क्या ब्रिटेन मंदी में है? केंद्रीय बैंक कैसे निर्णय लेते हैं और इसे बताना कठिन क्यों है

Britain
ANI
पिछले हफ्ते ब्रिटेन के चांसलर क्वासी क्वार्टेंग ने आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए आधी सदी की सबसे बड़ी कर कटौती की कवायद शुरू की। इस तथाकथित मिनी-बजट की वजह, एक दिन पहले बैंक ऑफ इंग्लैंड की यह स्वीकारोक्ति हो सकती है, जिसमें कहा गया कि यूके शायद मंदी में हो सकता है।

सर्रे। (द कन्वरसेशन) पिछले हफ्ते ब्रिटेन के चांसलर क्वासी क्वार्टेंग ने आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए आधी सदी की सबसे बड़ी कर कटौती की कवायद शुरू की। इस तथाकथित मिनी-बजट की वजह, एक दिन पहले बैंक ऑफ इंग्लैंड की यह स्वीकारोक्ति हो सकती है, जिसमें कहा गया कि यूके शायद मंदी में हो सकता है। तथ्य यह है कि ब्रिटेन के केंद्रीय बैंक का यह बयान गिरते हुए पाउंड और सामान्य वित्तीय बाजार की अस्थिरता की खबर के बीच खो गया है और यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है, क्योंकि यह बताने की कोशिश में हमेशा कठिनाइयां पेश आती हैं कि क्या अर्थव्यवस्था वास्तव में मंदी में प्रवेश कर चुकी है या नहीं।

इसे भी पढ़ें: एक साल बाद विजय रुपाणी ने सुनाई इस्तीफे की कहानी, कहा- रात को आलाकमान का आया फोन, सुबह दे दिया हसंते हुए इस्तीफा 

22 सितंबर को, बैंक ऑफ इंग्लैंड की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) के नौ सदस्यों में से पांच ने आधार दर को 0.5% बढ़ाकर 2.25% करने के लिए मतदान किया। यह वह दर है जो बैंक और ऋणदाता भुगतान करते हैं, जो बदले में लोगों द्वारा बंधक और बचत उत्पादों के लिए भुगतान की जाने वाली ब्याज दरों को प्रभावित करती है। यह अब 2007-2008 के वैश्विक वित्तीय संकट के बाद के उच्चतम स्तर पर है। दिसंबर 2021 की बैठक के बाद से बैंक इस बिंदु तक लगातार काम कर रहा है और अधिक बढ़ोतरी की उम्मीद है क्योंकि यह बढ़ती मुद्रास्फीति को अपने 2% लक्ष्य की ओर वापस लाने का प्रयास करता है।

इसे भी पढ़ें: Prabhasakshi NewsRoom: PFI पर प्रतिबंध का राजनेताओं और धार्मिक समूहों ने किया स्वागत, जानें किस-किस संगठन पर गिरी है गाज

यूके आधार दर में परिवर्तन, 2013-2022 एमपीसी अपनी बैठकों के कार्यवृत्त भी जारी करता है, जिसमें हाल ही में ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था के मंदी में प्रवेश करने के बारे में एक चेतावनी शामिल है - या संभवतः यह पहले से ही मंदी में है। अधिक सटीक रूप से, बैंक को उम्मीद है कि चालू तिमाही (क्यू3) में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 0.1% की गिरावट आएगी, जो अगस्त के 0.4% वृद्धि के अनुमान से काफी कम है। अधिक चिंताजनक रूप से, यह इस वर्ष की दूसरी तिमाही के लिए राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (ओएनएस) द्वारा जारी प्रारंभिक आंकड़ों के आधार पर लगातार दूसरी तिमाही गिरावट होगी।

केंद्रीय बैंक की ओर से निश्चितता की कमी मंदी को पहचानने और सहमत होने की कठिनाई को इंगित करती है क्योंकि इसकी कोई सार्वभौमिक परिनहीं है। उदाहरण के लिए, विकिपीडिया को जुलाई में मंदी पर अपने पृष्ठ के संपादन को निलंबित करने के लिए मजबूर किया गया था, जब परिमें बदलाव पर बहस छिड़ गई थी। प्रविष्टि अब पढ़ती है: हालांकि मंदी की परिअलग-अलग देशों और विद्वानों के बीच भिन्न होती है, देश के वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद (वास्तविक जीडीपी) में लगातार दो तिमाहियों में गिरावट का उपयोग आमतौर पर मंदी की व्यावहारिक परिके रूप में किया जाता है।

इसलिए, आम सहमति यह प्रतीत होती है कि आर्थिक गतिविधियों में लगातार कमी की ओर इशारा करते हुए जीडीपी के आंकड़ों की व्याख्या बुरी खबर के रूप में की जानी चाहिए क्योंकि अर्थव्यवस्था को सिकुड़ते हुए माना जाता है। यह आम तौर पर उपभोक्ता खर्च में कमी, व्यावसायिक विश्वास में गिरावट और बेरोजगारी में परिणामी वृद्धि के साथ जुड़ा हुआ है। निश्चित रूप से, मंदी का कोई भी संकेत आम तौर पर बैंकों और वित्तीय संस्थानों को अपने उधार मानदंडों को सख्त करते हुए देखता है, जिससे बंधक और व्यावसायिक वित्तपोषण प्राप्त करना मुश्किल हो जाता है। यह आवास बाजार और लघु व्यवसाय गतिविधि को प्रभावित करता है।

