कोविड-19 से बचाने में मास्क कितना है कारगर? सर्जिकल मास्क को माना गया सबसे सुरक्षित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 24, 2021   15:54
कोविड-19 से बचाने में मास्क कितना है कारगर? सर्जिकल मास्क को माना गया सबसे सुरक्षित

कोविड-19 से बचाने में मास्क कारगर है। पर्यावरणीय स्वास्थ्य विज्ञान के सहायक प्राध्यापक के तौर पर मैंने भी इन सवालों के जवाब के बारे में सोचा है और क्या वस्तु सर्वश्रेष्ठ है, यह जानने के उद्देश्य से अनुसंधानों के आकलन के लिए एक अध्ययन का नेतृत्व किया।

एच क्वोंग, यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया, बर्कले) बर्कले (अमेरिका)।क्या मास्क कोविड-19 से बचाने में कारगर हैं? अगर हां, तो कौन सा मास्क इस्तेमाल करना चाहिए, एन95, सर्जिकल मास्क, कपड़े से बना मास्क या पट्टीनुमा कपड़ा? पिछले डेढ़ साल में, अनुसंधानकर्ताओं ने मास्क की प्रभावशीलता पर बहुत सारे प्रयोगशाला, मॉडल-आधारित और अवलोकन संबंधी साक्ष्य तैयार किए हैं। कई लोगों के लिए यह समझना मुश्किल हो गया है कि क्या काम करता है और क्या नहीं। पर्यावरणीय स्वास्थ्य विज्ञान के सहायक प्राध्यापक के तौर पर मैंने भी इन सवालों के जवाब के बारे में सोचा है और क्या वस्तु सर्वश्रेष्ठ है, यह जानने के उद्देश्य से अनुसंधानों के आकलन के लिए एक अध्ययन का नेतृत्व किया। हाल ही में, मैं मास्क पहनने की प्रभावशीलता का परीक्षण करने वाले अब तक के सबसे बड़े नियंत्रित ट्रायल का हिस्सा था।

इसे भी पढ़ें: अमेरिका में उठा आतंकवाद का मुद्दा, विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने दी जानकारी

अध्ययन की अभी सहकर्मी समीक्षा बाकी है, लेकिन चिकित्सा समुदाय ने इस पर अच्छी प्रतिक्रिया दी है। हमने पाया कि यह स्वर्ण-मानक साक्ष्य प्रदान करता है जो पिछले अनुसंधानों की पुष्टि करता है कि मास्क पहनना, विशेष रूप से सर्जिकल मास्क, कोविड-19 को रोकता है। प्रयोगशाला और अवलोकन अध्ययन 1910 में मंचूरियन में प्लेग के प्रकोप के बाद से लोग बीमारियों से खुद को बचाने के लिए मास्क का उपयोग कर रहे हैं। कोरोना वायरस महामारी के दौरान, संक्रमित व्यक्तियों को अपने आसपास की हवा को दूषित करने से रोकने के तरीके के रूप में मास्क पर ध्यान केंद्रित किया गया है - जिसे स्रोत नियंत्रण कहा जाता है। हाल के प्रयोगशाला साक्ष्य इस विचार का समर्थन करते हैं। अप्रैल 2020 में, अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि कोरोना वायरस से संक्रमित लोग - लेकिन सार्स-सीओवी2 नहीं - अगर उन्होंने मास्क पहना होता है तो वे अपने आसपास की हवा में कोरोनावायरस के आरएनए कम छोड़ते हैं। कई अतिरिक्त प्रयोगशाला अध्ययनों ने भी मास्क की प्रभावकारिता का समर्थन किया है। वास्तविक दुनिया में, कई महामारी विज्ञानियों ने यह देखने के लिए मास्क लगाने और मास्क नीतियों के प्रभाव की जांच की है कि क्या मास्क कोविड-19 के प्रसार को धीमा करने में मदद करते हैं। 2020 के अंत में प्रकाशित एक अवलोकन अध्ययन ने 196 देशों में जनसांख्यिकी, परीक्षण, लॉकडाउन और मास्क पहनने पर ध्यान केंद्रित किया।

इसे भी पढ़ें: अमेरिकी सांसद बोले- PM मोदी का स्वागत करने में गौरवान्वित महसूस कर रहा है अमेरिका

अनुसंधानकर्ता ने पाया कि अन्य कारकों को नियंत्रित करने के बाद, सांस्कृतिक मानदंडों या नीतियों वाले देश जहां मास्क पहनने का समर्थन करने वाले देशों में साप्ताहिक प्रति व्यक्ति कोरोना वायरस मृत्यु दर में 16 प्रतिशत की वृद्धि देखी, जबकि बिना मास्क पहनने वाले देशों में 62 प्रतिशत साप्ताहिक वृद्धि हुई। प्रयोगशाला, अवलोकन और मॉडलिंग अध्ययनों ने कई प्रकार के मास्क के मूल्य का लगातार समर्थन किया है। लेकिन ये दृष्टिकोण आम जनता के बीच बड़े पैमाने पर क्रमरहित नियंत्रित परीक्षणों के रूप में मजबूत नहीं है। 2020 की शुरुआत में डेनमार्क में किया गया एक ऐसा अध्ययन कोई परिणाम देने वाला नहीं था, लेकिन यह अपेक्षाकृत छोटा था और प्रतिभागियों द्वारा मास्क पहव स्वयं-रिपोर्ट मास्क पहनने पर निर्भर था। मास्क पहनने से कोविड-19 की आशंका कम होती है जिन 300 गांवों में हमने किसी भी प्रकार का मास्क वितरित किया, वहां हमने उन गांवों की तुलना में कोविड-19 में 9 प्रतिशत की कमी देखी, जहां हमने मास्क का प्रचार नहीं किया था। गांवों की कम संख्या के कारण जहां हमने कपड़ा मास्क को बढ़ावा दिया, हम यह नहीं बता पाए कि कपड़ा या सर्जिकल मास्क कोविड-19 को कम करने में बेहतर थे या नहीं। हमारे पास यह निर्धारित करने के लिए पर्याप्त सैंपल साइज था कि जिन गांवों में हमने सर्जिकल मास्क वितरित किए, वहां कोविड-19 में 12 प्रतिशत की गिरावट आई। उन गांवों में 60 साल और उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए कोविड-19 का स्तर 35 प्रतिशत और 50-60 साल के लोगों के लिए 23 प्रतिशत घट गया। कोविड-19 जैसे लक्षणों को देखने पर हमने पाया कि सर्जिकल और कपड़े का मास्क दोनों पहनने से 12 प्रतिशत की कमी आई।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।