म्यांमार की सेना की आलोचना करने वाली मॉडल को अब जबरन निर्वासित किए जाने का डर

Myanmar model
प्रतिरूप फोटो
News.Yahoo.com
म्यांमा की सेना की आलोचना करने वाली एक मॉडल ने शुक्रवार को कहा कि उसे जबरन स्वदेश भेज दिये जाने का डर सता रहा है। थाईलैंड में पिछले साल आयोजित एक सौंदर्य प्रतियोगिता के मंच से इस मॉडल ने अपने देश के सैन्य शासकों की आलोचना की थी।

म्यांमा की सेना की आलोचना करने वाली एक मॉडल ने शुक्रवार को कहा कि उसे जबरन स्वदेश भेज दिये जाने का डर सता रहा है। थाईलैंड में पिछले साल आयोजित एक सौंदर्य प्रतियोगिता के मंच से इस मॉडल ने अपने देश के सैन्य शासकों की आलोचना की थी। मॉडल को डर है कि यदि वह म्यांमा गई, तो इस आलोचना के लिए वहां उसे सैन्य सरकार कड़ा दंड देगी।

थॉ नांडर ऑन्ग उर्फ हान ले नाम की इस महिला मॉडल ने ‘द एसोसिएटेड प्रेस’ को फोन पर बताया कि वह बैंकॉक स्थित सुवर्णभूमि हवाई अड्डा पर फंसी हुई थीं, क्योंकि जब वह बुधवार की रात वियतनाम के संक्षिप्त दौरे से वापस आईं तो उन्हें थाईलैंड में दोबारा प्रवेश की अनुमति नहीं दी गई। वह थाईलैंड में रह रही हैं, लेकिन उन्हें अपने ठहरने की अवधि में विस्तार के लिए बाहर जाकर फिर से प्रवेश लेने की जरूरत है। मॉडल ने कहा कि वह संयुक्त राष्ट की शरणार्थी एजेंसी से भी मदद करने का अनुरोध कर चुकी हैं ताकि म्यांमा भेजे जाने से बच सकें।

थाईलैंड में जिन लोगों को प्रवेश नहीं दिया जाता है, उन्हें आमतौर पर उस स्थान पर वापस भेज दिया जाता है, जहां से उन्होंने थाईलैंड के लिए प्रस्थान किया था। लेकिन संयुक्त राष्ट्र एजेंसी ने मॉडल को सलाह दी है कि उसे वियतनाम में गिरफ्तार कर लिया जाएगा और इसके बाद उसे म्यांमा के हवाले कर दिया जाएगा। थाईलैंड के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता तानी संग्रात ने भी पुष्टि की है कि थॉ नांडर ऑन्ग को थाईलैंड में प्रवेश करने से रोक दिया गया था।

प्रवक्ता ने कहा कि मॉडल के यात्रा संबंधी दस्तावेज से जुड़ी समस्या के कारण ऐसा किया गया था। प्रवक्ता ने यह भी कहा कि सरकार ने अभी उनकी गिरफ्तारी नहीं की है और इस चरण में उन्हें कहीं और भेजे जाने की अभी कोई योजना नहीं है। थॉ नांडर ऑन्ग ने कहा कि बैंकॉक लौटने पर थाईलैंड की सरकार ने उनका नाम ऑनलाइन डाटाबेस में दर्ज किया और उनसे पूछा कि क्या उनका पासपोर्ट गुम हो गया है। जब मॉडल ने इसका जवाब ‘नहीं’ में दिया, तो अधिकारियों ने उन्हें एक स्क्रीन शॉट दिखाया जिसमें उनके खिलाफ इंटरपोल की रेड नोटिस जारी की गई थी।

इसका मतलब यह था कि उनके देश की पुलिस ने उन्हें हिरासत में लेने के लिए कहा है। बैंकॉक में मॉडल ने ‘मिस ग्रैंड इंटरनेशनल ब्यूटी पीजेंट’ के मंच से म्यांमा में लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारियों की हत्या के बारे में बोला था। मॉडल ने रोते हुए कहा था, ‘‘आज मेरे देश म्यांमा में बहुत से लोग मर रहे हैं जबकि मैं इस मंच पर हूं। 100 से अधिक लोग आज मर गये। जान गंवाने वाले सभी लोगों के लिए मैं बहुत दुखी हूं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़