इसके अलावा, चूंकि अर्थव्यवस्थाएं आम तौर पर मंदी से तुरंत वापस नहीं आती हैं, लंबे समय तक सुस्त आर्थिक गतिविधि की अवधि लंबी अवधि की बेरोजगारी का कारण बन सकती है, जिससे लोगों के भविष्य के रोजगार और कमाई में वृद्धि की संभावना प्रभावित होती है, खासकर युवा पीढ़ी और कम आय वाले परिवारों से। इस घटना को ‘‘रोजगार स्कारिंग’’ के रूप में जाना जाता है। इसलिए, यह आश्चर्य की बात नहीं है कि बैंक ऑफ इंग्लैंड पूर्ण पुष्टि होने से पहले ही मंदी के खतरे की घंटी बजा रहा है।

वैसे एक प्रकार की परिपर एक समझौते के साथ, अर्थव्यवस्था की स्थिति को मापना - यानी, यह तय करना कि कोई देश मंदी या विस्तार में है - उतना सीधा नहीं है जितना आप कल्पना कर सकते हैं। सबसे पहले, बैंक ऑफ इंग्लैंड, ओएनएस और आमतौर पर दुनिया भर के अन्य संस्थानों द्वारा जारी किए जा रहे डेटा या अनुमान ‘‘प्रारंभिक’’ हैं - खासकर जब पहली बार प्रासंगिक तिमाही के लिए प्रकाशित किया जाता है। इसका मतलब है कि यह डेटा बाद के संशोधनों के अधीन हो सकता है। उदाहरण के लिए, सितंबर 2022 (तीसरी तिमाही का अंतिम महीना) में उपलब्ध आंकड़े संकेत दे सकते हैं कि अर्थव्यवस्था तीसरी तिमाही में सिकुड़ गई है।

हालाँकि, जैसा कि तीसरी तिमाही के प्रदर्शन के बारे में अधिक जानकारी एकत्र की जाती है, अक्टूबर या नवंबर 2022 तक यह नकारात्मक वृद्धि संकेत शून्य वृद्धि या सकारात्मक भी हो सकता है। इसे ‘‘रीयल-टाइम डेटा अनिश्चितता’’ कहा जाता है और यह उन चुनौतियों में से एक है जिनका नीति निर्माताओं को ‘‘वास्तविक समय में’’ निर्णय लेते समय सामना करना पड़ता है। दूसरे शब्दों में, केंद्रीय बैंक अर्थव्यवस्था की स्थिति के बारे में उठने वाले ‘‘शोर’’ की समझ के आधार पर इसके बारे में निर्णय लेते हैं। दूसरे, जैसा कि अमेरिकी ट्रेजरी सचिव जेनेट येलेन ने भी हाल ही में टिप्पणी की थी, मजबूत श्रम बाजार की स्थितियों और खर्च से जुड़ी नकारात्मक वृद्धि, अर्थव्यवस्था के लिए बुरी खबर नहीं होनी चाहिए। यहां उनका मतलब यह है कि जीडीपी एकमात्र संकेतक नहीं होना चाहिए जिस पर आर्थिक मूल्यांकन आधारित हो - संकेतकों की एक विस्तृत श्रृंखला अक्सर एक अलग तस्वीर प्रदान कर सकती है। यूके के विकास के लिए दृष्टिकोण तो, यूके की अर्थव्यवस्था की स्थिति के बारे में बैंक ऑफ इंग्लैंड का वर्तमान मूल्यांकन क्या है? इसकी सबसे हालिया बैठक के विवरण में कहा गया है: ‘‘2022 की तीसरी तिमाही में अंतर्निहित विकास में अपेक्षित मंदी नवीनतम व्यावसायिक सर्वेक्षणों में दर्ज की गई कमजोरी के अनुरूप थी।’’

ये व्यापार सर्वेक्षण शून्य निकट-अवधि वृद्धि का संकेत देते हैं, जबकि अपेक्षित व्यावसायिक गतिविधि का एक महत्वपूर्ण संकेतक (जिसे समग्र क्रय प्रबंधकों की सूचकांक आउटपुट उम्मीद श्रृंखला कहा जाता है) जून और अगस्त 2022 के बीच गिर गया। बैंक ने यह भी कहा कि विनिर्माण उत्पादन में कमजोर वृद्धि (आपूर्ति श्रृंखला में व्यवधान के कारण) और कमजोर मांग अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव डाल रही है।

इस बीच, व्यापार निवेश के इरादों को कमजोर बताया गया है, जिसमें फर्मों ने मांग के बारे में अनिश्चितता और व्यापक आर्थिक दृष्टिकोण के साथ-साथ बढ़ती लागत, निवेश में गिरावट के मुख्य चालकों के रूप में बताया है। इसलिए बैंक ऑफ इंग्लैंड सिकुड़ती अर्थव्यवस्था को दिखाने के लिए कई संकेतकों का उपयोग करके एक तस्वीर पेश कर रहा है। इस संदर्भ में, बैंक ने कहा है कि वह आगामी डेटा की बारीकी से निगरानी करेगा, साथ ही 23 सितंबर को निर्धारित क्वार्टेंग की विकास योजना नीतियों के विकास की निगरानी करेगा। उसे आशा है कि इससे बिगड़ती नजर आ रही अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिल सकता है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़