीन के प्रधानमंत्री ली क्विंग ने सोमवार को विकास के लिए सुरक्षित एवं स्थिर वातावरण को बढ़ावा देने की खातिर एससीओ के सदस्य देशों से आतंकवाद के खिलाफ समन्वय को और मजबूत किए जाने का आह्वान किया। भारत की मेजबानी में शंघाई सहयोग संगगठन (एससीओ) शासनाध्यक्षों की परिषद की 19वीं ऑनलाइन बैठक के दौरान अपने संबोधन में ली ने कहा कि एससीओ समूह के सदस्यों को सक्रिय रूप से विकास के लिए एक सुरक्षित और स्थिर वातावरण बनाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: चिनफिंग का सुझाव- मतभेदों को वार्ता के जरिए सुलझाएं एससीओ के सदस्य देश

उन्होंने कहा, ' क्षेत्र में अनिश्चितता और अस्थिरता के बढ़ रहे कारकों के चलते, हमें क्षेत्रीय शांति और स्थिरता को बनाए रखने के लिए मिलकर काम करने की जरूरत है।' ली ने कहा, ' महामारी का फायदा उठाने वाली आतंकी, अलगाववादी और उग्रवादी ताकतों से निपटने के लिए संयुक्त आतंकवाद-रोधी अभ्यासों को जारी रखना चाहिए।'







बाइडेन ने येलेन को वित्त और भारतीय मूल की नीरा टंडन को दी ये अहम जिम्मेदारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 1, 2020   08:23
  • Like
बाइडेन ने येलेन को वित्त और भारतीय मूल की नीरा टंडन को दी ये अहम जिम्मेदारी
Image Source: Google

बाइडेन ने येलेन को वित्त मंत्री और भारतीय-अमेरिकी नीरा टंडन को ओएमबी निदेशक पद के लिए नामित किया। 74 साल की येलन 231 साल के इतिहास में वित्त मंत्रालय का नेतृत्व करने वाली पहली महिला होंगी. वहीं नीरा टंडन ओएमबी की प्रमुख बनने वाली पहली अश्वेत महिला होंगी।

वाशिंगटन। अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन ने सोमवार को वित्त मंत्री के पद के लिए जेनेट येलेन को और व्हाइट हाउस के शीर्ष पद ‘प्रबंधन एवं बजट कार्यालय’ निदेशक के रूप में भारतीय-अमेरिकी नीरा टंडन को नामित किया। अगर अमेरिकी सीनेट से इसकी पुष्टि हो जाती है तो 74 वर्षीय येलन 231 साल के इतिहास में वित्त मंत्रालय का नेतृत्व करने वाली पहली महिला होंगी।

इसे भी पढ़ें: ट्रंप प्रचार अभियान के पूर्व सहयोगी ने रूस जांच निगरानी मामले में वाद दायर किया

वहीं अगर अमेरिकी सीनेट में इस पद के लिए टंडन (50) के नाम की पुष्टि हो जाती है, तो वह व्हाइट हाउस में प्रभावशाली ‘प्रबंधन और बजट कार्यालय’ (ओएमबी) की प्रमुख बनने वाली पहली अश्वेत महिला होंगी। टंडन वर्तमान में वामपंथी झुकाव वाले ‘सेंटर फॉर अमेरिकन प्रोग्रेस’ की मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।







मरयम नवाज ने ‘‘कठपुतली’’ इमरान खान को लताड़ा, फोन टैपिंग को लेकर कहीं ये बात

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 30, 2020   18:01
  • Like
मरयम नवाज ने ‘‘कठपुतली’’ इमरान खान को लताड़ा, फोन टैपिंग को लेकर कहीं ये बात
Image Source: Google

पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज की उपाध्यक्ष मरयम नवाज ने कहा कि हिम्मत है तो फोन टैपिंग पर आईएसआई से सवाल करें ‘कठपुतली’ प्रधानमंत्री इमरान खान।पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पुत्री ने कहा, ‘‘इस कठपुतली और चयनित प्रधानमंत्री इमरान में आईएसआई से यह तक पूछने की हिम्मत नहीं है कि वह उनके फोन क्यों टैप कर रही है।

लाहौर। पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) की उपाध्यक्ष मरयम नवाज ने सोमवार को कहा कि पाकिस्तान के ‘‘कठपुतली’’ प्रधानमंत्री इमरान खान अपने फोन टैप किए जाने पर देश की खुफिया एजेंसी आईएसआई से सवाल करने का ‘‘कुछ साहस’’दिखाएं। उनकी टिप्पणी प्रधानमंत्री के इस खुलासे के बाद आई है कि वह जानते हैं कि एजेंसियां उनके फोन टैप कर रही हैं। पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पुत्री ने कहा, ‘‘इस कठपुतली और चयनित प्रधानमंत्री इमरान में आईएसआई से यह तक पूछने की हिम्मत नहीं है कि वह उनके फोन क्यों टैप कर रही है। उन्हें आईएसआई से कहना चाहिए कि यह प्रधानमंत्री के अधीन आने वाले संस्थान का काम नहीं है।’’

इसे भी पढ़ें: बाइडेन की टीम में शामिल हो सकती है एक और भारतीय, जानिए कौन है नीरा टंडन?

उन्होंने कहा, ‘‘आईएसआई प्रधानमंत्री और उनके फोन टैप करती है। यह मेरे लिए खबर नहीं है। यदि इस कठपुतली (इमरान खान) में थोड़ी भी हिम्मत है तो उन्हें इस मुद्दे पर आईएसआई को फटकार लगानी चाहिए।’’ खान ने हाल में एक स्थानीय टीवी चैनल से कहा था, ‘‘मैं जो करता हूं और फोन पर किससे बात करता हूं, आईएसआई और आईबी (खुफिया ब्यूरो) इस बारे में जानते हैं।’’ यह पूछे जाने पर कि क्या उनका फोन टैप किया जाना उनके लिए कोई मुद्दा नहीं है, खान ने कहा था कि यह पूरी दुनिया में होता है। यहां तक कि अमेरिका में सीआईए भी यही करती है।