मालदीव के बाद श्रीलंका पहुंचे एस जयशंकर, BIMSTEC से पहले आर्थिक राहत पैकेज पर हुई चर्चा

मालदीव के बाद श्रीलंका पहुंचे एस जयशंकर,  BIMSTEC से पहले आर्थिक राहत पैकेज पर हुई चर्चा

एस जयशंकर ने श्रीलंका के वित्त मंत्री बासिल राजपक्षे से मुलाकात की है। दोनों देशों के बीच द्वीपीय राष्ट्र की आर्थिक स्थिति तथा वर्तमान विदेशी विनिमय संकट के दौरान भारत द्वारा दी गई सहायता पर चर्चा हुई है।

मालदीव की अपनी ‘‘सार्थक’’ यात्रा समाप्त करने के बाद विदेश मंत्री एस जयशंकर श्रीलंका के दौरे पर पहुंचे। वह चीन के बढ़ते प्रभाव के बीच सरकार के हिंद महासागर नीति सिद्धांत 'सागर' (क्षेत्र में सभी के लिए सुरक्षा और विकास) को बढ़ावा देने के लिहाजे से जयशंकर की इस यात्रा को अहम माना जा रहा है। एस जयशंकर ने श्रीलंका के वित्त मंत्री बासिल राजपक्षे से मुलाकात की है। दोनों देशों के बीच द्वीपीय राष्ट्र की आर्थिक स्थिति तथा वर्तमान विदेशी विनिमय संकट के दौरान भारत द्वारा दी गई सहायता पर चर्चा हुई है। एस जयशंकर मालदीव की दो दिवसीय यात्रा के बाद मंत्री रविवार शाम कोलंबो पहुंचे हैं और वो 30 मार्च तक श्रीलंका में रहेंगे।

इसे भी पढ़ें: भारत ने कहा- श्रीलंका मछुआरों के मामलों में बरते संयम

जयशंकर के राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे, प्रधान मंत्री महिंदा राजपक्षे और विदेश मंत्री जीएल पेइरिस से मुलाकात करने की उम्मीद है। वह बिम्सटेक (बहु-क्षेत्रीय तकनीकी और आर्थिक सहयोग के लिए बंगाल की खाड़ी पहल) के सदस्य देशों के वरिष्ठ अधिकारियों से भी मिलने वाले हैं। जयशंकर ने श्रीलंका में अपनी उच्च-स्तरीय बैठकें अपने वित्त मंत्री बेसिल राजपक्षे से मुलाकात करके अपनी बैठक की शुरुआत की। उन्होंने ट्वीट किया, “वित्त मंत्री बासिल राजपक्षे के साथ मुलाकात कर दौरे की शुरुआत की। आर्थिक स्थिति पर भारत की सहायता पर चर्चा की। हम पड़ोसी प्रथम की नीति पर चल रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: चीन की नेपाल पर बुरी नजर! श्रीलंका दौरा रोक पीएम मोदी से मिलने भारत आ रहे देउबा

बता दें कि जयशंकर का दौरा ऐसे समय हो रहा है जब संकट से निपटने में श्रीलंका सरकार की नाकामी के विरुद्ध लोग खुलकर बोल रहे हैं। वर्तमान आर्थिक संकट से उबारने के लिए भारत ने हाल में श्रीलंका को आर्थिक राहत पैकेज दिया था। जयशंकर मुख्य रूप से बिम्सटेक सम्मेलन में भाग लेने के लिए यहां आए हैं लेकिन अधिकारियों ने बताया कि वह श्रीलंका के नेताओं के साथ सभी महत्वपूर्ण द्विपक्षीय वार्ता में भाग लेंगे।